विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 28 दिसंबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 28 दिसंबर 2021

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 28 दिसंबर

राष्ट्र के निर्माण में कांग्रेस पार्टी की अहम भूमिका - विधायक शशांक भार्गव

  • गुलाबगंज में मना कांग्रेस का 137 वॉ स्थापना दिवस

vidisha news
विदिशा:- विदिशा विधानसभा क्षेत्र के कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने ब्लॉक कांग्रेस कमेटी गुलाबगंज के तत्वाधान में कांग्रेस पार्टी का 137 वॉ स्थापना दिवस गुलाबगंज में मनाया। कार्यक्रम की शुरूआत विधायक शशांक भार्गव द्वारा झंडाबंदन एवं राष्ट्रगान से हुई। विधायक भार्गव ने उपस्थित कार्यकर्ताओ पर पुष्प वर्षा कर उनका अभिनंदन किया। विधायक भार्गव सहित कांग्रेस पदाधिकारियो ने कांग्रेस पार्टी के सिद्धांत, मूल्यो कांग्रेस के योगदान और वर्तमान दौर में कांग्रेस की भूमिका को लेकर विचार विमर्श किया। कार्यकर्ताओ केा संबोधित करते हुए विधायक भार्गव ने कहा कि ब्रिटिश हुकूमत के समय भारत 562 से अधिक रियासतो में बंटा हुआ था। 1882 में कांग्रेस की स्थापना के बाद ही राष्ट्रव्यापी स्वतंत्रता संग्राम आंदोलन की शुरूआत हुई। महात्मा गांधी के कांग्रेस में आने के बाद स्वतंत्रता को लेकर कांग्रेस ने जन जागरण अभियान शुरू किया और लम्बे संघर्ष के बाद देश को आजादी मिली। प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू, गृहमंत्री सरदार बल्लभ भाई पटेल ने इस देश की रियासतो का विलय कर राष्ट्र के रूप में भारत का नक्शा बनाया। राष्ट्र निर्माण में कांग्रेस की अहम भूमिका रही है। आज जो भी उन्नति दिखाई देती है कांग्रेस की देन है। कांग्रेस महामत्री राकेश कटारे ने कहा कि 137 वर्षाें के बाद भी कांग्रेस पार्टी अपने मूल्यों और सिद्धांतो पर कायम है। कांग्रेस की सरकारो ने हमेशा देश के गरीब, कमजोर, मजदूर, किसान, अनुसूचित जाति, जनजाति, अल्प संख्यक वर्ग के लोगो के की तरक्की के लिए कई योजनाएं बनाई है। डॉ. शैलेन्द्र कटारिया ने विस्तार से कांग्रेस की स्थापना, कांग्रेस के संघर्ष और स्वतंत्रता आंदोलन में भागीदारी निभाने वाले कांग्रेस नेताआंे और स्वतंत्रता संग्राम आंदोलन के नायक दादा भाई नौरोजी, मोतीलाल नेहरू, डॉ, एनीबीसेंट, लाला लाजपत राय, पंडित मदन मोहन मालवीय, सरोजनी नायडू, सैफद्धीन किचलू, अबुल कलाम आजाद, डॉ. राजेन्द्र प्रसाद के योगदान से अवगत कराया। कार्यक्रम में उपस्थित अतिथियों नंदकिशोर शर्मा, बाबूलाल वर्मा, प्रकाश गुप्ता, अजय कटारे, नरेन्द्र रघुवंशी, जसवंत दांगी, दीवान किरार, गौरव दांगी, देवेन्द्र दांगी ने भी संबोधित करते हुए कांग्रेस के गौरवशाली इतिहास से अवगत कराया।  कार्यक्रम में प्रमुखरूप से भुपेन्द्र रघुवंशी, सुनील रघुवंशी, संतोष गुर्जर, बालमुकुन्द पाल, गंधर्व सिंह, संतोष शर्मा, थानसिंह दांगी, शेरा मालवीय, कल्याण सिंह, नरेन्द्र शर्मा, शैलेन्द्र दीक्षित, रिकू शर्मा, जगमोहन सोनी, चन्द्रपाल रघुवंशी, बाबू बडकूल, शैलेन्द्र दंागी, डॉ. विजय दांगी, अशोक ठाकुर, वीरेन्द्र राजपूत, विक्की रघवंशी, यशपाल रघुवंशी, गजेन्द्र दांगी, सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

मत्स्य पालकों को केसीसी जारी होंगे


मत्स्य पालकों के लिए मतस्य पालन क्रेडिट कार्ड योजनांतर्गत केसीसी बनवाने की सुविधा उपलब्ध की गई है। मत्स्योद्योग के सहायक संचालक संतोष दुबे ने जानकारी देते हुए बताया कि विदिशा जिले में मत्स्य पालन अंतर्गत मत्स्य पालन व्यवसाय में संलग्न विभिन्न विकास खण्डों के सभी वर्ग के महिला/पुरूष जन सामान्य व्यक्तियों के मत्स्य पालन केसीसी बनाये जाने हेतु आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। सहायक संचालक मत्स्योद्योग जिला विदिशा ने मत्स्य पालन केसीसी योजनांतर्गत वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए मत्स्य पालन समिति/समूह/मत्स्य पालनकर्ता स्वतंत्र व्यक्ति एवं जलाशय पट्टाधारक व निजी तालाब धारक व्यक्ति एवं प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना अंतर्गत मत्स्य पालनकर्ता व्यक्तियों से जन सामान्य महिला/परूष (सभी वर्ग के व्यक्ति) से जिला विदिशा अंतर्गत मत्स्य पालन की विभिन्न गतिविधियों में संलग्न एवं इच्छुक व्यक्तियों से मत्स्य पालन केसीसी बनाये जाने हेतु विशेष अभियान मत्स्य पालन केसीसी स्पेशल कैम्पेन अंतर्गत मत्स्य पालन केसीसी बनाये जाने के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। तत्संबंध में मत्स्य पालनकर्ता अपना आवेदन मत्स्य विभाग में सहायक संचालक मत्स्योद्योग विदिशा के कार्यालय में कार्यालयीन समय में प्रस्तुत कर सकते हैं। 


जेम क्रय सामग्री के लंबित भुगतान के संबंध में निर्देश


कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव द्वारा जारी पत्र में Gem [Government e-Marketplace]  के माध्यम से क्रम सामग्रियों के लंबित भुगतान के संबंध में समस्त कार्यालय प्रमुखों को दिशा निर्देश प्रसारित किए गए हैं। कलेक्टर श्री भार्गव द्वारा जारी पत्र में उल्लेख किया गया है कि मुख्य सचिव, मध्यप्रदेश शासन को प्रेषित मुख्य कार्यपालन अधिकारी, भारत सरकार, वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय गवरमेंट ई-मार्केटप्लेस नई दिल्ली के निर्देशानुसार जिन शासकीय कार्यालयों में क्रम सामग्री का छः माह से अधिक के भुगतान लंबित हैं, तथा कई प्रकरणों में ऑफ लाईन पेमेंट कर दिया गया है। किन्तु किये गये भुगतान की जानकारी जेम पोर्टल पर अपडेट नहीं की गई है। आफ लाईन भुगतान को अपडेट करने के लिए जेम द्वारा नई वल्क पेमेंट अपडेशन फेसिलिटी पर तैयार की गई है। जिस पसर वायर द्वारा भुगतान की स्थिति एक्सेल सीट के माध्यम से अपलोड किया जाना है। जिले के समस्त विभाग जेम पोर्टल के माध्यम से किये गए क्रय के लंबित भुगतान समयावधि में सुनिश्चित कर आफलाइन भुगतान वल्क अपडेशन फेसिलिटी के अनुसार अनिवार्य रूप से अपडेट करें। 


फोस्टेक योजना अन्तर्गत खाद्य कारोबारियों के लिए प्रशिक्षण


खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम 2006 के तहत सभी केन्द्रीय और राज्य लायसेंस प्राप्त खाद्य कारोबारकर्ताओं के लिए ऑनलाईन फोस्टेक ट्रेनिंग आयोजित किए जाने के संबंध में निर्देश दिए गए हैं। खाद्य सुरक्षा प्रशासन अभिग्रहित अधिकारी ने बताया कि भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (भारत सरकार) FSSAI नई दिल्ली द्वारा खाद्य व्यवसाय करने वाले विभिन्न खाद्य कारोबारकर्ता को प्रशिक्षण करने हेतु FOSTAC योजना आरंभ की गई है। समस्त खाद्य कारोबारकर्ताओं को प्रशिक्षण लेना अनिवार्य है। उक्त प्रशिक्षण FSSAI नई दिल्ली द्वारा निर्धारित ऐजेंसियों द्वारा दिया जाना है। उक्त प्रशिक्षण से संबंधित अधिक जानकारी के लिए Fssai.gov.in से प्राप्त की जा सकती है। 


जनसुनवाई में आवेदकों की समस्याओं का निराकरण 


vidisha news
कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव के मार्गदर्शन में आज मंगलवार को आहुत की गई जनसुनवाई कार्यक्रम में आमजनों ने अपनी व्यक्तिगत व सार्वजनिक समस्याओं से संबंधित आवेदन विभागों के अधिकारियों को प्रस्तुत करते हुए ध्यान आकर्षित कराया है। जनसुनवाई कार्यक्रम की नोडल अधिकारी व डिप्टी कलेक्टर श्रीमति आरती यादव तथा जिला पंचायत के अतिरिक्त सीईओ श्री दयाशंकर सिंह के अलावा विभिन्न विभागों के अधिकारियों ने जिला पंचायत के सभागार कक्ष में आवेदकों से प्राप्त होने वाले आवेदनों पर कार्यवाही कर उन्हें मौके पर लाभान्वित कराने के सफल प्रयास किए हैं। जनसुनवाई कार्यक्रम के नोडल अधिकारी श्रीमति यादव ने बताया कि आज सम्पन्न हुई जनसुनवाई कार्यक्रम में 36 आवेदकों के द्वारा आवेदन प्रस्तुत किए गए थे। जिनमें से मौके पर 12 आवेदनों का निराकरण संबंधित विभागों के अधिकारियों के द्वारा किया गयाहै। शेष लंबित आवेदनों पर कार्यवाही कर अवगत कराने के साथ साथ उत्तरा पोर्टल पर समुचित जानकारी दर्ज कराने के निर्देश उल्लेखित विभागों के अधिकारियों को दिए गए हैं


टीएल बैठक अब प्रति सोमवार को 11 बजे से


अपर कलेक्टर श्री वृंदावनसिंह ने बताया कि लंबित आवेदनों की समीक्षा बैठक अब प्रति सोमवार को 11 बजे से शुरू होगी। गौरतलब हो कि पूर्व में यह बैठक नियत दिवस को प्रातः साढ़े दस बजे से शुरू होती थी। के समय में अब परिवर्तन किया गया है। जिसके अनुसार नवीन कलेक्ट्रेट के सभागार कक्षमें टीएल बैठक 31 मार्च 2022 तक प्रति सोमवार को प्रातः 11 बजे से शुरू होगी। अपर कलेक्टर श्री सिंह ने सर्वसंबंधित जिला अधिकारियों को टीएल बैठक में नियत दिवस समय पर उपस्थित होने के निर्देश प्रसारित किए गए हैं। 


त्रिस्तरीय पंचायत मतदान कार्मिकों का द्वितीय प्रशिक्षण


अपर कलेक्टर एवं प्रशिक्षण प्रकोष्ठ के नोडल अधिकारी श्री वृंदावनसिंह ने बताया कि त्रिस्तरीय पंचायत आम निर्वाचन 2021 हेतु विदिशा एवं बासौदा विकासखण्डों में नियुक्त मतदान कार्मिक (मतदान दलोंवार) का द्वितीय प्रशिक्षण 29, 30 एवं 31 दिसम्बर 2021 को दो-दो सत्रों में आयोजित किया गया है। जारी कार्यक्रम अनुसार प्रथम सत्र प्रातः 10 बजे से 1 बजे तक तथा द्वितीय सत्र दोपहर 2 बजे से 5 बजे तक आयोजित किया जाएगा। विदिशा विकासखण्ड के मतदान कर्मियों हेतु नियत तिथियों पर प्रशिक्षण एसएटीआई डिग्री कॉलेज के कक्षों में आयोजित की गई है। इसी प्रकार बासौदा विकासखण्ड के मतदानकर्मियों हेतु द्वितीय चरण का प्रशिक्षण एलबीएस कॉलेज बासौदा में आयोजित किया गया है। अपर कलेक्टर श्री वृंदावनसिंह ने विदिशा एवं गंजबासौदा के तहसीलदार एवं रिटर्निंग ऑफिसरों को पत्र प्रेषित कर प्रशिक्षण के संबंध में आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराते हुए प्रशिक्षण के आयोजन संबंधी कार्यों के संपादन उपरांत समुचित जानकारी से उप जिला निर्वाचन कार्यालय को अवगत कराने के भी निर्देश प्रसारित किए गए हैं।


15 से 18 वर्ष के बच्चों के टीकाकरण के लिए हुई बैठक


विदिशा जिले में 15 से 18 आयुवर्ग के स्कूली बच्चों के लिए टीकाकरण कार्यकम का आयोजन उनकी शैक्षणिक संस्थाओं में तीन जनवरी से शुरू होगा। आयोजन पूर्व किए जाने वाले प्रबंधों माइक्रोप्लान के संबंध में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एपी सिंह के द्वारा दिए गए निर्देशानुसार जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ डीके शर्मा के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में आवश्यक बैठक कर आवश्यक मुद्दों पर चर्चा कर अंतिम रूप दिया गया है। उक्त बैठक में 15 से 18 वर्ष तक के बच्चों को किए जाने वाले कोविड-19 टीकाकरण के संबंध में कक्षा 9 से 12 तक के जिले में कितने शासकीय, अशासकीय स्कूल हैं एवं उनमें कितने अध्ययनरत छात्र-छात्राएं हैं के संबंध में जानकारी उपलब्ध कराने के संबंध में चर्चा हुई ताकि शीघ्र ही माइक्रोप्लान बनाया जा सके। 


बलराम तालाब के लिए आवेदन आमंत्रित


ऐसें किसान जिन्होंने कृषि विभाग या उद्यान विभाग से वर्ष 2017 से अभी तक स्प्रिंकलर सेट अनुदान का लाभ लिया गया है। वह कृषक बलराम तालाब अनुदान के लिये पात्र है। ऐसें कृषक अपने खेत में बलराम तालाब अनुदान पर बनवाकर सिंचाई कर सकते हैं। इसके लिए जिले के विकासखण्ड वार लक्ष्य निर्धारित कर संबंधित कृषकों से आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के उप संचालक श्री पीके चौकसे ने विकासखण्ड वार बलराम तालाब के लक्ष्य के संबंध में बताया कि विदिशा विकासखण्ड में 21, बासौदा 22, ग्यारसपुर 11, नटेरन 12, सिरोंज 10, कुरवाई 8 एवं लटेरी 8 बलराम तालाबों का खनन लक्ष्य निर्धारित किया गया हैं। अतः संबंधित विकासखण्ड के ऐसे कृषकों जिन्होंने एमपी कृषि डीबीटी पोर्टल ¼dbt.mpdage.org½ पर पंजीयन कराया है, वह कृषक अपने विकासखण्ड के वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी से संपर्क कर आवेदन प्रस्तुत करें, ताकि उनकी स्वीकृति की कार्यवाही की जा सके। एमपी कृषि डीबीटी पोर्टल अभी खुला है, जो कृषक बलराम तालाब हेतु पंजीयन कराना चाहते हैं वह पंजीयन करा सकते हैं। पहले आएं पहले पाएं के आधार पर लक्ष्यानुसार स्वीकृति प्रदाय की जायेगी। योजना प्रावधान अनुसार बलराम तालाब योजना के अंतर्गत सामान्य श्रेणी के कृषकों को रू. 80 हजार एवं अजा/अजजा वर्ग के कृषकों के लिए रू. एक लाख रूपए की पात्रता का प्रावधान है।


स्वस्थ्य बालक, बालिका स्पर्धा कार्यक्रम आयोजन


8 जनवरी 2022 से 14 जनवरी 2022 की अवधि में आयोजित स्वस्थ्य बालक, बालिका स्पर्धा कार्यक्रम का आयोजन किया जाना सुनिश्चित किया गया है। भारत सरकार महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के निर्देशानुसार समुदाय की स्वस्थ्य एवं पोषण विषयों पर भागीदारी एवं सुपोषित भारत के लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में देश में ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में स्वस्थ्य बालक, बालिका स्पर्धा आयोजन के संबंध में निर्देश दिए गए हैं। आयोजन का मुख्य उद्देश्य आंगनबाड़ी सेवाओं से छूटे क्षेत्र के 06 वर्ष तक की आयुवर्ग के बच्चों को भी अभियान अन्तर्गत सम्मिलित कर समाज के सभी वर्गों और क्षेत्रों में बच्चों के पोषण के प्रति परिवार एवं समुदाय को जागरूक करना एवं स्वस्थ रहने हेतु परिवार एवं बच्चों में स्पर्धा को बढ़ावा देना है। स्वस्थ बालक-बालिका स्पर्धा के सफल आयोजन हेतु निर्देश दिए गए हैं कि जिला, परियोजना, सेक्टर एवं ग्राम/शहरी वार्ड वार हितग्राहियों के अधिकतम पंजीयन हेतु सूक्ष्म कार्ययोजना तैयार की जाए।


समन्वय समिति का गठन एवं नियमित बैठक-

समन्वय समिति स्पर्धा आयोजन की प्रारम्भिक तैयारियों की समीक्षा करते हुए स्पर्धा आयोजन की दिवस वार प्रगति की भी समीक्षा करेगी तथा प्रतिदिन की प्रगति के आधार पर आवश्यकता अनुसार कार्यवाही सुनिश्चित करेगी। जिले में ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र हेतु निम्नानुसार समन्वय समितियों का गठन किया जाएगा। ग्रामीण क्षेत्रों में आयोजन के क्रियान्वयन हेतु मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत के नेतृत्व में नोडल विभाग के रूप में महिला एवं बाल विकास विभाग तथा सहयोगी विभाग के रूप में पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग, स्कूल शिक्षा विभाग, आदिम जाति कल्याण विभाग को मुख्य रूप से सम्मिलित करते हुए अन्य विभागों को आवश्यकता अनुसार जोड़ा जाकर समन्वय समिति का गठन किया जाए। इसी प्रकार परियोजना स्तर पर अनुविभागीय अधिकारी की अध्यक्षता में विभिन्न विभागों की समन्वय समिति का गठन किया जाना आपेक्षित है। शहरी क्षेत्र हेतु समन्वय समिति का गठन एवं बैठक- जिला अंतर्गत शहरी क्षेत्रों में आयोजन के क्रियान्वयन हेतु आयुक्त नगर निगम/मुख्य नगर पालिका/परिषद अधिकारी के नेतृत्व में नोडल विभाग के रूप में महिला एवं बाल विकास विभाग तथा सहयोगी विभाग के रूप में नगरीय विकास एवं आवास, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग, स्कूल शिक्षा विभाग को मुख्य रूप से सम्मिलित करते हुए अन्य विभागों को आवश्यकता अनुसार जोड़ा जाकर समन्व्य समिति का गठन किया जावे।


प्रारंभिक तैयारी-

ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों हेतु पृथक से सूक्ष्म कार्ययोजना तैयार की जाकर आंगनबाड़ी क्षेत्र/ग्राम/शहरी वार्ड वार अनुनित जन्म से 6 वर्ष आयु वग्र के बच्चों की संख्या का आंकलन एवं उसके अनुसार दिवसवार लक्ष्य निर्धारण कर कार्रवाई की जाए। अनकवर्ड क्षेत्र के लिए विभिन्न शासकीय संस्थाओं एवं अशासकीय संस्सथाओं के समन्वय से उन्हे शारीरिक माप ऐजेंसी नामांकित कर जिला कार्यक्रम अधिकारी के लॉगिन से पोषण टै्रकर एप में पंजीकृत कर उनके सहयोग हेतु क्षेत्रों का निर्धारण कर बच्चों के शारीरिक माप हेतु जिम्मेदारी निर्धारित की जावे। बच्चों के शारीरिक माप हेतु आवश्यक उपकरण इंफेंटोमीटर, स्टेडियोमीटर एवं सॉल्टर स्केल आदि की केंद्रवार उपलब्धता का आंकलन किया जावे तथा ऐसे केन्द्र जहां पर उपकरण उपलब्ध नहीं है अथवा क्रियाशील नहीं है उन केंद्रों के लिए नजदीकी आंगनबाड़ी केंद्र से उपलकरण साझा किये जाने की व्यवस्था एवं समय निर्धारण किया जाना चाहिए। जिलों में कार्यरत सहयोगी संस्थाओं से आवश्यकतानुसार उपकरण इंफेंटोमीटर स्टेडियोमीटर एवं सॉल्टर स्केल आदि उपलब्ध कराये जाने हेतु समन्वय किया जावे। ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र में आंगनबाड़ी क्षेत्र की प्रत्येक मोहल्ले/पारे/टोले-मजरे/वार्ड आदि के लिए सहयोगिनी मातृ समिति, दीनदयाल अंत्योदय समिति, जन अभियान परिषद द्वारा गठित प्रस्फुटन समिति, महिला स्व सहायेता समूह, शाला प्रबंधन समिति, संयुक्त वन प्रबंधन समिति, शौर्यादल आदि के सदस्यों को सम्मिलित करते हुए सहयोगी दलों का गठन किया जाना चाहिए जिले में कार्यरत विभिन्न अशासकीय संस्थानों यथा लायंस क्लब, रोटरी क्लब, इंडियन मेडीकल ऐसोसिएशन, पीडियाट्रिक ऐसोसिएशन, विभिन्न रहवासी समितियां, क्लबों, मीडिया हाउस, चम्बर्स इत्यादि के साथ बैठक आयोजित कर उन्हें क्षेत्र आवंटित करना तथा बच्चों को पुरस्कृत/उपहार प्रदाय करना आदि कार्य सौंपना। जिलों हेतु आवंटित सहयोगी संस्थाओं के सहयोग से आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं तथा अन्य नामांकित माप ऐजेंसियों का शारीरिक माप लेने हेतु प्रशिक्षण अनिवार्यतः कराया जाए। परिवार को आंगनबाड़ी केन्द्र की सूक्ष्म कार्ययोजना के अनुसार बच्चों के शारीरिक माप हेतु निर्धारित दिवस और समय तथा स्थान से अवगत कराया जाए। शहरी एवं अनकवर्ड क्षेत्र हेतु स्कूल शिक्षा विभाग, स्वास्थ्य विभाग तथा आदिम जाति कल्याण विभाग के साथ समन्व्य विशेष शिविर अथवा स्वास्थ्य शिविरों के आयोजन की ग्रामवार/शहरी वार्ड वार कार्ययोजना तैयार की जाए।


कार्यक्रम का क्रियान्वयन-

स्वस्थ्य बालक-बालिका स्पर्धा का प्रारम्भ दिनांक 08 जनवरी 2022 को समारोह पूर्व किया जाए तथा प्रथम दो दिवस 8 एवं 9 जनवरी की प्रातः 9 बजे से शाम 5 बजे के मध्य आंगनबाड़ी पर ही बच्चों का शरीरिक माप किया जाए। दिनांक 10 से 14 जनवरी तक प्रतिदिन सुबह 9 बजे से 1 बजे तक केन्द्र स्तर पर बच्चों का शरीरिक माप किया जाए तथा टोले/मजरे/अनकवर्ड क्षेत्र के छूटे हुये बच्चों का शरीरिक माप हेतु हितग्राही के घर-घर जाकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं सहयोगी संस्थाओं द्वारा पोषण दस्तक दी जाए। शहरी क्षेत्र में जो आंगनबाड़ी केन्द्र के बाहर हैं उनमें प्रत्येक कॉलोनी/हाउसिंग सोसायटी में घर-घर जाकर जन्म से 6 वर्ष की आयुवर्ग के बच्चों का शरीरिक माप हेतु विशेष कार्ययोजना तैयाकर कर कवरेज सुनिश्चित करना। इस अभियान के दौरान समस्त कार्यकर्ताओं/दलों को कोविड-19 संक्रमण से बचाव के प्रोटोकॉल का अनिवार्यतः पालन करने हेतु निर्देशित करें। परियोजना अधिकारी द्वारा पर्यवेक्षक के माध्यम से प्रत्येक दिन के आयोजन उपरान्त आंगनबाड़ी केन्द्रवार शारीरिक माप लिए गये बच्चों की संख्या का केन्द्र हेतु निर्धारित लक्ष्य के विरूद्ध समीक्षा की जावे। कम उपलब्धि वो केन्द्र हेतु विशेष कार्ययोजना तैयार कर शत-प्रतिशत बच्चों के शारीरिक माप को सुनश्चित किया जाकर शारीरिक माप के आंकड़ों की प्रविष्टी की जाए। अनकवर्ड क्षेत्र के बच्चों को स्पर्धा में सम्मिलित होने के लिए प्रोत्साहित करने हेतु जन सहयोग से बच्चों को पौष्टिक खाद्य सामग्री/गुब्बारे/खिलौने आदि प्रदान किया जाए। स्कूल शिक्षा विभाग, स्वास्थ्य विभाग तथा आदिम जाति कल्याण विभाग के साथ समन्वय विशेष शिविर अथवा स्वास्थ्य शिविरों के आयोजन की ग्रामवार/शहरी वार्ड वार कार्ययोजना तैयार किया जाए। 


स्पर्धा के संबंध में व्यापक प्रचार-प्रसार हेतु मीडिया कार्ययोजना

स्पर्धा आयोजन एवं उसके व्यापक प्रचार-प्रसार हेतु स्थानीय प्रभावशाली व्यक्तियों को सम्मिलित कर उनके माध्यम से प्रचार-प्रसार किया जाए। जिला स्तर पर स्थानीय मीडिया प्रतिनिधियों को सम्मिलित करते हुए स्थानीय प्रिन्ट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के माध्यम से व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए। जिला, परियोजना तथा सेक्टर स्तर से आंगनबाडी केन्द्र स्तर पर आयोजित होने वाले स्पर्धा संबंधित गतिविधियों का प्रतिदिन फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यू-ट्यूब आदि के माध्यम से प्रसारण किया जायें। सहयोगी दल के सहयोग से आंगनबाडी कार्यकर्ता तथा सहायिका द्वारा स्पर्धा में बच्चों की उपस्थिति हेतु समुदाय के मध्य व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाये। आंगनबाडी कार्यकर्ता द्वारा सहयोगी दल के सहयोग से सभी परिवार को पीले चावल देकर 8 से 14 जनवरी के दौरान जन्म से 06 वर्ष की आयु वर्ग के सभी बच्चों को शारीरिक माप हेतु आमंत्रित किया जायें। स्वस्थ बालक, बालिका स्पर्धा आयोजन के संबंध में एक जनवरी 2022 से प्रतिदिन स्थानीय स्तर के धार्मिक स्थलों पर होने वाले प्रार्थनाओं में जन समुदाय को कार्यक्रम आयोजन की तिथियों एवं स्थान से अवगत कराया जाए।


रिपोर्टिंग/पोषण ट्रेकर एप में आंकडो की प्रविष्टि

प्रत्येक दिवस के दौरान किए गए शारीरिक माप की आंकडो की उसी दिवस में पोषण ट्रेकर एप पर प्रविष्टि की पर्यवेक्षक द्वारा प्रतिदिन केन्द्रवार समीक्षा की जायें। जिन केन्द्रो, क्षेत्रों में प्रविष्टि कम हुई उनके लिए एप पर प्रविष्टि हेतु सहयोगी संस्थाओं, जन अभियान परिषद के प्रस्फुटन समिति, शौर्या दल एवं अन्य समूहों के सदस्यों की मदद ली जायें। प्रति दिवस हेतु केन्द्रवार निर्धारित लक्ष्य के विरूद्ध अनुमानित संख्या के विरूद्व शारीरिक माप लिए गए बच्चों की गणना कर प्रतिदिन की कार्यक्रम की प्रगति की समीक्षा की जायें। प्रत्येक स्तर पर आयोजित की गई गतिविधियों का प्रतिदिन वाट्सएप के माध्यम से जानकारियों को अद्यतन किया जायें।


मॉनिटरिंग/निगरानी

पंचायत एवं ग्रामीण विकास, स्वास्थ्य, स्कूल शिक्षा, आदिम जाति कल्याण एवं नगरीय विकास एवं आवास विभाग के पर्यवेक्षण हेतु निर्धारित अमले को सम्मिलित करते हुए प्रत्येक दिवस एवं प्रत्येक ग्राम एवं शहरी वार्ड निगरानी भ्रमण रूटचार्ट तैयार कर उसका पालन सुनिश्चित किया जायें। सेक्टर पर्यवेक्षक द्वारा उसके क्षेत्र हेतु निर्धारित अन्य पर्यवेक्षण अमले से समन्वय का प्रति दिवस के प्रगति का संकलन किया जायें। सेक्टर प्रति दिवस के कार्यक्रम का रूटचार्ट तैयार कर अधिक जनसंख्या वाले आंगनबाडी केन्द्रो एवं दूरस्थ क्षेत्र वाली आंगनबाडी केन्द्रो पर अनिवार्य भ्रमण कर कार्यकर्ता तथा शारीरिक माप हेतु निर्धारित एजेन्सी प्रतिनिधियों को आवश्यक सहयोग दिया जायें।


प्रोत्साहन

भारत सरकार द्वारा निर्धारित जन्म से 06 वर्ष आयुवर्ग के बच्चों के संभावित लक्ष्य के विरूद्ध श्रेष्ठ उपलब्धि वाले संभाग, जिले, परियोजना, सेक्टर एवं आंगनबाडी केन्द्रो को स्वस्थ बालक, बालिका स्पर्धा के प्रभावी क्रियान्वयन हेतु राज्य स्तर से भी पुरस्कृत किया जायेगा।


नागरिकों को कोरोना संक्रमण से बचाव के उपायों को व्यवहार में लाने की अपील


मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एपी सिंह ने बताया कि कोरोना वायरस विशेषतः ओमिक्रॉन की आशंका के दृष्टिगत संक्रमण से बचने के लिये सावधानियां रखना अतिआवश्यक है और कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिये हमे अपने व्यवहार में अनुकूल परिवर्तन लाना भी आवश्यक है। नागरिक बार-बार अपनी आंख, नाक और मुंह को छूनें से बचें, दूर से अभिवादन करें न किसी से हाथ मिलायें, न गले मिले, आपस में दो गज की दूरी जरूर रखें। घर से बाहर निकलने पर हमेशा मास्क पहनें। खांसते और छींकते समय अपने मुंह तथा नाक को ढंककर रखे। श्वसन संबंधी शिष्टाचार का पालन करें। बार-बार साबुन तथा पानी अथवा अल्कोहलयुक्त सेनीटाईजर से हाथों को धोयें। सार्वजनिक स्थानों पर न थूकें, तंबाकू, गुटका खैनी पान आदि खाकर यहां-वहां न थूकें। सीएमएचओ डॉ. एपी सिंह ने कहा कि बार-बार छुए जाने वाली सतहों को नियमित रूप से विसंक्रमित करें। अनावश्यक यात्रा से बचें। कोरोना को लेकर किसी से भेदभाव न करें। अनावश्यक भीड़भाड़ इकट्ठा न होने दें। अफवाहों पर ध्यान न दें और सोशल मीडिया पर किसी भी अपुष्ट जानकारी को प्रसारित न करें। सूचना के भरोसेमंद स्त्रोतों से ही जानकारी लें। आपस में सभी एक-दूसरे को मनोवैज्ञानिक रूप से सहयोग प्रदान करें।  


बच्चों के लिए आयोग ने ’’संवेदना’’ नाम से टोल फ्री टेली काउंसलिंग शुरू की


कोरोना संक्रमण के चलते मानसिक रूप से प्रभावित हो रहे बच्चों के लिए बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने नई पहल की है। आयोग ने ’’संवेदना’’ नाम से टोल फ्री टेली काउंसलिंग शुरू की है। इसके लिए टोल फ्री नम्बर 1800-1212-830 जारी किया गया है, जिस पर बच्चे कॉल कर विशेषज्ञों से बात कर अपनी समस्या का समाधान पा सकते हैं। कोविड-19 के दौरान 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य पर गहरा असर पड़ा है। ऐसे बच्चे टोल फ्री नम्बर पर सुबह 10 से 1 बजे तक और दोपहर 3 से रात्रि 8 बजे तक सोमवार से शनिवार तक अपनी समस्याओं पर विषय विशेषज्ञों, काउंसलर से बात कर सकते हैं। 


एम-राशन मित्र एप  बहुउपयोगी


खाद्य सुरक्षा योजना से लाभान्वित परिवारों का सत्यापन किया जा रहा है। तैनात कर्मचारियों द्वारा घर-घर जाकर एम-राशन मित्र एप के माध्यम से सत्यापन किया जा रहा है। प्रत्येक उपभोक्ता गूगल प्ले स्टोर से इस एप को स्टाल कर सकते हैं। इसके माध्यम से उपभोक्ता अपनी पात्रता की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। इस एप में परिवार की समग्र आईडी से लॉगिन करने पर खाद्यान्न की पात्रता, पात्रता पर्ची के अनुसार परिवार के सदस्यों की जानकारी तथा परिवार प्रोफाइल की जानकारी प्राप्त की जा सकती है। इसके माध्यम से आसपास की उचित मूल्य दुकान पीओएस मशीन की स्थिति, दुकान को खाद्यान्न आवंटन एवं वितरण की भी जानकारी प्राप्त की जा सकती है। शासन द्वारा खाद्यान्न वितरण के संबंध में दी जाने वाली सूचनाओं और सुविधाओं के लिए भी एम-राशन मित्र एप बहुत उपयोगी है। 


वित्त पोषण नहीं करने वाली बैंको के वरिष्ठ कार्यालय से पत्राचार करें-कलेक्टर

  • सिरोंज की यूनियन बैंक शाखा को बंद कराने का प्रस्ताव पारित

कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव की अध्यक्षता में सोमवार को विशेष डीएलसीसी की बैठक आयोजित की गई थी। जिसमें सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया कि हितग्राहीमूलक योजनाओं के प्रकरणों में स्वीकृति उपरांत संबंधित बैंक शाखा के द्वारा वित्त पोषण की कार्यवाही नही की जाती है तो उन बैंको के वरिष्ठ कार्यालय को अवगत कराते हुए शासकीय योजनाओं के प्रति बैंक की रवैये से अवगत कराया जाए। इसी प्रकार सिरोंज तहसील में संचालित यूनियन बैंक के द्वारा गतवर्ष के स्वीकृत 58 प्रकरणों में तथा इस वर्ष के पांच प्रकरणों में अब तक वित्त पोषण की कार्यवाही हितग्राहियों को नही करने तथा हितग्राहियों को बैंक में बार-बार बुलाए जाने के बावजूद योजनाओं के क्रियान्वयन लक्ष्यपूर्ति में प्रत्यक्ष रूप से असहयोग परलिक्षित होने पर उल्लेखित बैंक की शाखा को सिरोंज में बंद कराने का प्रस्ताव पारित किया गया है जिससे उनके वरिष्ठ कार्यालय को भी अवगत  कराते हुए अन्य बैंक की शाखा की सेवाएं शीघ्र शुरू कराने का निर्णय लिया गया है। कलेक्टर श्री भार्गव ने समस्त बैंकर्स प्रतिनिधियों से स्पष्ट सचेत करते हुए कहा कि बैंक के द्वारा हितग्राही प्रकरणों में स्वीकृति देने के उपरांत वित्त पोषण नही करना अमानवीय, असंवेदनशीलता का प्रतीक है। अतः बैंकर्स शाखा की साख में वृद्धि के लिए ऐसी कार्यप्रणाली कदापि ना अपनाएं। उन्होंने कहा कि महिला स्व-सहायता समूहों की स्थिति में सुधार लाने के लिए शासन प्रशासन कृत संकल्पित है इस कार्य में बैंक का रोडा जिले में स्वीकार नही किया जाएगा। उन्होंने स्पष्ट चेतावनी देते हुए कहा कि ऐसी बैंक शाखाए जिनके द्वारा हितग्राहीमूलक योजनाओं में रूचि प्रदर्शित नही की जाएगी उन बैंको की कार्यप्रणाली से रिजर्व बैंक को भी अवगत कराया जाएगा। कलेक्टर श्री भार्गव ने सभी बैंको के प्रतिनिधियों से कहा कि प्रशासन को कठोर कार्यवाही करने हेतु विवश ना करें। वित्तीय वर्ष समाप्ति के शेष दो माह के पूर्व जिन प्रकरणों में स्वीकृति प्रदाय की गई है उनमें शत प्रतिशत वित्त फायनेंस कराया जाना सुनिश्चित करें। बैठक में बैंकवार हितग्राहीमूलक योजनाओं के स्वीकृत ओर वितरण की समीक्षा की गई। नवीन कलेक्ट्रेट के बेतवा सभागार कक्ष में आयोजित इस बैठक में हितग्राहीमूलक योजनाओं को क्रियान्वित कराने वाले विभागो के अधिकारियों को बैंको से समन्वय स्थापित कर वित्त पोषण की कार्यवाही सुनिश्चित कराते हुए लक्ष्य से अधिक प्रकरण बैंको को प्रेषित करें वहीं स्वीकृत और वितरण के अनुपात में अंतर ना रहें साथ ही हितग्राहियों को स्वीकृत ऋण उसी वित्तीय वर्ष में उपलब्ध कराया जाए इस ओर पहल करने के संबंध में भी आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए है। विदिशा जिले में भी 12 जनवरी को प्रदेशव्यापी स्वरोजगार दिवस का आयोजन किया जाएगा। इस दिन सीएम स्ट्रीट वेण्डर योजना, पीएम स्ट्रीट वेण्डर योजना, पीएम स्वनिधि योजना सहित अन्य हितग्राहीमूलक योजनाओं के हितग्राहियों को वित्त पोषण की कार्यवाही बडे पैमाने पर क्रियान्वित की जानी है। राज्य शासन द्वारा स्व-रोजगार को प्रोत्साहन देने हेतु महत्वकांक्षी मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना प्रारंभ की गई है। जिसका मुख्य उद्धेश्य युवाओं को स्वरोजगार से जोड़ना है। अतः प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन, राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के साथ-साथ अन्य स्वरोजगार योजनाओं के सफल क्रियान्वयन हेतु योजनाओं से जुडे़ शासकीय ऐजेन्सियों से समन्वय स्थापित कर व्यापक आयोजित सुनिश्चित किया जाना है। ततसंबंध में विस्तृत जानकारी इस दौरान सभी को उपलब्ध कराई गई है। उक्त बैठक में जिला पंचायत सीईओ डॉ योगेश भरसट के अलावा विभिन्न विभागो के अधिकारी, लीड बैंक आफीसर श्री चन्द्रशेखर के अलावा विभिन्न बैको के शाखा प्रबंधक मौजूद रहें। 


सफाईकर्मियों की समस्याओं का समाधान शीघ्र होगा


vidisha news
कलेक्टर एवं विदिशा नगरपालिका के प्रशासन श्री उमाशंकर भार्गव ने आज निकाय के सफाई अमले की समस्याओं को सुना। उन्होंने मौके पर मौजूद मुख्य नगरपालिका अधिकारी को बाजिव समस्याओं के निदान हेतु त्वरित पहल करने के निर्देश दिए है। बैठक में विदिशा नगरपालिका के सफाईकर्मी के संबंध में जिन ऐजेण्डा बिन्दुओं पर चर्चा कर निर्णय लिए गए है उनमें संविदा कर्मचारियों को मानदेय बढाए जाने हेतु आवश्यक बजट प्रावधान उपरांत यथोचित निर्णय लिया जाकर संकल्प पारित किया जाकर आवश्यक कार्यवाही की जाए। सातवां वेतनमान की जो अंतिम किश्त बनाई गई है उसकी तीसरी अंतिम किश्त का भुगतान नियमानुसार जनवरी माह में किया जाए इसी प्रकार कर्मचारियों को वर्दी जनवरी में वितरण कराया जाना सुनिश्चित हो। नवीन सफाई कामगारो की भर्ती के संबंध में आवश्यक प्रक्रिया का क्रियान्वयन नियमनुसार करने पर भी सहमति व्यक्त की गई है। उपरोक्त बैठक में अखिल भारतीय सफाई मजदूर कांग्रेस के राष्ट्रीय महामंत्री श्री राजेश कटारे, प्रदेश संगठन मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह चौहान तथा जिलाध्यक्ष श्री कमल खरे के अलावा मुख्य नगरपालिका अधिकारी श्री सुधीर सिंह सहित निकाय के अन्य अधिकारी कर्मचारी मौजूद रहें।

कोई टिप्पणी नहीं: