बिहार : प्रथम मुख्यमंत्री बिहार केशरी डा0 श्रीकृष्ण सिंहा की 61वीं पुण्यतिथि - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 1 फ़रवरी 2022

बिहार : प्रथम मुख्यमंत्री बिहार केशरी डा0 श्रीकृष्ण सिंहा की 61वीं पुण्यतिथि

sri-krishna-singh-anniversiry
पटना, 31 जनवरी। बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री बिहार केशरी डा0 श्रीकृष्ण सिंहा की 61वीं पुण्यतिथि एवं बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी के पूर्व अध्यक्ष एवं पूर्व शिक्षा मंत्री विद्याकर कवि की 36 वीं पुण्यतिथि आज पूर्वाह्न बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी के मुख्यालय सदाकत आश्रम में मनायी गयी। समारोह की अध्यक्षता करते हुए प्रदेश कांग्रेस कमिटी के कार्यकारी अध्यक्ष डा0 समीर कुमार सिंह एम0एल0सी0 ने कहा कि डा0 श्रीकृष्ण सिंहा बहुआयामी व्यक्तित्व के प्रतिभाशाली राजनेता थे। बिहार एवं झारखण्ड के सभी बड़े कल-कारखाने, बोकारो स्टील प्लान्ट, हेवी इंजीनियरिंग कारपोरेशन रांची, पतरातू एवं बरौनी बिजली कारखाना, बरौनी तेल शोधक कारखाना, मोकामा में राजेन्द्र सेतु एवं विकास के अन्य बड़े कार्य डा0 श्रीकृष्ण सिंहा के कार्यकाल में हुए। उन्होंने कहा कि जमींदारी प्रथा का उन्मूलन बिहार में श्री बाबू के कार्यकाल में हुआ। आज कृतज्ञ राज्य बिहार के विकास में उनके योगदान को स्मरण कर उनकी स्मृति को शत-शत नमन करता है। स्व0 विद्याकर कवि के प्रति श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए डा0 समीर कुमार सिंह ने कहा कि विद्याकर कवि एक उच्च कोटि के स्वतंत्रता सेनानी एवं संवेदनशील नेता थे। उनके कार्यकाल में प्रदेश कांग्रेस में लगातार कार्यक्रम चलते रहते थे। वे कांग्रेस कार्यकत्र्ताओं का बड़ा सम्मान करते थे।

कोई टिप्पणी नहीं: