प्रतापगढ़ : ’’अण्डर ट्रायल रिव्यू कमेटी की बैठक का आयोजन’’ - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 2 फ़रवरी 2022

प्रतापगढ़ : ’’अण्डर ट्रायल रिव्यू कमेटी की बैठक का आयोजन’’

  • ’’राष्ट्रीय लोक अदालत दिनांक 12.03.2022 के सफल आयोजन हेतु न्यायिक अधिकारीगण के साथ चर्चा’’

under-trial-revwe-comette-meeting-pratapgadh
प्रतापगढ़/02 फरवरी, राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, जयपुर के निर्देशानुसार प्रतापगढ़ न्यायक्षेत्र में निरूद्ध विचाराधीन बंदियांे के संबंध में श्रीमान् महेन्द्र सिंह सिसोदिया, अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण( जिला एवं सेशन न्यायाधीश) प्रतापगढ़ की अध्यक्षता में बैठक का आयोजन किया गया। आयोजित बैठक में माननीय अध्यक्ष महोदय एवं श्रीमान् सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा श्रीमान् जिला कलक्टर, प्रतापगढ़, श्रीमान् पुलिस अधीक्षक प्रतापगढ एवं श्री कारागार अधीक्षक प्रतापगढ़ के साथ चर्चा की गई एवं वांछित मामलों में अनुशंषा की गई।  राष्ट्रीय लोक अदालतः-आगामी राष्ट्रीय लोक अदालत दिनांक 12.03.2022 को लेकर माननीय राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, जयपुर के निर्देशानुसार न्यायिक अधिकारीगण के साथ बैठक माननीय जिला एवं सेशन न्यायाधीश महोदय के अवकाशागार में आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिला एवं सत्र न्यायाधीश द्वारा न्यायिक अधिकारीगण से राजीनामा काबिल अधिकाधिक प्रकरणों के निस्तारण हेतु विचार-विमर्श किया गया जिसमें श्रीमान् जिला पुलिस अधीक्षक को नोटिसों की प्रभावी तामील के निर्देश प्रदान किये गए और श्रीमान् जिाल कलक्टर महोदय के साथ राजस्व न्यायालयों में लंबित राजीनामा योग्य प्रकरणों के निस्तारण के संबंध में चर्चा की गई। बैठक के दौरान राष्ट्रीय लोक अदालत के ऑफलाईन एवं ऑनलाईन प्रकरणों के निस्तारण के विषय में भी विचार-विमर्श किया गया। आगामी लोक अदालत के सफल क्रियान्वयन हेतु बैंचों का गठन किया जाना है ताकि प्रकरणों को सभी बैंचों में विभाजित किया जा सके। बैठक के दौरान प्राधिकरण के सचिव श्री शिवप्रसाद तम्बोली द्वारा अधिक से अधिक प्रिकाउंसलिंग किये जाने पर जोर दिया गया ताकि प्रकरणों का निस्तारण अधिक से अधिक संख्या में हो पाए। इस अवसर पर श्री गोविन्द्र अग्रवाल-न्यायाधीश एम.ए.सी.टी. न्यायालय, श्री राम सुरेश प्रसाद-न्यायाधीश एन.डी.पी.एस. न्यायालय, पूरन सिंह-मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट, अंकित दवे-अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रतापगढ़, हिमांशु चावला-सिविल न्यायाधीश एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट, सुश्री शहनाज खान-अतिरिक्त सिविल न्यायाधीश एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट तथा श्री विकास जैन-न्यायाधिकारी ग्राम न्यायालय प्रतापगढ़ उपस्थित रहे। 

कोई टिप्पणी नहीं: