पता नहीं मैं फिर चल पाऊंगा या नहीं, लेकिन भाग्यशाली हूं कि जिंदा हूं : क्रिस केर्न्स - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 3 दिसंबर 2021

पता नहीं मैं फिर चल पाऊंगा या नहीं, लेकिन भाग्यशाली हूं कि जिंदा हूं : क्रिस केर्न्स

lucky-to-alive-chris-crairns
ऑकलैंड, तीन दिसंबर, न्यूजीलैंड के पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी क्रिस केर्न्स को नहीं पता कि वह फिर कभी चल पाएंगे या नहीं, लेकिन वह खुद को भाग्यशाली मानते है कि जानलेवा सर्जरी के बाद भी जिंदा है। उनके कमर का निचला हिस्सा हालांकि लकवाग्रस्त हो गया है। तीन महीने पहले उनकी दिल की सर्जरी की गयी जिसके बाद उन्हें कई और सर्जरी से गुजरना पड़ा जिससे उन्हें जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया और इसी दौरान ‘स्पाइनल स्ट्रोक’ के कारण उनके शरीर का निचला हिस्सा लकवाग्रस्त हो गया। यह 51 वर्षीय पूर्व खिलाड़ी उबरने की कोशिश कर रहा है। वह सर्जरी के चार महीने बाद कैनबरा विश्वविद्यालय के अस्पताल में एक विशेष पुनर्वास सुविधा में स्वास्थ्य लाभ ले रहे है। उन्होंने ‘स्टफ डॉट सीओ डॉट एनजेड’ से कहा, ‘‘ मुझे पता नहीं है कि मैं फिर से कभी चल पाउंगा या नहीं, मैंने इस स्थिति से समझौता कर लिया है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘अब यह समझने की जरूरत है कि मैं व्हीलचेयर की मदद से एक पूर्ण और आनंदमय जीवन जी सकता हूं लेकिन इसके साथ सामंजस्य बैठाना थोड़ा अलग होगा।’’ अपने समय के सर्वश्रेष्ठ हरफनमौला खिलाड़ियों में से एक केर्न्स ने न्यूजीलैंड के लिये 62 टेस्ट, 215 वनडे और दो टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं पूर्व खिलाड़ी ने कहा,  ‘‘ मेरी चोट (बीमारी) को 14 सप्ताह हो चुके हैं और जब मैं पीछे मुड़कर देखता हूं तो ऐसा लगता है जैसे मैं पूरी जिंदगी इसे झेल रहा हूं। मुझे उन आठ - नौ दिनों के बारे में कुछ पता नहीं जब मेरी चार ‘ओपन हार्ट सर्जरी ’ हुई थीं।

कोई टिप्पणी नहीं: