बिहार : प्रधानमंत्री ने पीएम-किसान की 11वीं किस्त जारी किया - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 31 मई 2022

बिहार : प्रधानमंत्री ने पीएम-किसान की 11वीं किस्त जारी किया

  • मोदी सरकार के आठ साल पूरे होने के मौके पर देशभर में गरीब कल्याण सम्मेलन का हुआ आयोजन,  नौ केंद्रीय मंत्रालयों/विभागों के कार्यक्रमों के लाभार्थियों से प्रधानमंत्री ने की सीधी बातचीत, प्रधानमंत्री ने बांका, बिहार की लाभार्थी ललिता देवी से किया सीधा संवाद  

pm-release-kisan-fund
पटना, 31 मई, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज शिमला, हिमाचल प्रदेश में ‛ गरीब कल्याण सम्मेलन ' में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम-किसान) योजना के तहत वित्तीय लाभ की 11वीं किस्त जारी की। इससे 10 करोड़ से अधिक लाभार्थी किसान परिवारों को 21,000 करोड़ रुपये की राशि अंतरित हो गयी। इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने बिहार सहित देश भर में लाभार्थियों के साथ सीधा संवाद किया। प्रधानमंत्री के नेतृत्व में सरकार के आठ वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में आज ऐतिहासिक  ‛गरीब कल्याण सम्मेलन' का देश भर के राज्यों की राजधानियों, जिला मुख्यालयों और कृषि विज्ञान केंद्रों में आयोजन किया गया। इस सम्मेलन में देश भर के निर्वाचित जनप्रतिनिधियों को सरकार द्वारा चलाए जा रहे विभिन्न जन कल्याणकारी कार्यक्रमों के बारे में लोगों की राय प्राप्त करने का  सीधा अवसर भी मिला। ‛गरीब कल्याण सम्मेलन' सुबह 09:45 बजे शुरू हुआ। जिसमें कई राज्यों के मुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री, राज्य मंत्री, संसद सदस्य, विधान सभा के सदस्य , अन्य निर्वाचित जनप्रतिनिधि और जनता अपने-अपने स्थानों से सीधे जुड़े।  वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए गरीब कल्याण सम्मेलन से बिहार राज्य भी जुड़ा। पटना में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, केंद्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री गिरिराज सिंह व केंद्रीय इस्पात मंत्री आर सी पी सिंह इस कार्यक्रम से जुड़े। बक्सर में केंद्रीय पर्यावरण,वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री अश्विनी कुमार चौबे इस कार्यक्रम से जुड़े। जबकि आरा में बिहार सरकार के मंत्रियों श्रवण कुमार, सम्राट चौधरी, अमरेंद्र प्रताप सिंह, लेसी सिंह और पूर्व केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव के साथ केंद्रीय विद्युत, नवीन एवं नवीकरणीय मंत्री आर.के. सिंह कार्यक्रम से जुड़े।


सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री ने भारत सरकार के नौ मंत्रालयों/विभागों के विभिन्न कार्यक्रमों के लाभार्थियों से बातचीत की। बिहार के बांका जिले की लाभार्थी ललिता देवी से उन्होंने सीधा संवाद किया। प्रधानमंत्री ने ललिता देवी से केंद्रीय योजनाओं से उनके द्वारा उठाए गए लाभों के बारे में जानकारी ली। ललिता देवी ने बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना में उन्हें पक्का घर मिला। पहले उनका घर घास फूंस का हुआ करता था। बरसात के मौसम में काफी परेशानी होती थी। उन्होंने केंद्रीय योजना का लाभ उठाते हुए अपने घर में शौचालय भी बनाया। उन्होंने बताया कि पहले शौचालय के लिए घर से बाहर जाना होता था , लाज लगती थी। लेकिन अब हर घर-घर में शौचालय बन चुका है। उन्होंने उज्जवला योजना की चर्चा करते हुए बताया कि पहले उनके घर में खाना लकड़ी के चूल्हे पर बनता था, धुंए से परेशानी होती थी। लेकिन केंद्र सरकार की उज्ज्वला योजना से गैस सिलेंडर और चूल्हा  मिल जाने के बाद जीवन ही बदल गया। इसके पूर्व पटना में आयोजित कार्यक्रम में केंद्रीय ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री किसान निधि योजना सिर्फ किसानों के हित के लिए ही नहीं है बल्कि यह पूरे देश की समृद्धि के लिए है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं से 8 साल में ऐतिहासिक पहल की गई है । उज्जवला योजना से जहाँ गरीबों को रसोई गैस का कनेक्शन मिला तो वहीं प्रधानमंत्री आवास योजना से पक्का मकान मिला। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना ने कोरोना काल में गरीबों की काफी मदद की है। प्रधानमंत्री ने इस योजना के जरिए किसी भी गरीब को भूखे मरने नहीं दिया।  मौके पर बिहार के कई लाभार्थियों ने केंद्रीय जन कल्याणकारी योजनाओं से लाभान्वित होने की कहानी सुनाई। पटना की सोनाली कुमारी ने बताया कि वह गंभीर   बीमारी से पीड़ित थी।  ऐसे में आयुष्मान भारत योजना का लाभ उठाकर स्वस्थ हुई। पटना की उर्मिला देवी, जिनके पति ऑटो चलाते हैं, ने बताया कि कोरोना काल में जब हमारे सामने भोजन का संकट आया तब प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना से हमें अनाज मिलने लगा और हमारे सामने खाने पीने का संकट नहीं रहा । साथ ही जीरो बैलेंस में हमारे अकाउंट में ₹500आया। इससे हमने अपनी स्थिति को सुधारा। जबकि उज्जवला योजना की लाभार्थी गुड़िया देवी ने कहा कि पहले लकड़ी पर खाना बनाते थे तो धुएं से आंख में काफी तकलीफ होती थी, लेकिन जब से उज्जवला योजना के तहत हमने गैस कनेक्शन लिया है और खाना गैस पर  बनने लगा हैं, हमारा जीवन बदल गया है। गुड़िया देवी ने प्रधानमंत्री का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उन्होंने हमें धुए से राहत दिलाई। जबकि बलिराम शर्मा ने कहा कि किसान निधि से हम जैसे गरीब किसानों को काफी फायदा हुआ है। उन्होंने इसके लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया।

कोई टिप्पणी नहीं: