फतेहपुर : नम आंखों के साथ याद किए गए स्वर्गीय मुन्ना लाल मौर्य - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 29 अप्रैल 2022

फतेहपुर : नम आंखों के साथ याद किए गए स्वर्गीय मुन्ना लाल मौर्य

  • 15वीं पुण्यतिथि पर याद किये गएं पूर्व मंत्री स्वर्गीय मुन्नालाल मौर्य 
  • विधायक चुनकर पूर्व मंत्री को जनता ने दी सच्ची श्रद्धांजलि : ऊषा 
  • मेरे स्वर्गीय पिता के अधूरे सपनों को पूरा करेंगी आपकी विधायक ऊषा जी: आदित्य 
  • आज भी क्षेत्र में जाते हैं तो पिता जी याद दिलाते हैं लोग: पूजा

ribue-munna-lal-maourya
फतेहपुर: पूर्व मंत्री स्वर्गीय मुन्नालाल मौर्य की 15वीं पुण्यतिथि पर श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए याद किया गया। इस अवसर पर उनकी धर्मपत्नी एवं हुसैनगंज विधानसभा से सपा विधायिका ऊषा मौर्या ने अतिथियों के प्रति आभार प्रकट करते हुए कहा कि जनता ने भारी मतों से विधायक बनाकर उनके स्वर्गीय पति को सच्ची श्रद्धांजलि दी है, जिसकी वो आभारी हैं।  बताते चलें कि सुल्तानपुर घोष स्थित रामपाल मौर्य महाविद्यालय में कॉलेज के संस्थापक एवं पूर्व मंत्री उत्तर प्रदेश शासन रहे स्वर्गीय मुन्नालाल मौर्य की 15वीं पुण्यतिथि पर उनकी समाधि पर श्रद्धासुमन समर्पित किए गए। व्यक्तित्व एवं कृतित्व को लेकर एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया जहां दीप प्रज्वलित कर मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण के बाद स्वर्गीय मुन्नालाल मौर्य के प्रतिमा पर श्रद्धा के सुमन अर्पित करने के साथ ही श्रद्धांजलि सभा आयोजित की गई। 


वक्तव्य की श्रंखला में सर्वप्रथम बस्ती से आईं 12 वर्षीय एजुकेशन एक्टिविस्ट जिया मौर्या ने अपने संबोधन से शिक्षा व वर्तमान की राजनीतिक परिभाषा विषयक से सबको हैरत में डाल दिया जिसके लिए विधायक ऊषा मौर्या ने शील्ड देकर एजुकेशन एक्टिविस्ट को सम्मानित किया। उसके उपरांत मीडिया जगत में अपनी अलग पहचान बनाने वाले फायर ब्रांड मीडिया लीडर एवं राष्ट्रीय पत्रकार महासंघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शीबू खान ने पूर्व मंत्री स्वर्गीय मुन्ना लाल मौर्य के मिशन व विज़न पर चर्चा करते हुए बीते 27 अप्रैल 2007 को मनहूस दिवस बताते हुए बताया कि किस प्रकार से हमारे क्षेत्र की क्षति हुई एवं वर्तमान के परिदृश्य पर नजर डालते हुए विधायिका ऊषा मौर्या से पूर्व मंत्री के अधूरे सपनों को साकार करने की बात कहते हुए जनता से सहयोग देने की बात रखी। इसके अलावा अन्य वक्ताओं ने भी अपनी बात रखी। लखनऊ के आशुतोष पांडेय एवं रायबरेली के अनुज पांडेय ने मुन्ना लाल मौर्य के विषय में विस्तार से प्रकाश डाला। स्वर्गीय मुन्नालाल मौर्य के छोटे सुपुत्र आदित्य मुन्ना मौर्य ने कहा कि उनके पिता की इतनी बड़ी शख्सियत थी कि लाखों लोगों ने आंखों को नम कर के विदाई दी थी। जनता ने उनकी धर्मपत्नी एवं मेरी माता को विधायक बना कर जो आशीर्वाद दिया है उसको कभी नहीं भूलेंगे। वहीं पूर्व मंत्री की मंझली बेटी एडवोकेट पूजा मौर्या ने अपने पिता की याद से सबकी आँखों को नम करते हुए कहा कि उनके पिता आज भी आप सभी के दिलों में जिंदा हैं यही हमारे लिए ताकत है क्योंकि जब भी हम किसी नागरिक से मिलते हैं तो मेरे स्वर्गीय पिता जी की बात बताते हुए हमको साहस व हिम्मत देते हैं जिसका हम आजीवन ऋणी रहेंगे एवं कहा कि पिता जी के अधूरे सपनों को आप सभी के सहयोग से अवश्य पूरा किया जाएगा।


मुख्य वक्ता के रूप में उनकी धर्मपत्नी एवं हुसैनगंज विधानसभा क्षेत्र की सपा विधायक ऊषा मौर्य ने कहा कि जनता ने जिस विश्वास से उन्हें भारी बहुमत से जिताया है वे उनके विश्वास पर खरा उतरने की हमेशा कोशिश करेंगी। वे अपने पति एवं हरदिल अजीज नेता स्वर्गीय मुन्नालाल मौर्य के सपनों को पूरा करने के साथ साथ जरूरत पड़ी तो अन्याय के खिलाफ सड़कों पर संघर्ष करेंगी। अधिक से अधिक विकास के लिए सरकार से लड़ा जाएगा और सदन में जोरदारी से बात रखी जाएगी। उन्होंने कहा कि न गलत करें और न गलत सहें। वे जनता के साथ जनता की लड़ाई लड़ती रहेंगी। उन्होंने इस बात पर चिंता व्यक्त की कि आज संविधान खतरे में है। दलित, पिछड़े और अल्पसंख्यक समाज के साथ - साथ महिलाओं के साथ अत्याचार और दुराचार बढ़ रहा है। देश को सांप्रदायिकता की आग से निकालने के लिए वे भाईचारे की लड़ाई लड़ती रहेंगी। इस दौरान वरिष्ठ पत्रकार राजेश माहेश्वरी ने भी स्वर्गीय मुन्नालाल मौर्य के साथ बिताए पलों को याद किया। इस दौरान मंच पर स्वर्गीय मुन्नालाल मौर्य जी के पिता ननकू प्रसाद मौर्य भी लोगों के बीच उपस्थित रहें व नम आंखों से अपने स्वर्गीय बेटे को श्रद्धांजलि देते रहें। इस मौके पर राज कुमार मौर्य एडवोकेट, वली उल्ला, प्रेमपाल, गंगा प्रसाद पाल, गुरु प्रसाद चौरसिया, ननकू प्रसाद मौर्य, जिला पंचायत सदस्य चंद्रशेखर फौजी, शहंशाह, राजन तिवारी, अभिमन्यु मौर्या, अशोक सिंह, रुक्कू यादव, कमलेश पाल, रमेश सिंह यादव, नरसिंह यादव, देवीदीन मौर्य, सुरेंद्र मौर्य प्रधान, कृष्णा यादव प्रधान, राजेंद्र प्रधान, मनोज प्रधान, भूरा महाराज, शीबू खान, तेज सिंह यादव, रंजीत सिंह, सिकंदर नकवी, गोवर्धन, कमलेश मौर्य, योगेंद्र मौर्य लाला, मुन्ना यादव, मनोज मौर्य, अफसर खान, खेमकरन यादव, सन्तलाल मौर्य, समाजसेवी दीपक मौर्य, संजीत यादव, पिंटू शुक्ला, नारायनदेव, डॉ० ऊषा श्रीवास्तव, खुशनुमा, प्रियंका यादव, ज्योति देवी, रजोल मौर्य सहित सैकड़ों की तादाद में क्षेत्रीय एवं बाहरी लोग मौजूद रहे। कार्यक्रम का कुशल संचालन मनोवैज्ञानिक डॉ० राजेश शर्मा ने किया।

कोई टिप्पणी नहीं: