दिल्ली की न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी, मंगोलपुरी में बुलडोजर कार्रवाई - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 10 मई 2022

दिल्ली की न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी, मंगोलपुरी में बुलडोजर कार्रवाई

bulldozer-in-mangolpuri-delhi
नयी दिल्ली, 10 मई, अतिक्रमण रोधी अभियान को अंजाम देने के लिए दक्षिणी दिल्ली नगर निगम (एसडीएमसी) के अधिकारी बुलडोजर के साथ मंगलवार को न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में गुरुद्वारा रोड पर पहुंचे और अवैध अस्थायी निर्माण को हटाया। नगर निगम के अधिकारी सोमवार को शाहीन बाग भी पहुंचे थे, लेकिन स्थानीय लोगों तथा राजनेताओं के विरोध-प्रदर्शन के बाद वे बिना कोई कार्रवाई किए ही लौट गए थे। उत्तरी दिल्ली नगर निगम (एनडीएमसी) ने भी मंगलवार को मंगोलपुरी के एक इलाके में अतिक्रमण रोधी अभियान चलाया। एनडीएमसी के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘ मंगोलपुरी के वाई ब्लॉक में सड़क और फुटपाथ पर करीब 500 मीटर क्षेत्र से अवैध निर्माण हटाया गया है। रेहड़ी-पटरी वालों और किराना विक्रेताओं ने अवैध अस्थायी खोखों का निर्माण किया था, जिन्हें नियमित अभियान के तहत हटा दिया गया।’’ एसडीएमसी के मध्य ज़ोन के अध्यक्ष राजपाल सिंह ने बताया कि न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में अतिक्रमण रोधी अभियान शुरू हो गया है। सिंह ने कहा, ‘‘ हमारे दलों ने बुलडोजर, ट्रक तथा अन्य उपकरणों की मदद से न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में बौद्ध धर्म मंदिर, गुरुद्वारा रोड और आसपास के क्षेत्रों से अवैध रूप से स्थापित खोखे, अस्थायी ढांचे, झोंपड़ियों या दुकानों को हटाना शुरू कर दिया है। पर्याप्त पुलिस बल मौके पर मौजूद है। अतिक्रमण के खिलाफ हमारी कार्रवाई जारी रहेगी। ’’ न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी एसडीएमसी के मध्य ज़ोन में आता है। शाहीन बाग में एसडीएमसी के अभियान के खिलाफ लोगों ने व्यापक प्रदर्शन किया था और आम आदमी पार्टी (आप) के विधायक अमानतुल्लाह खान के खिलाफ अभियान को ‘‘बाधित’’ करने के आरोप में एक मामला भी दर्ज किया गया है। वहीं, उच्चतम न्यायालय ने शाहीन बाग में अतिक्रमण रोधी अभियान के खिलाफ मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) द्वारा दायर याचिका पर विचार करने से सोमवार को इनकार कर दिया था और कहा था कि वह मामले में किसी राजनीतिक दल के कहने पर हस्तक्षेप नहीं कर सकता।

कोई टिप्पणी नहीं: