मधुबनी : कमला बराज के निर्माण कार्य प्रगति पर - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 28 मार्च 2022

मधुबनी : कमला बराज के निर्माण कार्य प्रगति पर

kamla-barage-work-progress
मधुबनी : जिले के जयनगर मे करोड़ों की लागत से कमला नदी पर कमला बराज का निर्माण का शिलान्यास सूबे के मुखिया नीतीश कुमार ने किया था, पर अब इसके समय रहते कार्य पूरा होने पर संदेह नजर आता दिखाई देता है। बता दें कि हर साल बाढ़ की विषम परिस्तिथि में इस कमला नदी के किनारे राह रहे लाखों लोग परेशान और हजारों लोग तबाह हुए हैं। इस इलाके के लाखों लोग बाढ़ की विभीषिका से त्रस्त होकर अपने घर और परिवार को छोड़कर बांधों के ऊपर शरण लिये हुए हैं। हर मानसून में इस क्षेत्र में बाढ़ की विभीषिका के ऊपर लाखों-लाख रुपये खर्च होते हैं। सरकार को सुझाव दिये जाते हैं, एक के बाद एक सरकारें आती और जाती हैं। बाढ़ की विभीषिका से बचने के लिए दूरगामी प्रस्ताव पास होते हैं, विशेषज्ञों की समति नियुकत होती है। उसकी संस्तुति आती है और उस सारी संस्तुति के ऊपर गर्द जम जाती है। उसके स्थायी समाधान के लिए जिस तरह के संकल्प की सरकारों में आवश्यकता है, उस तरह का संकल्प हमको दिखाई नहीं देता। हर साल लोग इस बात से परेशान रहते हैं कि आने वाले बाढ़ में हमारे पीने के पानी का सर्वथा अभाव हो जाएगा। आज भूगर्भीय जलस्तर निरंतर नीचे जा रहा है, बावजूद इसके कोई निराकरण नही हो पा रहा। वहीं, एक अन्य परेशानियों में भू-अर्जन का मामला भी है। आज भी जब कमला बराज का निर्माण शुरू है, पर अतिक्रमण खत्म ही नहीं हो पा रहा है। अक्सर लोग ऐसी जगहों पर कई सालों से रह रहे हैं, तो आसानी से नहीं जा पा रहे हैं। हालांकि सरकार के द्वारा उचित मुआवजा भी दिया जा रहा है, बावजूद इसके अड़चन जारी है। इस कार्य मे लगे विभागीय लोग और अन्य कर्मी भी इस बाबत काफी परेशान हैं। एक अन्य परेशानी का सबब बन रहा यहाँ के स्थानीय लोग और स्थानीय व्यापार। कुछ स्थानीय लोग अनावश्यक ही रोज सुबह, दोपहर, शाम को भीड़ बना कर कमला नदी में चल रहे काम को देखने को मौजूद रहते हैं। इस कारण से मौके पर मौजूद कर्मियों को असुविधा और जान-माल का नुकसान होने का खतरा बना रहता है, जिससे वो सभी कर्मी काफी ज्यादा परेशान रहते हैं। जब हमने इस बाबत मौके पर मिले इसमें कार्य कर रहे विभागीय लोगों से बात की तो उन्होंने उपरोक्त बातें बताई, और प्रशासन और मीडिया से मदद की बात कही। बता दें कि सीएम नितीश कुमार ने कुछ महीने पहले जयनगर में लगभग 750 करोड़ रुपये की प्रस्तावित परियोजना का किया शिलान्यास किया था। नीतीश कुमार मुख्यमंत्री, बिहार के कर-कमलों द्वारा मधुबनी जिला अन्तर्गत जयनगर में कमला नदी पर बराज निर्माण कार्य लागत राशि अनुमानित 405.66 करोड एवं कमला बलान बायां एवं दायां तटबंध का उच्चीकरण, सुदृढ़ीकरण एवं पक्कीकरण कार्य फेज वन लागत राशि अनुमानित 325.12 करोड़ है, जो पिपराघाट से ठेंगहा पुल तक 80 किलोमीटर की लंबाई में है। इस कार्यक्रम का आज शिलान्यास मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के द्वारा किया गया था। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता संजय कुमार झा(मंत्री, जल संसाधन विभाग, बिहार) एवं शैलेंद्र कुमार (सूचना एवं जनसंपर्क विभाग, मधुबनी) बिहार द्वारा किया गया। इस मौके पर विशिष्ट अतिथि के रुप में लेसी सिंह(प्रभारी मंत्री) एवं डॉ० रामप्रीत पासवान(मंत्री, पीएचइडी) एवं शीला कुमारी(परिवहन मंत्री, बिहार) की उपस्थिति रही थी। साथ में नीतीश मिश्रा(सदस्य, बिहार विधानसभा), घनश्याम ठाकुर(एमएलसी, बिहार), रामप्रीत मंडल(सदस्य,लोकसभा), मीना कामत(सदस्य, बिहार विधानसभा) अरुण शंकर प्रसाद(सदस्य, बिहार विधानसभा), हरी भूषण ठाकुर “बचोल”(सदस्य,बिहार विधान सभा) की मौजूदगी रही थी। वहीं, शिलान्यास के बाद सीएम नीतीश कुमार जयनगर के डी.बी. कॉलेज में आम जनसभा को सम्बोधित किया था। इस दौरान उन्होंने कहा था कि इस कमला बियर के निर्माण से इस क्षेत्र के साथ अन्य लोगों को भी काफी लाभ मिलेगा, एवं जन सुविधाओं से जुड़ी चीजों का लगातार विस्तार किया जाता रहेगा। वहीं इस कार्य से जुड़े लोग और अन्य स्थानीय लोगों का कहना है कि अगर समय पर नही बन पाया तो एक बार फिर लाखों लोगों को प्रभावित करेगा।

कोई टिप्पणी नहीं: