बिहार : फादर गुंजन रफायल 29 मई को कैथोलिक चर्च मिस्सा पूजा अर्पित करेंगे - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 28 मई 2022

बिहार : फादर गुंजन रफायल 29 मई को कैथोलिक चर्च मिस्सा पूजा अर्पित करेंगे

faher-gunjan
चखनी. पश्चिम चंपारण जिले के बगहा एक प्रखंड में है चखनी रजवटिया ग्राम पंचायत.इसी पंचायत में रोमन कैथोलिकों का चर्च है.इसका नाम होली फैमिली कैथोलिक चर्च है.इस चर्च के रक्षक और चखनी पल्ली के चरवाहा फादर चैंबर्लिन हैं पल्ली पुरोहित.पल्ली पुरोहित फादर चैंबर्लिन के कुशल नेतृत्व में 25 मई को फादर गुंजन रफायल  का शानदार ढंग से पुरोहिताभिषेक समारोह संपन्न हुआ.अब फादर गुंजन रफायल 29 मई को होली फैमिली कैथोलिक चर्च में पहली बार मिस्सा पूजा अर्पित करेंगे.यहां पर बाल्यावस्था में मिस्सा सुनते थे.वहां पर उनको मिस्सा करने के लिए तैयारी शुरू कर दी गयी है. मालूम हो कि चखनी पल्ली 1874 में अस्तित्व में आया. चालू वर्ष 2022 में चखनी पल्ली 148 वर्ष पूरा कर रहा है. यह पल्ली 2024 में 150 साल का हो जाएगा.इस बीच चखनी पल्ली के रहने वाले मुकेश रफायल और पूनम क्लारेंस ने पल्लीवासी और बेतिया धर्मप्रांत के लोगों को खुशी प्रदान किये हैं.धार्मिक दम्पति के तीन सुपुत्र विंसेंट रफायल,गुंजन रफायल और गुंजेश रफायल हैं.इनमें से एक बीच वाले सुपुत्र गुंजन रफायल को प्रभु की सेवा करने के लिए समर्पित कर दिये हैं. इस समर्पित दिवस के अवसर पर चखनी पल्ली की धरती पर जन्म लेने वाले धरती पुत्र रायगढ़ महाधर्मप्रांत के महाधर्माध्यक्ष विक्टर हेनरी ठाकुर और फादर बर्टी पौल उपस्थित रहे. बताते चले कि फादर गुंजन रफायल का जन्म 03 मार्च, 1994 को हुआ था. जब वे 27 साल के थे तब 28 दिसंबर,2021 को चुहड़ी पल्ली में उप याजक बने.147 दिनों के बाद 28 साल में 25 मई 2022 को पुरोहिताभिषेक समारोह में उप याजक से याजक बने.पुरोहित बनने के बाद फादर गुंजन रफायल के द्वारा रविवार 29 मई को होली फैमिली कैथोलिक चर्च,चखनी में सुबह साढ़े छह बजे से पहली बार मिस्सा अर्पित करेंगे.

कोई टिप्पणी नहीं: