बिहार : 20-20 एकड़ के कल्सटर में करायी गई है लेमन ग्रास की खेती - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 25 दिसंबर 2021

बिहार : 20-20 एकड़ के कल्सटर में करायी गई है लेमन ग्रास की खेती

lemon-grass-farming-bihar
गया। विशेष केन्द्रीय सहायता योजना से गया जिला के पाँच प्रखण्डों बाराचट्टी, डोभी, बांकेबाजार, इमामगंज एवं कोंच में 20-20 एकड़ के कल्सटर में जिला प्रशासन, गया द्वारा उद्यान विभाग की देखरेख में लेमनग्रास की खेती करायी गई है। इसी वर्ष 22 जुलाई को जिला पदाधिकारी, गया श्री अभिषेक सिंह की देखरेख में लेमनग्रास की खेती की शुरुआत बाराचट्टी प्रखण्ड के जयगीर पंचायत के अंजनियाटाॅड गाॅव मे श्रीमती मंजू देवी के खेत में की गई थी। यह गाव जी॰टी॰ रोड के दक्षिण में जंगलो के बीच स्थित है। जिला प्रशासन द्वारा न सिर्फ लेमनग्रास की खेती के लिये पौध सामग्री उपलब्ध करायी गई, अपितु लेमनग्रास का तेल निकालने के लिये 12 लाख रुपये की लागत से आसवन यंत्र भी स्थापित कराया गया है।  आज जिला पदाधिकारी स्वयं लेमनग्रास से निकाले जा रहे तेल का निरीक्षण करने अंजनियाटाॅड गाॅव पहुंचे और विस्तार से मशीन के सभी पहलुओं पर चर्चा किया। महिला किसान मंजू देवी के पति श्री गोविन्द ने जिला पदाधिकारी की उपस्थिति में लेमनग्रास की पत्तियों को मशीन में डालकर तेल निकालकर प्रदर्शित किया। जिला पदाधिकारी को उद्यान विभाग से विशेषज्ञ श्री राजेश सिंह द्वारा जानकारी दिया गया कि तेल में सिट्राॅल की मात्रा के अनुसार तेल का मूल्य निर्धारित होता है, गया जिला के लेमनग्रास तेल में पूर्व से 75 से 85% तक सिट्राॅल पाया गया है, इसलिये गया के लेमनग्रास का तेल का मूल्य रु॰ 1200 से 1500 प्रति लीटर के बाजार मूल्य पर बिक सकता है। किसानों ने जानकारी दिया कि सी॰जी॰ हर्बल और मुम्बई की कंपनियों के प्रतिनिधि तेल क्रय करने के इच्छुक हैं।  इस अवसर पर जिला पदाधिकारी ने कहा कि यह बहुत ही हर्ष का विषय है कि सरकार के द्वारा प्रारम्भ किये गये कार्यक्रम से किसान लाभान्वित हो रहे हैं। उन्होने किसानों से कहा कि इस कार्यक्रम को आगे बढ़ाने की आवश्यकता है और इसके लिये इस क्षेत्र के अधिक से अधिक किसानों को लेमनग्रास की खेती के लाभ की जानकारी देनी होगी। इससे एक एकड़ में बहुत कम पानी और अन्य संसाधन का उपयोग करके किसान प्रतिवर्ष 60,000 रुपये तक गाॅव में रहकर आसानी से कमा सकते हैं। उन्होने मौके पर उपस्थित जिला कृषि पदाधिकारी श्री सुदामा महतो एवं सहायक निदेशक, उद्यान श्री शशांक कुमार से कहा कि वे लेमनग्रास के बनने वाले उत्पाद साबुन, हैण्ड सैनेटाईजर आदि को बनाने हेतु किसानों को प्रषिक्षित करें, जिससे अधिक से अधिक रोजगार के अवसर सृजित हो सकें। 

             

इसके बाद जिला पदाधिकारी बाराचट्टी के ही बारा पंचायत के भगहर ग्राम में श्री मनोज कुमार द्वारा बायोफ्लाॅक तकनीकी से मछली उत्पादन ईकाई का भ्रमण किये। श्री मनोज कुमार ने जिला पदाधिकारी को जानकारी दिया कि उन्होने लगभग 10 लाख रुपये की लागत से बायोफ्लाॅक ईकाई का निर्माण किया है और उन्हे प्रति वर्ष रु॰ 4,00,000 (चार लाख रुपये) तक की शुद्ध आय प्राप्त हो जाती है।  इसके उपरांत जिलाधिकारी द्वारा प्राथमिक विद्यालय, गोवरिया का औचक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के क्रम में प्रभारी प्रधानाध्यापक श्री रामजीत मिस्त्री द्वारा बताया गया कि इस विद्यालय में 161 बच्चे नामांकित हैं एवं 04 शिक्षक पदस्थापित हैं। जिलाधिकारी द्वारा उपस्थिति पंजी का जायजा लिया गया। साथ ही उपस्थित बच्चों से पढ़ाई के बारे में जानकारी प्राप्त की। बच्चो द्वारा बताया गया कि पढ़ाई अच्छी होती है।  बाराचट्टी के जयगीर एवं सारवां पैक्स का निरीक्षण किया गया। प्रखंड सहकारिता पदाधिकारी, बाराचट्टी द्वारा जिलाधिकारी को बताया गया कि दोनों पैक्स गोदाम की क्षमता 100 एमटी है। लगभग 14-14 किसानों से 866 क्विंटल की खरीदी की गई है। जिलाधिकारी द्वारा निदेश दिया गया कि जिन भी किसानों से धान खरीदी की जा रही है, उसे उसी दिन पावती रसीद देना सुनिश्चित करें और भुगतान 48 घण्टे के अंदर हो जाए, इसे सुनिश्चित करें।  इस अवसर पर ज़िला कृषि पदाधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी, बाराचट्टी, अंचलाधिकारी, बाराचट्टी, आत्मा के सहायक तकनीकी प्रबंधक श्री प्रेम रंजन और आदित्य कुमार तथा किसान सलाहकार समिति अध्यक्ष श्री महेन्द्र कुमार उपस्थित थे। ज़िला पदाधिकारी के निदेशानुसार आज ज़िला स्तरीय वरीय पदाधिकारियों, वरीय उप समाहर्त्ता द्वारा गया जिले के विभिन्न प्रखंडों के चलाये जा रहे योजना यथा महादलित विकास योजना अंतर्गत सामुदायिक भवन वर्कशीट की जांच, आरटीपीएस काउंटर की जांच, वाटर शेड की जांच, अंचल अंतर्गत अतिक्रमण वादों की जांच इत्यादि का निरीक्षण किया गया। जिलाधिकारी द्वारा बैठक कर समीक्षा की गई।

कोई टिप्पणी नहीं: