पीओके के प्रधानमंत्री सरदार अब्दुल कय्यूम नियाज़ी ने दिया इस्तीफा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 15 अप्रैल 2022

पीओके के प्रधानमंत्री सरदार अब्दुल कय्यूम नियाज़ी ने दिया इस्तीफा

pok-pm-resign
इस्लामाबाद, 15 अप्रैल, पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के प्रधानमंत्री सरदार अब्दुल कय्यूम नियाज़ी ने सत्तारूढ़ पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) पार्टी में उनके खिलाफ विद्रोह के बाद इस्तीफा दे दिया है। पीटीआई के प्रमुख इमरान खान द्वारा चुने गए नियाज़ी ने बृहस्पतिवार को इस्तीफा दे दिया। पार्टी के 25 सांसदों ने नियाज़ी के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया था। उन्होंने पार्टी के क्षेत्रीय अध्यक्ष सरदार तनवीर इलियास को पीओके का नया प्रधानमंत्री बनाने का प्रस्ताव रखा। नियाज़ी ने 14 अप्रैल को भेजे इस्तीफे में लिखा कि संविधान के अनुच्छेद 16 (1) के तहत, ‘‘ मैं, प्रधानमंत्री के अपने पद से इस्तीफा देता हूं।’’ उन्होंने यह इस्तीफा पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के राष्ट्रपति सुल्तान महमूद चौधरी को भेजा। समाचार पत्र ‘डॉन’ की खबर के अनुसार, राष्ट्रपति मामलों के सचिव डॉ. आसिफ हुसैन शाह ने चौधरी द्वारा नियाज़ी का इस्तीफा स्वीकार करने की पुष्टि की और बताया कि औपचारिक अधिसूचना जारी करने के लिए इसे मुख्य सचिव के पास भेज दिया गया है। नियाज़ी ने बृहस्पतिवार को इस्लामाबाद में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा था कि अविश्वास प्रस्ताव में उनके खिलाफ ‘‘निराधार आरोप’’ लगाए गए हैं। नियाज़ी पिछले साल पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के प्रधानमंत्री बने थे, जब पीटीआई ने चुनाव में सदन की 53 सीटों में से 32 पर जीत हासिल की थी। भारत ने पीओके में चुनाव को ‘‘महज दिखावा’’ करार देते हुए खारिज कर दिया था और कहा था कि यह पाकिस्तान की ‘‘ उसके अवैध कब्जे को छिपाने की कोशिश है।’’ पीओके में चुनाव पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा था कि पाकिस्तान का ‘‘इन भारतीय क्षेत्रों पर कोई अधिकार नहीं है’’ और उसे उन सभी भारतीय क्षेत्रों को खाली करना चाहिए, जहां उसने अवैध कब्जा कर रखा है।

कोई टिप्पणी नहीं: