कांग्रेस पार्टी आज भी मजबूत पार्टी : गहलोत - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 3 अप्रैल 2022

कांग्रेस पार्टी आज भी मजबूत पार्टी : गहलोत

congress-strong-party-gehlot
जयपुर, तीन अप्रैल, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को विपक्ष की बात को भी गंभीरता से लेना चाहिए और उसके अनुसार कार्य करना चाहिए। गहलोत ने कहा कि आज भी कांग्रेस बहुत मजबूत पार्टी है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी पिछले सात साल से लगातार प्रधानमंत्री और केन्द्र सरकार के खिलाफ आवाज बुलंद कर रहे हैं और उन्हें कठघरे में खड़ा किया है। गहलोत ने कहा कि राहुल गांधी ने बहुत पहले ही आगाह कर दिया था कि कोरोना की स्थिति भयावह होने वाली है और सरकार को चाहिए कि वह अभी से ही ध्यान दे और कदम उठाए। गहलोत ने कहा, ‘‘विपक्ष तो आपको केवल आगाह ही कर सकता है, उन्होंने (राहुल गांधी ने) किया, उनकी बात सच निकली। राहुल गांधी ने जो पहले आगाह किया था, वही सच हो रहा है। मोदी जी को विपक्ष के नेता की बात को गंभीरता से लेना चाहिए और उसके अनुरूप कदम उठाना चाहिए।’’


उन्होंने कहा, ‘‘मैं मुख्यमंत्री हूं और यदि कार्यकर्ता या विपक्ष का कोई नेता कुछ बोलता है तो मैं उस पर गौर करता हूं और उनकी बातों में दम होता है तो मेरी नैतिक जिम्मेदारी बनती है कि मैं जनहित के लिए उस बात का निरीक्षण करूं और उसे लागू करवाऊं।’’ उन्होंने कहा कि आज इस तरह का माहौल बन गया है जैसे कांग्रेस वाले दुश्मन हैं। गहलोत ने कहा, ‘‘आज कांग्रेसमुक्त भारत की बातें की जाती है, लेकिन कांग्रेस-मुक्त भारत कभी नहीं होना वाला है, अगले 100 साल तक भी नहीं। जो मुक्त करने की बात करते हैं, वे खुद मुक्त हो जाएंगे, क्योंकि उनका रास्ता सही रास्ता नहीं है, उनका रास्ता कथनी व करनी में अंतर वाला है।’’ उन्होंने कहा कि जाति और धर्म के नाम पर राजनीति करना बहुत आसान काम है, लेकिन लोकतंत्र में धर्म निरपेक्षता और संविधान की मूलभावना से बात होनी चाहिए। गहलोत ने कहा कि जब 2014 में नरेन्द्र मोदी ने चुनाव जीता था तब वोट शेयर केवल 31 फीसदी था यानी 31 फीसदी वोट शेयर के साथ वह प्रधानमंत्री बने थे, जबकि 69 प्रतिशत वोट शेयर उनके खिलाफ था। उन्होंने अतीत में कांग्रेस पार्टी के उतार चढ़ाव का जिक्र करते हुए रविवार को कहा कि कांग्रेस चुनाव हारने मात्र से खत्म नहीं होने वाली और यह अब भी एक मजबूत पार्टी है, जिसकी पूरे देश के हर घर में मौजदूगी है। उन्होंने 1977 के आम चुनावों में कांग्रेस पार्टी की भारी हार का उदाहरण दिया, जब इंदिरा गांधी भी चुनाव हार गई थी और कहा कि पार्टी ने बाद में जोरदार वापसी की और सरकार बनाई। उन्होंने कहा, ‘‘...उस वक्त भी कांग्रेस कहां खत्म हुई? कांग्रेस चुनाव हारने से खत्म नहीं होती है। कांग्रेस आज भी एक बहुत मजबूत पार्टी है।’’

कोई टिप्पणी नहीं: