विपक्षी दलों ने कहा "चुनावों के लिए हम तैयार" - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 8 जनवरी 2022

विपक्षी दलों ने कहा "चुनावों के लिए हम तैयार"

opposition-ready-for-election-in-five-state
नयी दिल्ली, आठ जनवरी, कांग्रेस समेत देश के कई प्रमुख विपक्षी दलों ने शनिवार को पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों के कार्यक्रम की घोषणा का स्वागत करते हुए अपनी-अपनी जीत की उम्मीद जताई और कहा कि वो इस चुनावी समर के लिए पूरी तरह तैयार हैं। कांग्रेस ने यह भी कहा कि चुनाव आयोग को स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव लिए सभी के लिए समान अवसर की स्थिति सुनिश्चित करना चाहिए तथा आने वाले दिनों में नुक्कड़ सभाओं की अनुमति प्रदान करनी चाहिए। चुनावों की तिथियों की घोषणा के बाद कांग्रेस महासचिव और उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाद्रा ने ट्वीट किया, ‘‘10 मार्च को उप्र के नौजवानों, किसानों, महिलाओं, श्रमिकों, व्यापारियों एवं आमजनों की जीत का मार्च होगा। इन चुनावों में कांग्रेस पार्टी नौजवानों, किसानों, महिलाओं, श्रमिकों, व्यापारियों एवं आमजनों के हकों की लड़ाई लड़ेगी। लड़ेगा बढ़ेगा जीतेगा यूपी।’’ कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि इन प्रदेशों में लोगों के पास सुनहरा मौका है कि वे भाजपा के खिलाफ वोट की चोट करके महंगाई, बेरोजगारी, किसानों और महिलाओं पर अत्याचार को पराजित करें। उन्होंने यह भी कहा कि पंजाब, उत्तराखंड, मणिपुर और गोवा में कांग्रेस की जीत होगी और उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के बिना कोई सरकार नहीं बनेगी। सुरजेवाला ने संवादाताओं से कहा, ‘‘लोगों के पास अवसर है कि वे भाजपा को भी हराएं और महंगाई को भी हराएं। किसानों के पास मौका है कि वे लखीमपुर खीरी में टायरों के नीचे कुचलने वालों और ऐसे लोगों को मंत्री बनाकर बैठाने वाली भाजपा को सजा दें।’’ उनके मुताबिक, खेती के व्यापार को कुछ उद्योगपतियों को बेचने की साजिश करने वालों को हराएं। युवाओं के पास मौका है, भाजपा पर वोट की चोट करिये और बेरोजगारी को हराइए। महिलाओं के पास स्वर्णिम मौका है कि भाजपा को हराकर अत्याचार और महंगाई से निजात पाएं। दलित और पिछड़ों के पास मौका है, भाजपा को हराइए और अत्याचार एवं अधिकारों पर कुठाराघात से मुक्ति पाइए। उन्होंने जोर देकर कहा, ‘‘भाजपा सिर्फ चुनावी हार से घबराती है।’’ सुरजेवाला ने कहा कि चुनाव आयोग को सुनिश्चित करना चाहिए कि इन चुनावों में सभी के पास बराबर मौके वाली स्थिति हो तथा उम्मीद है कि आगे नुक्कड़ सभाओं की अनुमति मिलेगी।


समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उम्मीद जताई कि इस बार उप्र में बदलाव होगा। यादव ने ट्वीट किया, ‘‘10 मार्च को इंक़लाब होगा। उत्तर प्रदेश में बदलाव होगा।’’बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने ट्वीट कर कहा, ‘‘उप्र सहित पांच राज्यों में विधानसभा आमचुनाव हेतु भारत निर्वाचन आयोग द्वारा आज तिथि की घोषणा का स्वागत। आशा ही नहीं बल्कि पूर्ण विश्वास है कि आयोग यह चुनाव स्वतंत्र, निष्पक्ष, सुचारू व शान्तिपूर्वक कराने की अपनी ज़िम्मेदारी को जन अकांक्षा के अनुरूप पूरी मुस्तैदी से जरूर निभाएगा।’’ उन्होंने यह भी कहा, ‘‘सत्ताधारी पार्टी (भाजपा) द्वारा हर चुनाव में नए-नए हथकण्डे अपनाकर आदर्श चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन करने की प्रवृति घातक रूप से आम होती जा रही है, जिसपर इस चुनाव में पूरी गंभीरता से ध्यान देने एवं तत्परता के साथ उसके विरुद्ध कार्रवाई करने की चुनाव आयोग से ख़ास अपील है।’’ आम आदमी पार्टी (आप) ने विधानसभा चुनाव की तिथियों की घोषणा होने के बाद कहा कि वह इन चुनावों के लिए तैयार है। पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘‘चुनावों की तारीख़ों का ऐलान हो चुका है। आम आदमी पार्टी तैयार है।’’ निर्वाचन आयोग ने शनिवार को पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों के कार्यक्रमों की घोषणा कर दी। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के तहत 10 फरवरी से लेकर सात मार्च तक सात चरणों में मतदान होगा, वहीं उत्तराखंड, पंजाब और गोवा में एक ही चरण में 14 फरवरी को वोट डाले जाएंगे। मणिपुर में दो चरणों में 27 फरवरी और तीन मार्च को मतदान होगा और इन सभी राज्यों के विधानसभा चुनाव की मतगणना 10 मार्च को होगी। आयोग की इस घोषणा के साथ ही इन पांचों राज्यों में आदर्श आचार संहिता लागू हो गयी। आयोग ने यह भी कहा कि कोविड-19 के मद्देनजर कोई भी राजनीतिक दल या उम्मीदवार किसी भी तरह की रैली या जनसभा, रोड शो, पद यात्रा या साइकिल या बाइक रैली या फिर नुक्कड़ सभाओं जैसे आयोजन 15 जनवरी तक नहीं कर सकेगा।

कोई टिप्पणी नहीं: