बिहार : गुमराह कर सरकार लोगों को मुद्दों से भटका रही : तेजस्वी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 1 मई 2022

बिहार : गुमराह कर सरकार लोगों को मुद्दों से भटका रही : तेजस्वी

tejashwi-yadav-attack-nitish
पटना : बिहार समेत पूरे देश में इन दिनों लाउडस्पीकर विवाद काफी जोर पकड़ा हुआ है। इसी कड़ी में बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने बिना नाम लिए नीतीश सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि लोगों को गुमराह कर सरकार उन्हें असल मुद्दों से भटका रही है। दरअसल, राजद नेता तेजस्‍वी यादव ने लाउडस्‍पीकर पर हो रहे विवाद को लेकर उन्होंने कहा कि सरकार इसी बहाने असली मुद्दाें से भटकाया जा रहा है। तेजस्‍वी ने कहा कि जो लोग धर्म और कर्म के मर्म को नहीं समझते हैं, वे ही बेवजह मुद्दों को धार्मिक रंग देते हैं। भगवान तो कण-कण में व्याप्त हैं। ईश्वर लाउडस्‍पीकर के मोहताज नहीं हैं। तेजस्वी ने ट्वीट करते हुए कहा कि लाउडस्पीकर को मुद्दा बनाने वालों से पूछता हूँ कि लाउडस्पीकर की खोज 1925 में हुई तथा भारत के मंदिरो/मस्जिदों में इसका उपयोग 70 के दशक के आसपास शुरू हुआ। जब लाउडस्पीकर नहीं था तो भगवान और ख़ुदा नहीं थे क्या? बिना लाउडस्पीकर प्रार्थना, जागृति, भजन,भक्ति व साधना नहीं होती थी क्या? सल में जो लोग धर्म और कर्म के मर्म को नहीं समझते है वही बेवजह के मुद्दों को धार्मिक रंग देते है।आत्म जागरूक व्यक्ति कभी भी इन मुद्दों को तुल नहीं देगा। भगवान सदैव हमारे अंग-संग है।वह क्षण-क्षण और कण-कण में व्याप्त है।कोई भी धर्म और ईश्वर कहीं किसी लाउडस्पीकर के मोहताज नहीं है। तेजस्‍वी ने कहा कि आज लाउडस्पीकर और बुलडोजर पर विमर्श हो रहा है, लेकिन महंगाई, बेरोजगारी, किसान और मजदूर की बात नहीं हो रही है। केंद्र व राज्‍य सरकारों पर हमलावर तेजस्‍वी ने कहा कि जनहित के असल मुद्दों को छोड़, लोगों को भ्रमित किया जा रहा है। उन्‍हाेंने सवाल किया कि जिन्‍हें शिक्षा, चिकित्सा, नौकरी, रोजगार नहीं मिल रहा, उनकी बात क्‍यों नहीं हो रही है? युवाओं की जिंदगी बर्बाद हो रही है, लेकिन इसपर चर्चा नहीं हो रही है।

कोई टिप्पणी नहीं: