मधुबनी : नगर निगम के हेड क्लर्क का मिला लटका शव. पुलिस जाँच में जुटी. - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 14 मार्च 2022

मधुबनी : नगर निगम के हेड क्लर्क का मिला लटका शव. पुलिस जाँच में जुटी.

madhubani-nagar-nigam-head-clarc-found-dead
मधुबनी (अजय धारी सिंह) सोमवार को मधुबनी नगर परिषद कार्यालय में उस वक़्त अफरा तफरी मच गई जब नगर परिषद के प्रशासक सह जिलाधिकारी के कक्ष में कार्यालय के प्रधान सहायक अकील अहमद का शव लटका हुआ मिला. आनन फानन में इसकी सूचना प्रशासन को दी गई और तमाम पदाधिकारी वहाँ पहुँच गए. घटना के बाद वहाँ उपस्थित लोगों में जबर्दस्त आक्रोश और गुस्सा दिखा.  नगर निगम के प्रधान सहायक 57 वर्षीय मो. अकील अहमद  सोमवार को कार्यालय में ही गले में फंदा लगा शव मिला. लगभग 9.30 बजे निकले थे और लगभग 10.00 बजे मृतक का गले में फंदा लगा हुआ शव टेबुल पर लटका पाया गया. कार्यालय कर्मियों ने बताया कि सभी दिन की तरह वे कार्यालय पहुँचे और अपने टेबुल के पास गये. लेकिन वे वहाँ नहीं बैठे और अपने टेबुल से बाहर की ओर निकल गए. लेकिन वे बाहर नहीं जाकर सूना पड़े कार्यालय में प्रशासक के चेंबर में चले गये. इसकी भनक किसी को नहीं लग सकी. वहीं उनके आने के समय कार्यालय में इक्के दुक्के ही कर्मी मौजूद थे. प्रशासक के लिए बने चेंबर में नहीं कोई जाता था. कयास ये भी लगाया जा रहा है कि वे घर से किसी के पास गये और आक्रोश में आकर कहीं रस्सी खरीद लिये. और वहाँ से आकर चेंबर में घटना को अंजाम दिया.  कार्यालय में महिला कर्मियों के लिए शौचालय नहीं होने के कारण इस चेंबर के शौचालय का प्रयोग उनके द्वारा किया जाता रहा है. लगभग 11.20 में एक महिला कर्मी जब इस चेंबर में गयी तो वहाँ पर शव को झूलता देख चीखते हुए बेहोश हो गयी. इसके बाद कार्यालय मेे मौजूद सभी कर्मी व आयुक्त के लिए प्रतिनियुक्त गार्ड चेंबर की ओर दौड़े. वहाँ का दृश्य देख हड़कंप मच गया और चारों तरफ यह सूचना फैल गयी. इसके बाद पूरे शहर से कर्मी व समाजिक कार्यकर्ताओं की भीड़ जुटनी शुरू हो गयी. मृतक के परिजन का कहना था कि अकील अहमद के वरीय पदाधिकारी उन्हें लगातार प्रताड़ित कर रहे थे जिससे वह काफी परेशान थे. लेकिन उन्होंने खुदकुशी की है, इस बात को मानने के लिए लोग तैयार नहीं थे. मृतक 10 बजे के करीब सीसीटीवी में जीवित देखे गए थे. परिजनों ने मामले की उच्चस्तरीय जाँच, 20 लाख का मुआवजा और बेटे को नौकरी देने की माँग की है. मृतक को एक विवाहिता बेटी और एक बेटा है. पुलिस फिलहाल पता करने की कोशिश कर रही है कि ये आत्महत्या है या फिर उसकी हत्या कर शव को फंदे से लटका दिया गया है? वैसे पुलिस यह भी पता लगाने में जुटी हैं कि कहीं मृतक निगम कर्मी आर्थिक हालत से परेशान तो नही ? फिलहाल शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है और  मामला दर्ज कर आगे कार्रवाई कर रही है. फिलहाल पुलिस सीसीटीवी और अन्य साक्ष्य की जाँच कर रही है और कुछ बताने की परिस्थिति में नहीं है. घटना के बाद वहाँ उपस्थित लोगों में जबर्दस्त आक्रोश और गुस्सा दिखा. उपस्थित लोगों और पुलिस-प्रशासन के बीच तीखी बहस भी हुई. 

कोई टिप्पणी नहीं: