30 अप्रैल को पहले ग्रीनफील्ड ग्रेन बेस्ड इथेनॉल उत्पादन ईकाई का शुभारंभ : शाहनवाज - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 29 अप्रैल 2022

30 अप्रैल को पहले ग्रीनफील्ड ग्रेन बेस्ड इथेनॉल उत्पादन ईकाई का शुभारंभ : शाहनवाज

firs-green-feild-ehenol-producion-shahnawaz
बिहार के उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा कि वो घड़ी करीब आ गई है, जिसका बेसब्री से बिहार वासियों का इंतजार है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के मार्गदर्शन में पिछले एक साल की दिनरात की मेहनत अब अच्छे नतीजे दे रही है। 30 अप्रैल 2022 को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के हाथों केंद्र और बिहार की इथेनॉल पॉलिसी 2021 आने के बाद देश के पहले नए ग्रीनफील्ड ग्रेन बेस्ड इथेनॉल उत्पादन ईकाई का शुभारंभ होगा। पूर्णियां में 105 करोड़ की लागत से ईस्टर्न इंडिया बायोफ्यूल्स प्रा. लि. की इथेनॉल उत्पादन ईकाई स्थापित हुई है, जो रिकॉर्ड 1 साल में बनकर तैयार हुई है। उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा कि पूर्णियां के अलावा गोपालगंज में भी दो और आरा में एक इथेनॉल उत्पादन ईकाई बनकर तैयार है, जिसका जल्द उद्घाटन किया जाएगा। बिहार में इस वक्त उद्योग का शानदार माहौल है।  मुजफ्फरपुर के मोतीपुर में कई ईकाईयों ने निर्माण कार्य शुरु कर दिया है और राज्य के अन्य हिस्सों में भी उद्योग के क्षेत्र में काफी हलचल है। उन्होंने कहा कि जो लोग अब भी मानने को तैयार नहीं कि बिहार में उद्योग लग सकते हैं, उनके लिए पूर्णिया में खुल रहा इथेनॉल उत्पादन का प्लांट एक उदाहरण है। बिहार के उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा कि बिहार में छोटे बड़े सभी उद्योग साथ साथ आगे बढ़ रहे हैं। बिहार में इस वक्त 100 करोड़, 500 करोड़ की औद्योगिक ईकाईयां लग रही है, तो बिहार के पारंपरिक उद्योग जैसे हैंडलूम, हैंडीक्राफ्ट्स की भी चिंता हम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बिहार में पहली बार लगे सिल्क मार्क एक्स्पो से न सिर्फ बिहार व भारतीय सिल्क की ब्रांडिंग में मदद मिल रही है बल्कि प्योर सिल्क को बढ़ावा देकर सिल्क उत्पादकों के लिए भी बेहतर बाजार उपलब्ध कराने की कोशिश है।

कोई टिप्पणी नहीं: