बिहार : नीतीश सरकार पर फिर हमलावर हुए चिराग - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 1 मई 2022

बिहार : नीतीश सरकार पर फिर हमलावर हुए चिराग

chirag-aack-niish-kumar
पटना : बिहार में बढ़ते अपराध और भ्रष्टाचार को लेकर लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) के नेता चिराग पासवान ने कहा कि जब प्रदेश के मुखिया ही सुरक्षित नहीं होंगे, तो आम आदमी और यहां बनने वाली चीजें कैसे सुरक्षित रह पाएंगे। उन्होंने कहा कि पुल का निर्माण घटिया सामान से किया गया होगा। इसलिए पुल इतना जल्दी गिर गया। दरअसल, भागलपुर में गंगा नदी पर बनाया गया पुल आंधी में गिरने पर चिराग ने सीएम से पूछा कि इसमें भ्रष्टाचार नहीं, तो और क्या है? उन्होंने कहा कि इस पुल को डुप्लीकेट मेटेरियल से बनाया गया होगा। इसलिए यह पुल गिर गया। वहीं, उन्होंने कहा कि जब बिहार के मुखिया ही सुरक्षित नहीं रहेंगे, तो यहां बने रहे चीज़े कितनी बेहतर होगी और इससे आम आदमी में क्या संदेश जाएंगा यह मुख्यमंत्री को समझना होगा। जानकारी हो कि, भगालपुर में गंगा नदी पर 1710 करोड़ की लागत से अगवानी-सुल्तानगंज पुल बनाया जा रहा है। इस पुल की लंबाई तकरीबन 3.160 किलोमीटर है। लेकिन, शनिवार को आंधी में पुल का एक हिस्सा गिर गया। इससे करोड़ों रुपये का नुकासान हुआ है। वहीँ, जेडीयू विधायक ललित नारायण मंडल ने पुल निर्माण में भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं। बता दें कि,शनिवार को पूर्णिया में सीएम की सुरक्षा में फिर से सेंधमारी का मामला सामने आया था। दरअसल,मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ग्रीनफील्ड ग्रेन बेस्ड इथेनॉल प्लांट का उद्घाटन करने के लिए पूर्णिया पहुंचे थे। यहां सीएम नीतीश कुमार की सुरक्षा में सेंधमारी करने की कोशिश का मामला सामने आया था। कार्यक्रम स्थल से महज 1 किलोमीटर की दूरी से एक संदिग्ध व्यक्ति को पुलिस ने दो पिस्टल के साथ पुलिस धर दबोचा था। उस व्यक्ति का नाम प्रकाश महतो बताया जाता है। वह ठुकरा गांव का रहने वाला है। उससे पूछताछ की जा रही है। इसके आलावा चिराग पासवान ने मुख्यमंत्री से पैर छूकर आशीर्वाद लेने वाले मुद्दे पर यह कहते हुए दिखें कि,इसका राजनीतिक मतलब नहीं निकालना चाहिए। वह हमसे बहुत बड़े हैं। हम उनका सम्मान करते हैं। मैं कभी भी व्यक्तिगत तौर पर सीएम का विरोध नहीं करते हैं। मैं सिर्फ उनकी नीतियों को लेकर उनका विरोध करता हूँ।

कोई टिप्पणी नहीं: