प्रधानमंत्री बनकर करना चाहती हूं देश की सेवा : मायावती - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 29 अप्रैल 2022

प्रधानमंत्री बनकर करना चाहती हूं देश की सेवा : मायावती

serv-as-pm-mayawai
लखनऊ 28 अप्रैल, बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने गुरूवार को कहा कि दलित और पिछड़ों के उत्थान के लिये वह उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री और देश की प्रधानमंत्री बन कर जनसेवा करना चाहती हैं जबकि समाजवादी पार्टी (सपा) अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिये उनके राष्ट्रपति बनने की आशंका का दुष्प्रचार कर रही है। सुश्री मायावती ने यहां कहा कि दलित,आदिवासी,पिछड़ा वर्ग, मुस्लिम और अपरकास्ट के ग़रीब बसपा से जुड़ जाते है तो फिर ये लोग बसपा की मुखिया को यूपी का मुख्यमंत्री ही नहीं बल्कि आगे चलकर देश का प्रधानमंत्री भी बना सकते हैं, क्योंकि इन वर्गाें के वोटों में बहुत बड़ी ताक़त है, बशर्ते ये लोग एकजुट होकर बसपा से जुड़ जायें और चुनाव में किसी भी प्रकार से गुमराह ना हो। उन्होने कहा “ मैं अपनी ज़िन्दगी में यूपी की फिर से सीएम बनने व आगे चलकर देश का पीएम बनने का सपना देख सकती हूँ, लेकिन देश का राष्ट्रपति बनने का तो सपना मैं कभी भी नहीं देख सकती हूं, क्योंकि मैंने अपनी पूरी ज़िन्दगी ऐशो-आराम के लिए नहीं बल्कि बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर एवं कांशीराम के बताये हुये रास्तों पर चलकर व कदम-कदम पर कड़ा संघर्ष करके इनके अनुयायियों को व ख़ासकर दबे कुचले लोगों को अपने पैरों पर खड़ा करने के लिए समर्पित की हुई है।

कोई टिप्पणी नहीं: