बिहार : जातीय जनगणना में क्यों हो रहा विलंब ? : लालू - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 21 दिसंबर 2021

बिहार : जातीय जनगणना में क्यों हो रहा विलंब ? : लालू

why-delay-in-cast-cencess-lalu-yadav
पटना : जातीय जनगणना की मांग को लेकर बिहार की सियासत एक बार फिर से गर्म हो गई है। इसी बीच राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने एक बार फिर केंद्र सरकार पर हमला बोला है। लालू ने कहा है कि यदि केंद्र सरकार इसमें अधिक देरी करती है तो सभी पार्टियों को एक साथ इकट्ठा होकर आंदोलन करना होगा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार जातीय जनगणना करवाने के पक्ष में नहीं है। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने कहा कि जातीय जनगणना बहुत जरूरी है। जनगणना नहीं होने के वजह से केंद्र सरकार और राज्य सरकार दिशाहीन होकर बजट बना रही है। जिससे लोगों को किसी भी चीज का फायदा नहीं मिल पा रहा है जिससे लोग और अधिक पीछे हो रहे हैं। इसके साथ ही लालू प्रसाद यादव ने कहा कि जातीय जनगणना किसी जाति के खिलाफ नहीं है। इसलिए इसमें विलंब और आनाकानी नहीं करना चाहिए। लोगों को इसे लागू करने के लिए संघर्ष करना होगा। लालू ने कहा कि भाजपा सरकार जातीय जनगणना करवाने के पक्ष में नहीं है। वर्तमान में सभी जातियों की संख्या बढ़ी है, इनकी माली हालत को देखते हुए बजट बनेगा और लोगों का विकास होगा। सभी संगठनों को इकट्ठा होकर जातीय जनगणना को कराए जाने की जरूरत है। हम जातीय जनगणना लागू कराने के लिए आंदोलन करेंगे। इसके लिए सभी पार्टी के लोगों को भी इकट्ठा होना पड़ेगा। लालू ने कहा कि जातीय जनगणना होने के बाद अनुसूचित जाति और जनजाति अन्य पिछड़ा वर्ग के लोगों को बजट में भागीदारी मिलेगी और उनकी माली हालत अच्छी होगी। लालू ने यह भी कहा कि मैं राजनीतिक संगठनों से अपील करता हूं कि जातीय जनगणना को लेकर एक मंच पर आकर लड़ाई लड़ें।

कोई टिप्पणी नहीं: