फिर बढ़े वाहन ईंधन के दाम; कई शहरों में पेट्रोल 100 रुपये के पार - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 3 अप्रैल 2022

फिर बढ़े वाहन ईंधन के दाम; कई शहरों में पेट्रोल 100 रुपये के पार

petrol-diesel-price-hike-again
नयी दिल्ली, तीन अप्रैल, वाहन ईंधन कीमतों में रविवार को लगभग दो सप्ताह में 11वीं बार बढ़ोतरी की गई। इससे देश के सभी प्रमुख शहरों में पेट्रोल 100 रुपये प्रति लीटर के पार हो गया है। वहीं कुछ स्थानों पर डीजल भी ‘शतक’ को पार कर गया है। रविवार को पेट्रोल और डीजल दोनों के दाम 80-80 पैसे प्रति लीटर और बढ़ाए गए हैं। पेट्रोलियम कंपनियों की मूल्य अधिसूचना के अनुसार, राजधानी में पेट्रोल की कीमत अब 102.61 रुपये प्रति लीटर से बढ़कर 103.41 रुपये प्रति लीटर हो गई है। वहीं डीजल का दाम 93.87 रुपये से बढ़कर 94.67 रुपये प्रति लीटर हो गया है। देशभर में स्थानीय करों की वजह से वाहन ईंधन कीमतों में अंतर होता है। यह वाहन ईंधन कीमतों में 22 मार्च से 11वीं वृद्धि है। इससे पहले करीब साढ़े चार माह तक वाहन ईंधन के दाम नहीं बढ़ाए गए थे। कुल मिलाकर इस दौरान पेट्रोल आठ रुपये लीटर महंगा हुआ है। श्रीनगर से लेकर कोच्चि तक देश के सभी प्रमुख शहरों में अब पेट्रोल 100 रुपये प्रति लीटर से अधिक के भाव पर बिक रहा है। वहीं तिरुवनंतपुरम (101.83 रुपये प्रति लीटर), हैदराबाद (103.3 रुपये), मुंबई (102.62 रुपये), भुवनेश्वर (100.1 रुपये), रायपुर (100.74 रुपये), राजस्थान, मध्य प्रदेश, तेलंगाना ओर आंध्र प्रदेश में डीजल शतक को पार कर चुका है। चेन्नई और भोपाल में डीजल 99 रुपये प्रति लीटर से अधिक हो गया है। आंध्र प्रदेश के चित्तूर में डीजल सबसे महंगा यानी 105.52 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गया है। वहीं राजस्थान के श्री गंगानगर में पेट्रोल का दाम सबसे ऊंचा यानी 120.65 रुपये प्रति लीटर है। मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विसेज ने पिछले महीने कहा था कि विधानसभा चुनावों के समय वाहन ईंधन कीमतों में बदलाव नहीं करने से सार्वजनिक क्षेत्र की पेट्रोलियम कंपनियों को 2.25 अरब डॉलर या 19,000 करोड़ रुपये के राजस्व का नुकसान हुआ है। कोटक इंस्टिट्यूशनल इक्विटीज के अनुसार, कच्चे तेल के दाम 100 से 120 डॉलर रहने पर पेट्रोलियम कंपनियों को डीजल कीमतों में 13.1 से 24.9 रुपये प्रति लीटर और पेट्रोल कीमतों में 10.6 से 22.3 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि करने की जरूरत होगी।

कोई टिप्पणी नहीं: