वैलेंटाइन डे पर सुने ‘इश्क़ में शहर होना’ - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 16 फ़रवरी 2022

वैलेंटाइन डे पर सुने ‘इश्क़ में शहर होना’

  • ·         इश्क़ में शहर होना रेमॉन मैगसेसे अवार्ड विजेता मशहूर पत्रकार, रवीश कुमार की किताब है
  • ·         इश्क़ में शहर होना इस वैलेंटाइन डे सुने स्टोरीटेल पर रवीश कुमार की आवाज में

ishq-men-shahar-hona-on-storytel
नई दिल्ली। बहुचर्चित किताब ‘इश्क़ में शहर होना’ इस  वैलेंटाइन डे ऑडियोबुक में स्टोरीटेल पर रिलीज़ हो रही है. रेमॉन मैगसेसे अवार्ड विजेता मशहूर पत्रकार, रवीश कुमार इस किताब को स्वयं लेखक रवीश कुमार ने अपनी मधुर आवाज दी है. इश्क में शहर होना  लघु प्रेम कहानियों का अनूठा संग्रह 2015 में पहली बार प्रकाशित होने के समय से ही पाठकों के बीच असाधारण रूप से लोकप्रिय रहा है। इसकी  युवा पीढ़ी में लगातार बढ़ती लोकप्रियता देखते हुए  स्टोरीटेल ऑडियोबुक प्लेटफार्म इस किताब को ऑडियोबुक में लेकर आया है। प्रेम हम सबको बेहतर शहरी बनाता है। हम शहर के हर अनजान कोने का सम्मान करने लगते हैं। उन कोनों में ज़ि‍न्‍दगी भर देते हैं....आप तभी एक शहर को नए सिरे से खोजते हैं जब प्रेम में होते हैं। और प्रेम में होना सिर्फ़ हाथ थामने का बहाना ढूँढ़ना नहीं होता। दो लोगों के उस स्पेस में बहुत कुछ टकराता रहता है। ‘लप्रेक’ उसी कशिश और टकराहट की पैदाइश है। इस किताब को पत्रकार रवीश कुमार ने आप श्रोताओं के लिए पढ़ा है. ” “स्टोरीटेल का शुक्रिया कि उनकी वजह से इश्क़ में शहर होना अब ऑडियो बुक में है। इस किताब को अपनी आवाज़ में पढ़ते ही मेरे लिए इसका अनुभव बदल गया। 14 फ़रवरी को कुछ लोग हिंसा पर उतारू हो जाते हैं। अगर वे लोग इस किताब को सुनेंगे तो उनके भीतर इश्क़ जाग जाएगा। दूसरों की ज़िंदगी में झांकने की जगह वे अपनी ज़िंदगी में देखने लगेंगे। वे बदल जाएँगे। इसलिए यह केवल किताब नहीं है बल्कि इस वक्त की एक दवा भी है” रवीश कुमार


लेखक रवीश कुमार के बारे में

आमतौर पर लोगों के दिलों में ‘एनडीटीवी वाले रवीश’ के नाम से एक बड़ी पहचान। बिहार के मोतिहारी जि़ले के गाँव जितवारपुर से चलकर दिल्ली शहर में ‘स्थायी पता’ की तलाश करने वाले। लप्रेक का नया कॉन्सेप्ट शुरू करने वाले। ‘वन रूम सेट का रोमांस’ जैसी लम्बी कहानी किश्तवार लिखने वाले ‘क़स्बा’ के ब्लॉगर। आमतौर पर इनका सबसे बड़ा परिचय—‘रवीश की रिपोर्ट’ वाले रवीश कुमार। ‘रैमॉन मैगसेसे अवार्ड 2019’ से सम्मानित। ‘इश्क़ में शहर होना’ का अंग्रेजी में ‘अ सिटी हैप्पन्स इन लव’ नाम से अनुवाद प्रकाशित। ‘बोलना ही है’ किताब अंग्रेजी, मराठी और कन्नड़ भाषाओं में भी प्रकाशित।

लिंक -https://www.storytel.com/in/en/books/ishq-mein-shahar-hona-1551030

लेखक और पत्रकार रवीश कुमार की किताब ‘ बोलना ही है भी स्टोरीटेल पर ऑडियोबुक में उपलब्ध है .

कोई टिप्पणी नहीं: