मधुबनी : एसएसबी के 20 जवान कोरोना पॉजिटिव मिले, 76 की हुई थी जांच - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 7 जनवरी 2022

मधुबनी : एसएसबी के 20 जवान कोरोना पॉजिटिव मिले, 76 की हुई थी जांच

20-covid-posetive-in-madhubani-ssb-camp
मधुबनी : जिले के राजनगर में बुधवार को 20कोरोना संक्रमित मरीज की पहचान हुई। एसएसबी कैंप में 76 लोगों रैपिड एंटीजेन किट से की गई जांच में कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। कोरोना सक्रमित मरीज राजनगर स्थित एसएसबी बटालियन का जवान हैं। इसकी जानकारी राजनगर पीएचसी के लैब टेक्नीशियन इसमाहतुल्ला उर्फ गुलाब ने दी है। उन्होंने बताया कि सर्दी—खांसी की शिकायत होने पर वे बुधवार को एसएसबी केंद्र पर रेपिड एंटीजेन किट से जांच होने पर 20 जवानों को कोरोना संक्रमित पाया गया। विदित हो की मंगलवार को भी दो कोरोना संक्रमित पाए गए थे वहीं बुधवार को सुबह में भी एक एसएसबी जवान कोरोना संक्रमित पाया गया था इसके बाद उन सभी को को तत्काल कोविड केयर सेंटर रामपट्टी में एडमिट किया गया है। कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग सतर्क हो गया है। कोविड केयर सेंटर में संभावित संक्रमित मरीजों के लिये बेहतर चिकित्सा सुविधा प्रदान करने के लिये तैयारी लगभग पूरी कर ली गयी है। इसे लेकर कोरोना वार्ड को दुरुस्त कर लिया गया है। वार्ड में मरीजों के लिये बेड की व्यवस्था की गयी है। वहीं गंभीर मरीजों के लिये आइसीयू तैयार किया गया है। इसमें मरीजों को बेहतर चिकित्सा सुविधा प्रदान की जायेगी। सिविल सर्जन डॉ सुनील कुमार झा के निर्देश से कोरोना मरीजों के आगमन से पूर्व आइसोलेशन वार्ड में 24 घंटे चिकित्सक व कर्मियों की प्रतिनियुक्ति कर ली गयी है, ताकि किसी भी समय कोरोना मरीजों के आने की स्थिति में तुरंत चिकित्सकीय सुविधा उपलब्ध करायी जा सके। इसे लेकर डॉक्टर व कर्मियों को विशेष रूप से निर्देश दिये गये हैँ। सिविल सर्जन डॉ सुनील कुमार झा ने बताया संक्रमित मरीजों के बेहतर चिकित्सा के लिये अस्पताल प्रशासन की ओर से बेहतर प्रयास किया गया है। विभाग की ओर से ऑक्सीजन प्लांट पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन सिलेंडर एवं कंसंट्रेटर उपलब्ध कराए गए हैं अब मरीजों को ऑक्सीजन की आवश्यकता पड़ने पर परेशानी नहीं होगी। इससे गंभीर संक्रमित मरीजों के मृत्यु दर में भी कमी आने की पूरी संभावना है।

कोई टिप्पणी नहीं: