परीक्षा में करीना कपूर के बेटे के बारे में पूछा गया सवाल, स्कूल को जारी होगा नोटिस - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 25 दिसंबर 2021

परीक्षा में करीना कपूर के बेटे के बारे में पूछा गया सवाल, स्कूल को जारी होगा नोटिस

question-in-exam-on-kareena-son
खंडवा, 25 दिसंबर, मध्य प्रदेश के खंडवा में एक निजी स्कूल में कक्षा छह की परीक्षा में बॉलीवुड कलाकार करीना कपूर और सैफ अली खान के बेटे का पूरा नाम पूछे जाने के मामले में शिक्षा विभाग ने स्कूल को कारण बताओ नोटिस जारी करने का निर्णय लिया है। हालांकि स्कूल के अधिकारियों ने कहा कि इस सवाल को विद्यार्थियों के ज्ञान को बढ़ाने के प्रयास के तौर पर देखा जाना चाहिए। खंडवा शहर के एकेडमिक हाइट्स पब्लिक स्कूल की कक्षा 6 के सामान्य ज्ञान विषय के प्रश्न पत्र में बृहस्पतिवार को सवाल पूछा गया था कि ‘‘ करीना कपूर खान और सैफ अली खान के बेटे का पूरा नाम लिखें’’। इस सवाल पर एक स्थानीय अभिभावक-शिक्षक निकाय ने आपत्ति व्यक्त की और कई अन्य लोगों ने विभिन्न सोशल मीडिया पर प्रश्न पत्र की प्रति साझा की। जिला शिक्षा अधिकारी संजीव भालेराव ने शुक्रवार को पत्रकारों से कहा कि यह मामला उनके संज्ञान में आया है और विभाग संबंधित स्कूल को कारण बताओ नोटिस जारी करेगा। उन्होंने कहा, ‘‘ इस मामले में स्कूल का उत्तर मिलने के बाद उच्च अधिकारियों के निर्देश पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।’’ भालेराव ने कहा कि विद्यार्थियों को ऐसी शिक्षा दी जानी चाहिए जिससे राष्ट्रहित में उनका ज्ञान बढ़े। शहर के एक अभिभावक-शिक्षक संघ के पदाधिकारी अनीस अरझरे ने आपत्ति जताते हुए कहा कि विद्यार्थियों से छत्रपति शिवाजी महाराज और अहिल्याबाई होल्कर जैसे नायकों से संबंधित सवाल पूछे जाने चाहिए। उन्होंने स्कूल के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। वहीं स्कूल की संचालक श्वेता जैन ने कहा कि प्रश्न पत्र दिल्ली स्थित एक संगठन द्वारा तैयार किए जाते हैं जिसके साथ उनका स्कूल संबद्ध है। उन्होंने कहा, ‘‘ अभी तक स्कूल के किसी भी विद्यार्थी के माता-पिता ने इस मामले में शिकायत नहीं की है’’ और जो लोग विरोध कर रहे हैं वह स्कूल में पढ़ने वाले विद्यार्थियों के माता-पिता नहीं हैं। जैन ने यह भी कहा कि सवाल को धर्म या सांप्रदायिकता से जोड़ना गलत है इसे मात्र ज्ञान बढ़ाने के प्रयास के तौर पर देखा जाना चाहिए।

कोई टिप्पणी नहीं: