प्रतापगढ़ : जिला कारागृह का किया निरीक्षण, आवश्यक निर्देश किये - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 12 अप्रैल 2022

प्रतापगढ़ : जिला कारागृह का किया निरीक्षण, आवश्यक निर्देश किये

jail-inspacion
प्रतापगढ़/12 अप्रेल, जिला विधिक सेवा प्राध्ािकरण के सचिव (अपर जिला न्यायाधीश) शिव प्रसाद तम्बोली बन्दियों की स्थिति एवं जेलो में मूलभूत सुविधाओं का जायजा लेने के लिये जेल जिला कारागृह पहूंचे। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के पूर्णकालिक सचिव तम्बोली द्वारा जिला कारागृह में बंदीयों को मिल रही सुविधाओं स्वच्छता की व्यवस्था, बंदीयों के शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य, बिस्तर, बंदीयों को मिलने वाले आहार एवं पीने के पानी, रहने के स्थान आदि के बारे में जायजा लिया।  दौराने निरीक्षण ऐसे बंदीजनों के बारे में जानकारी ली, जिनके पास अपने प्रकरण में पैरवी हेतु अधिवक्ता नहीं है। अन्य बंदीगणों से भी वार्ता कर उनकी समस्याओं के बारे में जाना। उपस्थित समस्त बंदीजनों को जेेल मेन्यूअल का पालन करने हेतु समझाया गया। खराब सी0सी0टी0वी0 केमरों को दुरस्त करवाये जाने के निर्देश पूर्व निरीक्षण के दौरान भी दिये गये थे, जिनकी तुरन्त पालना किये जाने हेतु सचिव प्राधिकरण ने जेल स्टॉफ और उपस्थित जेलर को निर्देशित किया।  उपस्थित जेल प्रशासन को साफ सफाई को दूरूस्त रखने व जेल मेन्यूअल की कठोरता से पालना करवाने के बारे में निर्देश दिये गये। उक्त निरीक्षण के दौरान 393 पुरूष बंदी कारागृह मंे होना बताये गये और महिला बंदी एक भी नहीं है। जेल में क्षमता से अधिक बंदिगण पाये गये। जिन्हें हर हाल में कम करने के निर्देश दिये गये। अखबार में खबर ए0टी0एस0 रतलाम की साया हुई कि जेल प्रतापगढ़ में बंद कैदियों के तार निम्बाहेड़ा में ए0टी0एस0 जयपुर द्वारा गिरफ्तार अपराधियों से जुड़े होनें के संबंध में जांच की जा रही है। जेल प्रशासन को गम्भीरता से कार्य करने की हिदायत दी व कोई कैदी जेल में अवैधानिक गतिविधियां नहीं चलायेगा, इस संबंध में भी विशेष निर्देश दिये। जो कैदी गम्भीर व संवेदनशील मामले से जुड़े हैं, जिनके बारे में ए0टी0एस0 रतलाम व जयपुर जांच कर रही है, ऐसे कैदियों को हायर सिक्योरिटी जेल अजमेर या अन्य जेल में ट्रांसफर करने के संबंध में विचार किया जावे।

कोई टिप्पणी नहीं: