बिहार : शीशे के घर में रहने वाले दूसरे के घरों पर पत्थर नहीं फेंका करते : राजद - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 28 अप्रैल 2022

बिहार : शीशे के घर में रहने वाले दूसरे के घरों पर पत्थर नहीं फेंका करते : राजद

पटना : भाजपा में जिस प्रकार पार्टी के सबसे शालीन चेहरा नीतीश मिश्रा की सरेआम बेइज्जती की गई और इस घटना को लेकर आम अवाम में भारी आक्रोश है। नीतीश मिश्रा जिस सामाजिक पृष्टभूमि से आते हैं वह भाजपा और एनडीए का सबसे बड़ा आधार वोटर रहा है। नीतीश मिश्रा पूर्व में मंत्री रह चुके हैं। उनके पिता लम्बे दिनों तक बिहार के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। स्वतंत्रता आन्दोलन में जिनके पूर्वजों की महत्वपूर्ण भूमिका रहा है और जब वैसे व्यक्ति को पार्टी के एक वरिष्ठ नेता व केंद्रीय मंत्री द्वारा पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की उपस्थिति में सरेआम जलील किया गया। जिस दल और गठबंधन में किसी केंद्रीय मंत्री द्वारा पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को खुलेआम अपमानित किया जाता हो वह दल और गठबंधन यदि किसी दूसरे दल के साधारण मामले पर कोई प्रतिक्रिया देता है, तो इससे बड़ा हास्यास्पद और कुछ हो हीं नहीं सकता। उक्त बातें राजद प्रवक्ता चित्तरंजन गगन ने कही। राजद प्रवक्ता चित्तरंजन गगन ने राजद के आन्तरिक मामलों पर टीका-टिप्पणी करने वालों से कहा है कि शीशे के घर में रहने वाले दूसरों के घरों पर पत्थर नहीं फेंका करते। राजद नेता ने कहा कि जन सरोकार से जुड़े मामलों पर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव  के नेतृत्व में राजद लगातार सदन से लेकर सड़क तक आवाज उठाती रही है, यह सत्ता में बैठे लोगों को नहीं पच रहा है। बेरोजगारी, महँगाई, शिक्षा, स्वास्थ्य और कानून-व्यवस्था जैसे आमजन से जुड़े सवालों और एनडीए के घटक दलों के बीच और दलों के अंदर मचे घमासान से ध्यान भटकाने के लिए वे राजद के अन्दरूनी मामले को तोड़-मरोड़ कर अनर्गल बयानबाजी कर रहे हैं। चित्तरंजन गगन ने कहा कि एनडीए के घटक दलों के बीच और दलों के अन्दर भी जिस प्रकार महासंग्राम चल रहा है उसका दुष्प्रभाव शासन व्यवस्था और दलीय संरचना पर पड़ रहा है। इसलिए एनडीए नेताओं को पहले अपने घर को ठीक करने पर ध्यान देना चाहिए।

कोई टिप्पणी नहीं: