मधुबनी : इंडो-नेपाल बॉर्डर पर SSB का हुआ सिविक कार्यक्रम - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 4 मार्च 2022

मधुबनी : इंडो-नेपाल बॉर्डर पर SSB का हुआ सिविक कार्यक्रम

  • किसानों को मुफ्त कृषि उपकरण मिला और स्वास्थ्य की जाँच की गयी

madhubani-ssb-civic-programe
मधुबनी (अजय धारी सिंह) जिला के जयनगर अनुमंडल के लदनियाँ प्रखंड के लगडी गाँव में एसएसबी 18वीं वाहिनी के द्वारा वृहस्पतिवार को सिविक कार्यक्रम किया गया. सशस्त्र सीमा बल द्वारा नागरिक कल्याण कार्यक्रम के तहत सांस्कृतिक नृत्य कार्यक्रम और संगीत कार्यक्रम भी आयोजित किया गया है.


कार्यक्रम में मानव और पशु चिकित्सा शिविर भी लगाया गया

भारत-नेपाल सीमा पर सुरक्षा में तैनात सशस्त्र सीमा बल की 18वीं वाहिनी द्वारा लदनियाँ प्रखंड के लगडी गाँव में नागरिक कल्याण कार्यक्रम आयोजित किया गया. कार्यक्रम का शुरुआत स्कूली बच्चों द्वारा राष्ट्रीय गीत पर भाव नृत्य एवं शराबबंदी पर आधारित नुक्कड़ नाटक से किया गया. एसएसबी की 18वीं वाहिनी के अर्राहा बीओपी द्वारा इस कार्यक्रम में मानव चिकित्सा शिविर और पशु चिकित्सा शिविर भी लगाया गया. शिविर स्थल पर आए 65 किसानों को कृषि उपकरण के रूप में हँसुआ, खुरपी, कुदाल और अन्य उपकरण बाँटे गए. दर्जनों लोगों को मुफ्त स्वास्थ्य जाँच कर दवाएँ दी गयी. तीन दर्जन से अधिक पशुओं का भी उपचार किया गया और उन्हें आवश्यक दवा भी दी गई.


SSB स्थानीय लोगों को जोड़ने के साथ हथियारों की भी ट्रेनिंग देता है

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में एसएसबी के 18वीं वाहिनी मुख्यालय राजनगर से आए समादेष्टा अरविंद वर्मा ने उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि हमारा और आपका संबंध कोई नया नही है ये बहुत पुराना है. SSB का गठन इंडो-चीन युद्ध के समय 1965 में हुआ था. लोग समझे हैं कि देश की सुरक्षा सेना करती है. लेकिन यह सही नही है इसमें वहाँ के लोगों की सहभागिता की जरूरत होती है. SSB के गठन का यही खास उद्देश्य था की स्थानीय लोगों को जोड़ना और उनको राष्ट्र की मुख्यधारा में शामिल करना. SSB ने लोगों को अन्य चीजों के साथ-साथ हथियारों की भी ट्रेनिंग दी. आज यूरोप के एक देश में युद्ध हो रहा है और वहाँ एक महाशक्ति को भी दिक्कत हो रही है क्योंकि वहाँ सेना के साथ स्थानीय नागरिक युद्ध मे शामिल हो गए हैं. SSB एक फ्रेंडली फ़ोर्स के रूप में जानी जाती है. 


शराबबन्दी पर नाटक, गोदना डाँस, झिझिया और जट-जटिन गीतों की हुई प्रस्तुति

कार्यक्रम में स्कूली बच्चों और  कलाकारों ने बिहार सरकार की शराबबन्दी के समर्थन में नुक्कड़ नाटक भी प्रस्तुत किया. साथ ही बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ थीम पर और स्थानीय मिथिला कला आधारित गोदना डांस, झिझिया और जट-जटिन गीतों पर प्रस्तुति दी गई. कार्यक्रम में चिकित्सा कमान्डेण्ट एस. सी. सुखदेव, सैकेण्ड इन कमान्डेण्ट डॉ. ब्रजेश कुमार, सहायक कमान्डेण्ट सरेश कला, लगडी बीओपी के कम्पनी कमांडर कुलदीप तिवारी, महिला विकास मंच की जिला अध्यक्षा दीपशिखा सिंह, राधा अग्रवाल सहित अन्य स्थानीय जनप्रतिनिधि शामिल रहे.

कोई टिप्पणी नहीं: