बिहार : 28 अप्रैल को मधुबनी पहुंचेगी 'ढाई आखर प्रेम' की सांस्कृतिक यात्रा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 20 अप्रैल 2022

बिहार : 28 अप्रैल को मधुबनी पहुंचेगी 'ढाई आखर प्रेम' की सांस्कृतिक यात्रा

dhai-akhar-prem-journy-madhubani
मधुबनी (रजनीश के झा) रविवार को मधुबनी इप्टा द्वारा आगामी सांस्कृतिक यात्रा से सम्बंधित एक बैठक आयोजित की गई। आजादी के 75 साल के मौके पर भारतीय जन नाट्य संघ (इप्टा) की पहल पर ‘ढाई आखर प्रेम का’ राष्ट्रीय सांस्कृतिक यात्रा निकाली जा रही है। भाईचारे को बढ़ावा देने वाले इस सांस्कृतिक यात्रा का आगाज छत्तीसगढ़ के रायपुर से हो रहा है. रायपुर से निकल कर यह यात्रा 18 अप्रैल को नवादा के रास्ते बिहार सीमा में प्रवेश करेगी। यह यात्रा 28 अप्रैल को सुबह 9 बजे झंझारपुर के रास्ते मधुबनी पहुंचेगी। इसकी शुरुआत झंझारपुर तरौनी (बाबा नागार्जुन जन्मस्थली) से जनवादी गीत के साथ होगी। उसके बाद यह यात्रा रहिका की ओर बढ़ेगी और वहाँ गीत-संगीत के साथ साथ नाटक की भी प्रस्तुति होगी। अन्ततः शाम 6 बजे से मधुबनी शहर में सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन के साथ यह यात्रा आगे की ओर प्रस्थान कर जाएगी। मधुबनी में लोकगीत लोकनृत्य के अलावा सांस्कृतिक दल द्वारा विभिन्न प्रस्तुति होगी। 


मधुबनी में बिहार इप्टा के राज्य सचिव इंद्रभूषण रमण 'बमबम' ने बताया कि ‘ढाई आखर प्रेम’ सांस्कृतिक यात्रा आजादी के 75वें वर्ष पूरे होने पर इप्टा के कलाकारों, बुद्धिजीवियों, पत्रकारों, कवियों एवं लेखकों द्वारा निकली जा रही आपसी प्रेम एवं भाईचारे के प्रति एक संदेशात्मक यात्रा है। इस सांस्कृतिक यात्रा का उद्देश्य स्वतंत्रता संग्राम के गर्भ से निकले स्वतंत्रता-समता-न्याय एवं बन्धुत्व के मूल्यों को पुनर्स्थापित करना एवं आजादी के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले शहीदों को याद करना है। मधुबनी इप्टा के अध्यक्ष अरविंद प्रसाद ने बताया कि यह यात्रा उन तमाम शहीदों, समाज सुधारकों एवं भक्ति आंदोलन और सूफीवाद के पुरोधाओं का सादर स्मरण हैं, जिन्होंने भाषा, जाति, लिंग और धार्मिक पहचान से इतर मुनष्यता की मुक्ति एवं लोगों से प्रेम को अपना एकमात्र आदर्श घोषित किया। साथ ही यह यात्रा नयी पीढ़ी को जागरूक करेगी। सचिव रंजीत राय ने कहा इप्टा मधुबनी इकाई शहर व गाँव के समाज एवं देश से सरोकार रखने वाले तमाम संवेदनशील कलाकारों, नाट्य प्रेमियों, कवियों, लेखकों एवं युवाओं से इस सांस्कृतिक यात्रा के कार्यक्रम में सक्रिय भागीदारी की अपील करती है। इस यात्रा का समापन 22 मई को मध्यप्रदेश में होगा। इस बैठक में सुरेश बैरोलिया, अमित महासेठ, अजयधारी सिंह, मनोज कुमार, श्रीप्रसाद दास, विकास कुमार, रवि मिश्रा, मालविका, हरि नारायण, कौशल, शोभना, अभिषेक, रमेश, प्रभात, रंजीत, रौशन, मिथिलेश, मृत्युंजय, वैदेही, वरसाना, पूजा, श्रेया समेत मधुबनी इकाई के कई सदस्य उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं: