अमेरिका में लोकतंत्र की रक्षा संबंधी विधेयक मतदान में गिरा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 21 जनवरी 2022

अमेरिका में लोकतंत्र की रक्षा संबंधी विधेयक मतदान में गिरा

democratic-bill-fail-in-usa-senet
वाशिंगटन, 20 जनवरी, अमेरिका में लोकतंत्र को बचाने के लिये महत्वपूर्ण बताया जा रहा एक अहम विधेयक बुधवार को सीनेट में मतदान के बाद गिर गया जब डेमोक्रेटिक पार्टी के दो सांसदों ने सदन के नियमों में बदलाव के लिये अपनी पार्टी का साथ देने से इनकार कर दिया। इस विधेयक के गिरने को राष्ट्रपति जो बाइडन और उनकी डेमोक्रेटिक पार्टी के लिये करारी शिकस्त के रूप में देखा जा रहा है, जिनके कार्यकाल को एक साल पूरा हो गया है। डेमोक्रेटिक पार्टी इस विधेयक को लेकर सीनेट के नियमों में बदलाव करने को लेकर एरिजोना से सांसद क्रिस्टीन सिनेमा और वेस्ट मिशिगन से सांसद जो मैनचिन को नहीं मना सकी और न ही इस विधेयक को आगे बढ़ाने के लिये बहुमत हासिल कर पाई। बाइडन ने मतदान के बाद एक बयान में कहा, 'मैं बेहद निराश हूं।' हालांकि, राष्ट्रपति ने कहा कि वह 'विचलित नहीं हैं' और लोकतंत्र की रक्षा के लिये हरसंभव कदम उठाने का संकल्प लेते हैं। दरअसल, डेमोक्रेट सांसद अमेरिका में चुनावी नियमों में बड़े सुधार के लिए कानून बनाने की तैयारी कर रहे हैं। डेमोक्रेट्स का मानना है कि वोटिंग नियमों में बदलाव करने की जरूरत है, जिससे अश्वेत और अन्य पिछड़े वर्गों को मतदान करने में किसी भी तरह की मुश्किलों को सामना न करना पड़े।दूसरी ओर रिपब्लिकन पार्टी मताधिकार विधेयक को पक्षपातपूर्ण बताते हुए इसका विरोध करती रही है। पिछले साल तीन बार रिपब्लिकन पार्टी ने मतदान अधिकार विधेयक का विरोध किया था। इस विधेयक को पारित करने के लिये सीनेट में 60 मतों की जरूरत थी, लेकिन डेमोक्रेटिक पार्टी केवल 51 वोट हासिल कर सकी और बहुमत हासिल करने से पीछे रह गई।

कोई टिप्पणी नहीं: