कप्तानी के बोझ से जडेजा की तैयारियां और प्रदर्शन प्रभावित हो रहा था : धोनी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 2 मई 2022

कप्तानी के बोझ से जडेजा की तैयारियां और प्रदर्शन प्रभावित हो रहा था : धोनी

jadeja-in-pressure-dhoni
पुणे, दो मई, चेन्नई सुपर किंग्स के दिग्गज महेंद्र सिंह धोनी ने कहा कि कप्तानी की जिम्मेदारियों के कारण रविंद्र जडेजा की तैयारियां और प्रदर्शन प्रभावित हो रहा था। धोनी ने पिछले महीने कप्तानी छोड़ने का फैसला किया जिसके बाद चेन्नई ने जडेजा को कप्तान बनाया था, लेकिन यह ऑलराउंडर कप्तानी का दबाव नहीं झेल पाया और आखिर में उन्होंने हाथ खड़े कर दिये। ऐसे में चेन्नई को अपने सबसे भरोसेमंद धोनी को फिर से कप्तानी सौंपनी पड़ी। जडेजा की अगुवाई में चेन्नई ने आठ में से छह मैच गंवाये। इस बीच देश के सबसे भरोसेमंद ऑलराउंडर की बल्लेबाजी, गेंदबाजी और क्षेत्ररक्षण पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ा। धोनी के कमान संभालने के बाद चेन्नई ने पहले मैच में सनराइजर्स हैदराबाद को 13 रन से हराकर प्लेऑफ में पहुंचने की उम्मीदें बरकरार रखी।


धोनी ने मैच के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘‘जडेजा को पिछले सत्र से ही पता था कि इस साल उन्हें कप्तानी करनी है। पहले दो मैचों में मैंने उनकी मदद की लेकिन इसके बाद उन्हें स्वयं फैसले करने और जिम्मेदारी लेने के लिये कहा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘एक बार जब आप कप्तान बनते हो तो उससे कई जिम्मेदारियां जुड़ जाती है। लेकिन जिम्मेदारी बढ़ने से वह प्रभावित हुआ। मुझे लगता है कि कप्तानी के बोझ से उसकी तैयारियां और प्रदर्शन प्रभावित हुआ।’’ धोनी ने कहा कि जडेजा का टीम की कमान संभालना एक क्रमिक बदलाव था जैसा कि वह चाहते थे। उन्होंने कहा, ‘‘वह जानता था और उसके पास तैयारी के लिए पर्याप्त समय था। महत्वपूर्ण यह है कि आप चाहते हैं कि वह टीम का नेतृत्व करे और मैं भी यह बदलाव चाहता था। आप नहीं चाहते कि सत्र के आखिर में उसे लगे कि कप्तानी किसी और ने की और वह केवल टॉस करने तक सीमित रहा।’’ धोनी ने कहा, ‘‘इसलिए यह क्रमिक बदलाव था। हर परिस्थिति में सुझाव देने से वास्तव में कप्तान को मदद नहीं मिलती। मैदान पर आपको महत्वपूर्ण निर्णय लेने होते हैं और आपको उनकी जिम्मेदारी लेनी होती है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘एक बार जब आप कप्तान बन जाते हैं तो आपको कई चीजों का ध्यान रखना पड़ता है और इसमें आपका अपना खेल भी शामिल है।’’ धोनी को विश्वास है कि कप्तानी की जिम्मेदारी से मुक्त होने के बाद जडेजा फिर से फॉर्म में लौट आएंगे। उन्होंने कहा, ‘‘कप्तानी से मुक्त होने के बाद यदि आप अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हैं तो हम भी यही चाहते हैं। हम एक शानदार क्षेत्ररक्षक को गंवा रहे थे। हमें डीप मिडविकेट पर अच्छे क्षेत्ररक्षक की कमी खल रही थी। हमने 17-18 कैच छोड़े हैं और यह चिंता का विषय है।’’ धोनी ने कहा, ‘‘ मैच बेहद कड़े हैं और उम्मीद है कि हम मजबूत वापसी करेंगे। गेंदबाजों के साथ संवाद करना महत्वपूर्ण होता है।’’

कोई टिप्पणी नहीं: