आम बजट में स्वास्थ्य सहित अहम क्षेत्रों में नहीं किया गया पर्याप्त आवंटन : तेदेपा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 11 फ़रवरी 2022

आम बजट में स्वास्थ्य सहित अहम क्षेत्रों में नहीं किया गया पर्याप्त आवंटन : तेदेपा

budget-many-defect-tdp
नयी दिल्ली, 11 फरवरी, राज्यसभा में शुक्रवार को आम बजट (2022-23) पर हुयी चर्चा में विपक्ष ने आरोप लगाया कि इसमें कई खामियां हैं और स्वास्थ्य सहित विभिन्न अहम क्षेत्रों के लिए पर्याप्त आवंटन नहीं किया गया है वहीं सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ने दावा किया कि यह एक आत्मनिर्भर बजट है आम बजट पर हुयी चर्चा में भाग लेते हुए तेलुगुदेशम पार्टी के कनकमेदला रवींद्र कुमार ने कहा कि बजट में पूंजीगत व्यय पर ध्यान दिया गया है लेकिन इसके बाद भी इसमें कई खामियां हैं और स्वास्थ्य एवं शिक्षा सहित विभिन्न जरूरी क्षेत्रों के लिए आवंटन में पर्याप्त वृद्धि नहीं की गयी है। उन्होंने कहा कि बेरोजगारी दूर करने के लिए और उपाय किए जाने की जरूरत है। आंध्र प्रदेश को विशेष दर्जा दिए जाने की मांग करते हुए तेदेपा सदस्य ने आरोप लगाया कि राज्य सरकार बड़े पैमाने पर उधारी ले रही है और जिससे राज्य का कर्ज काफी बढ़ गया है। उन्होंने राज्य सरकार पर वित्तीय कुप्रबंधन का आरोप लगाया और कहा कि राज्य में राजधानी परिेयोजना को लेकर भी अनिश्चितता बनी हुयी है। कुमार ने दावा किया कि मौजूदा राज्य सरकार के कार्यकाल में प्रदेश आगे बढ़ने के बदले पीछे ही जा रहा है। उन्होंने राज्य के लिए अहम पोलावरम परियोजना को समय से पूरा किए जाने की भी मांग की। चर्चा में भाग लेते हुए भाजपा सदस्य के. सी. राममूर्ति ने बजट को लोकोन्मुखी, प्रगतिशील और आगे की दिशा तय करने वाला बताया। उन्होंने कहा कि यह आत्मनिर्भर बजट भी है जिसमें हर तबके का ध्यान रखा गया है। भाजपा सदस्य ने कहा कि इस बजट के प्रावधानों से आने वाले समय में देश के विकास को गति मिलेगी। उन्होंने कहा कि यह सरकार आम लोगों को ध्यान में रखते हुए ऐसी लोकोन्मुखी नीति बनाती है जो देश व लोगों के हित में होती है। उन्होंने कहा कि इस सरकार ने उपनिवेशवादी मानसिकता में भी बदलाव किया है और वंचित वर्गों के अनुरूप भी नीतियां बनायी हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: