उत्तराखंड में 22 जनवरी तक स्कूल बंद - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 16 जनवरी 2022

उत्तराखंड में 22 जनवरी तक स्कूल बंद

school-closed-in-uttrakhand-till-22
देहरादून, 16 जनवरी, कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर उत्तराखंड में रविवार को 12वीं कक्षा तक के स्कूलों को 22 जनवरी तक बंद करने का आदेश दिया गया। स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि उत्तराखंड में जिन कोरोना वायरस संक्रमितों के नमूनों के जीनोम अनुक्रमण की रिपोर्ट आई है, उनमें से 54 प्रतिशत मामलों में ओमीक्रोन स्वरूप पाया गया है। प्रदेश में रविवार को कोविड के 2,682 नए मामले सामने आए, जिनमें से करीब आधे (1,331) मामले देहरादून जिले में मिले। हरिद्वार जिले में 351, उधमसिंह नगर जिले में 281, नैनीताल में 188 और पौडी गढ़वाल में 159 नए मामले मिले। प्रदेश के मुख्य सचिव सुखबीर सिंह संधु द्वारा यहां जारी कोविड-19 संबंधी ताजा दिशा-निर्देशों के अनुसार, रात्रि 10 बजे से सुबह छह बजे तक के कर्फ्यू को बरकरार रखा गया है । राज्य में आंगनबाड़ी केंद्रों तथा 12वीं कक्षा तक के सभी शैक्षणिक संस्थानों को 22 जनवरी तक बंद रखने के आदेश दिए गए हैं। शापिंग मॉल और जिम 50 प्रतिशत क्षमता के साथ खुलेंगे, लेकिन स्वीमिंग पूल और वाटर पार्क 22 जनवरी तक बंद रहेंगे। निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार 22 जनवरी तक प्रदेश में राजनीतिक रैलियों और धरना प्रदर्शन की अनुमति नहीं होगी। अधिकतम 300 व्यक्तियों या सभागार की 50 प्रतिशत क्षमता के साथ बंद कक्षों में बैठकें की जा सकेंगी । इस बीच, प्रदेश की स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. तृप्ति बहुगुणा ने बताया कि उत्तराखंड में जिन कोरोना वायरस संक्रमितों के नमूनों के जीनोम अनुक्रमण की रिपोर्ट आई है, उनमें से 54 प्रतिशत मामलों में ओमीक्रोन स्वरूप पाया गया है। उन्होंने बताया कि राज्य में कोरोना वायरस से संक्रमित 2,255 नमूनों का जीनोम अनुक्रमण दून मेडिकल कॉलेज प्रयोगशाला में किया गया। उन्होंने बताया कि 159 नमूनों की जांच रिपोर्ट आ चुकी है, जिनमें से 85 में ओमीक्रोन स्वरूप मिला है । डॉ. बहुगुणा ने बताया कि विश्व में सभी जगह ओमीक्रोन स्वरूप तेजी से फैल रहा है, लेकिन इसके प्रभाव अधिक घातक नहीं दिख रहे। बहरहाल, उन्होंने लोगों से सतर्कता बरतने की अपील की।

कोई टिप्पणी नहीं: