खेत खलियान वाले मजदूर से लेकर मंदिर के पुजारी तक हुए लाभान्वित - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 5 फ़रवरी 2022

खेत खलियान वाले मजदूर से लेकर मंदिर के पुजारी तक हुए लाभान्वित

everyone-effected-with-welfare
13 दिसम्बर से श्रम एवं रोजगार मंत्रालय व वाग्धरा संस्था के संयुक्त तत्वाधान में श्रमिक स्वराज अभियान का शुभारंभ किया गया जिसको दिनांक 13 दिसम्बर श्री अंकित कुमार जिला कलेक्टर महोदय ने हरी झण्डी देकर अभियान के रथ को रवाना किया जो दिनांक 19 जनवरी 2022 तक चला, जिसमें बांसवाडा जिले के घाटोल, कुशलगढ़, सज्जनगढ़, गागाड़तलाई व आनंदपुरी के 202  ग्राम पंचायत पर श्रमिक स्वराज अभियान का आयोजन सफल रहा   केंन्द्र सरकार की ओर से ई-श्रम पोर्टल पर असंगठित कामगारों के लिए ई श्रम कार्ड बनाए गए ! इसके तहत मंदिर के पुजारी से लेकर खेत में काम करने वाले मजदूर तक सभी लोगो ने ई श्रम कार्ड बनवाये!  यह श्रमिक कार्ड बनाने के बाद श्रमिकों को दो लाख का बीमा सहित केन्द्र सरकार की विभिन्न योजनाओं का लाभ मिल सकेगा! दरसल, श्रम एवं रोजगार मंत्रालय की ओर से असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के लिए ई श्रम कार्ड योजना है! पजीयन के बाद कामगारों को युनिवर्सल अकाउंट नबर वाला इ श्रम कार्ड दिया गया! जो असंगठित क्षेत्र के कामगार सामाजिक सुरक्षा और कल्याणकारी योजनाओं का लाभ उठा सकते हैं यह डेटाबेस असंगठित कामगारों के लिए विशेष योजना बनाने में सरकार की मदत करेगा! ईस ई-श्रम कार्ड के साथ श्रमिकों को प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना का लाभ मिलेगा! ईसके तहत दुर्घटना मृत्यु पर दो लाख रूपये और आंशिक दिव्यागता पर एक लाख रुपए का लाभ मिलेगा और रोजगार के अवसर प्रदान करने में मदत करेगा ! ऐसे श्रमिक जिनकी आयु 16 से 59 के बीच है !इनमे घर का नौकर -नौकरानी, खाना बनाने वाली बाई, सफाई कर्मी कर्मचारी, गार्ड, रिक्सा चालक, वेडंर, पेटर, वेटर, आपरेटर, खेतवाले मजदूर, मनरेगा मजदूर, अगंणवाडी कार्यकर्ता, सहायिका आशा सहयोगिनी, मंदिर के पुजारी आदि पात्र लोगों ने ई श्रम कार्ड बनाए ,  जिसमें  27447 श्रमिक के e-shram card बनाये गये जिसके तहत प्रत्येक ग्राम पंचायत पर रथ गया और इमित्र संचालक के द्वारा ग्रामीणों के निशुल्क ई-श्रम कार्ड बनेंगे अभियान का मुख्य उद्देश्य श्रमिक पहचान कार्ड बनाना, श्रमिकों को उनके हक के लिए जागरूक बनाना है एवं  सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं का लाभ पहुंचाना है जिसमें प्रदान मंत्री श्रम योगी –धन पेंशन योजना (PM-SYM) का लाभ दिलाना, असंगठित कामगारों के लिए सरकार की योजनाओं से जोड़ना यह उद्देश इस अभियान का था

कोई टिप्पणी नहीं: