बिहार सेक्टर पटना मुख्यालय में 'शौर्य दिवस' का हुआ आयोजन - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 9 अप्रैल 2022

बिहार सेक्टर पटना मुख्यालय में 'शौर्य दिवस' का हुआ आयोजन

  • मौके पर छह बल कर्मियों को  राष्ट्रपति द्वारा सराहनीय सेवा का पत्र  प्रदान किया गया

crpf-pana-shaurya-diwas
पटना, 9 अप्रैल, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, सीआरपीएफ, ने आज अपना 'शौर्य दिवस' मनाया। मौके पर सीआरपीएफ बिहार सेक्टर, पटना मुख्यालय में 'शौर्य दिवस' का आयोजन किया गया और छह बलकर्मियों को  राष्ट्रपति द्वारा सराहनीय सेवा का पत्र भी प्रदान किया गया।  सीआरपीएफ के द्वारा 'शौर्य दिवस' प्रत्येक साल 9 अप्रैल को देश भर में मनाया जाता है। सीआपीएफ़ के हजारों जवानों ने अपना फर्ज निभाते हुए देश के लिए कुर्बानी दी है ।अपनी जाबाजी और हिम्मत से ऐसी मिसाल दी है जो पुलिस इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में दर्ज है। इनकी दिलेरी और कारनामों को सुनकर हर देशवासी को गर्व होता है और दिल में श्रद्धा उत्पन्न होती है ।  ऐसे ही पुलिस इतिहास में एक कारनामा दर्ज है जो 9 अप्रैल 1965 को हुआ था। जिसमें पाकिस्तान की सीमा से सटे हुए कुछ भारतीय क्षेत्र पर दावा स्थापित करने के लिए पाकिस्तान ने भारतीय सीमा के चौकियों के विरुद्ध 'ऑपरेशन डेजर्ट हाक'  चलाया था। पश्चिमी पाकिस्तान की अंतरराष्ट्रीय सीमा पर रन ऑफ कच्छ गुजरात, सरदार पोस्ट पर सीमा रक्षा के लिए तैनात सीआरपीएफ की दूसरी बटालियन की दो कंपनियों पर एक पाकिस्तानी बिग्रेड ने अचानक हमला कर दिया। संख्या में काफी कम होने के बावजूद सीआरपीएफ  के जवानों  ने अपनी सूझबूझ, बुद्धिमता और व्यवसायिक दक्षता का परिचय देते हुए पाकिस्तानी सेना के हमले को नाकाम ही नहीं किया बल्कि उनको ऐसा पछाड़ा कि वह  अपने 34 सैनिकों की लाश और सात जीवित सैनिकों को छोड़ कर भाग गए। इस कार्रवाई में  दूसरी बटालियन के  सात जवान शहीद हुए थे। शहीद हुए 7 जवानों के नाम है, शमशेर सिंह, किशोर सिंह, ज्ञान सिंह, गणपत राम, हरिराम, सिंध वीर प्रधान और  किशन सिंह। युद्ध इतिहास में यह अद्वितीय घटना थी जिसमें एक भारी संख्या में सशस्त्र और कर्मियों से सुसज्जित बिग्रेड को एक छोटे अद्धसैनिक पुलिस बल ने लगातार 12 घंटे तक मुकाबला कर निकट नहीं आने दिया था एवं पूरे बिग्रेड के आक्रमण को निष्फल कर दिया।  केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के उन नायकों के वीरता पूर्ण कार्य के लिए प्रत्येक वर्ष 9 अप्रैल को शौर्य दिवस के रुप में मनाया जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं: