बिहार : 29 मई को पारिवारिक दिवस मनाने का निश्चय - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 28 मई 2022

बिहार : 29 मई को पारिवारिक दिवस मनाने का निश्चय

29-may-faimily-day
चुहड़ी. (आकांक्षा पौल) अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस हर साल 15 मई को मनाया जाता है.इस बार चुहड़ी पल्ली की स्थापना के 253 वें साल में यहां की पल्ली की कमिटी ने 29 मई को पारिवारिक दिवस मनाने का निश्चय किया है.  बता दें अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस को संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा 1993 में संकल्प ए/आरईएस/47/237 के साथ घोषित किया गया था और यह अंतर्राष्ट्रीय समुदाय द्वारा परिवारों को दिए जाने वाले महत्व को दर्शाता है . बता दें कि पारिवारिक दिवस के अवसर पर 29 मई की शाम 05.30 से पवित्र मिस्सा होगा. पवित्र मिस्सा के उपरांत संध्या 07.00 बजे से प्रीतिभोज होगा.इस प्रीतिभोज का खर्च पल्ली के लोग उठा रहे  हैं.इस प्रीतिभोज का स्थल लोयला स्कूल है.यहां पैरिश के लोग उपस्थित होकर सामूहिक भोज का लुफ्त उठाएंगे. यह भी बता दें कि उत्तर बिहार में ईसाई धर्म के कई चर्च मौजूद हैं.उसमें चर्च ऑफ दी असम्पसन ऑफ दी बी व्ही एम भी है.यह बेतिया धर्मप्रांत की चुहड़ी पल्ली में स्थित है.चुहड़ी पल्ली के बारे में कहा जाता है कि यह कैथोलिक धर्म नेपाल में कैथोलिक धर्म से जुड़ा हुआ है.हिंदू राज्य में नेपाल के एकीकरण होने के बाद पृथ्वी नारायण शाह द्वारा कैथोलिक धर्म से जुड़े लोगों को ब्रिटिश जासूस समझने लगे. वहां से कैथोलिक प्रीस्ट और कई नेपाली ईसाई भारत के लिए रवाना हुए और 1769 में चुहड़ी में आकर बस गए.इस तरह 1769 में  चुहड़ी   मिशन की शुरुआत हो गयी. यहां 1934 में भूकंप आने के कारण पुराना चर्च  गिर गया था.तब जाकर 1959 में नया चर्च बना.इस चर्च का नाम है चर्च ऑफ दी असम्पसन ऑफ दी बी. व्ही. एम .यहां करीब 75 परिवार हैं और सदस्यों की संख्या 350.चुहड़ी पल्ली के पुरोहित फादर तोबियास टोप्पो हैं.  

कोई टिप्पणी नहीं: