बिहार : राजद में शामिल होना चाहती है लव-कुश की जोड़ी : तेजप्रताप - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 9 जनवरी 2022

बिहार : राजद में शामिल होना चाहती है लव-कुश की जोड़ी : तेजप्रताप

lav-kush-wants-to-join-rjd-tejpratap
पटना : बिहार में जैसे – जैसे तापमान और कोरोना का प्रकोप बढ़ रहा है, ठीक उसी तरह से खरमास में भी बिहार का सियासी तापमान भी बढ़ रहा है। बिहार में बयानबाजी का दौर भी लगातार जारी है। इसी कड़ी में अब जदयू संसदीय दल के नेता उपेंद्र कुशवाहा की राजद प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी से मुलाकात ने राज्य में एक नए चर्चाओं को जन्म दिया है। हालांकि दोनों नेताओं द्वारा इस मुलाकात को निजी मुलाकात बताई गई है। लेकिन इसके बावजूद सवाल उठाया जा रहा है कि आखिर दो धुर विरोधी दलों के नेता एक साथ क्या कर रहे थे? वहीं, दूसरी तरफ इस मुलाकात के बाद लालू के बड़े युवराज तेजप्रताप यादव ने भी यह कहा है कि उपेंद्र कुशवाहा यदि चाहते हैं तो वह राजद ज्वाइन कर लें, यहां उनको पूरा सम्मान दिया जाएगा। इसके साथ ही उन्होंने एक और बड़ी बात कही है कि सीएम नीतीश कुमार भी राजद के साथ आना चाहते हैं लेकिन वह इस बात को खुल कर बोलना नहीं चाहते हैं। उपेंद्र कुशवाहा का राजद के प्रत्येक बार फिर से झुकाव को लेकर तेजप्रताप ने कहा कि कुशवाहा जी अब नरम हो गए है, वह जब चाहें तब आकर राजद ज्‍वाइन कर लें। क्‍योंकि उन्‍होंने जो पंखा बनाया वह तो खत्‍म हो गया। उनका स्‍वागत है। वहीं, इससे पहले जदयू के तरफ से उनके पार्टी के दिग्गज नेता वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि जदयू का भाजपा के साथ अटूट संबंध है और राजद के साथ जाने का कोई सवाल ही नहीं उठता। उन्होंने कहा कि राजद या किसी और के कुछ कहने से बिहार के भाजपा-जेडीयू गठबंधन पर कोई असर नहीं पडने वाला है। दोनों पार्टियां साथ हैं लेकिन अगर कहीं मतभिन्नता होती है तो आपस में बात होती है। इसका कोई दूसरा अर्थ नहीं निकाला जाना चाहिये।

कोई टिप्पणी नहीं: