पंजाब में इतिहास की तीन किताबों पर प्रतिबंध - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 1 मई 2022

पंजाब में इतिहास की तीन किताबों पर प्रतिबंध

hisory-book-ban-in-punjab
चंडीगढ़, एक मई, पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड (पीएसईबी) ने सिख इतिहास से जुड़े तथ्यों को कथित रूप से तोड़-मरोड़कर पेश करने को लेकर इतिहास की तीन किताबों पर प्रतिबंध लगा दिया है। जिन पुस्तकों पर प्रतिबंध लगाया गया है उनमें मंजीत सिंह सोढ़ी द्वारा लिखित 'मॉडर्न एबीसी ऑफ हिस्टरी ऑफ पंजाब', महिंदरपाल कौर द्वारा लिखित 'पंजाब का इतिहास' और कक्षा 12 के लिए एम एस मान द्वारा लिखी गई 'पंजाब का इतिहास' पुस्तक शामिल हैं। इन पुस्तकों को जालंधर के तीन अलग-अलग प्रकाशकों ने प्रकाशित किया है। इन पुस्तकों पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय एक जांच समिति की एक रिपोर्ट के बाद लिया गया है। इस जांच समिति का गठन किसान नेता बलदेव सिंह सिरसा की शिकायत के बाद किया गया था, जिन्होंने कहा था कि इन किताबों में कुछ टिप्पणियां हैं जो सिख इतिहास के अनुरूप नहीं हैं। पीएसईबी के अध्यक्ष योगराज सिंह ने रविवार को पुष्टि की कि तथ्यों से छेड़छाड़ को लेकर तीन पुस्तकों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

कोई टिप्पणी नहीं: