विचार : उनका क्या कसूर, एक बार फिर से निशाना बनाया जा रहा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 27 मई 2022

विचार : उनका क्या कसूर, एक बार फिर से निशाना बनाया जा रहा

लगता है कश्मीर में आतंकी वारदातें थम नहीं रहीं। पिछले दिनों जम्मू-कश्मीर के बडगाम में आतंकियों ने तहसील कार्यालय में घुसकर राहुल भट्ट  नाम  के एक कश्मीरी पंडित की गोली मारकर हत्या कर दी जिसके बाद से घाटी में रह रहे कश्मीरी पंडित समुदाय में भारी आक्रोश,भय और चिंता का माहौल बना हुआ है। रोष प्रकट करने के लिए कश्मीरी पंडित सड़कों पर भी उतरे हैं।यह सब तब हो रहा है जब सरकार घाटी में कश्मीरी पंडितों के पुनर्वास के बारे में प्रयास करने में जुटी हुई है। घटना के विरोध में हुए प्रदर्शन के दौरान पंडितों ने स्पष्ट किया कि सरकार उन्हें सुरक्षा की गारंटी दे। घाटी में पंडित पहली बार गमो-गुस्से में दिखाए दिए। हाथों में बैनर और तख्तियां लिए उन्होंने सरकार विरोधी नारेबाजी भी की। प्रदर्शन कर रहे लोगों का साफ तौर पर कहना था कि उनका क्या कसूर है जो उन्हें इस तरह एक बार फिर से निशाना बनाया जा रहा है।1990 से वे बराबर आतंकियों के निशाने पर हैं और सरकार है जो इन जिहादियों का सफाया नहीं कर पा रही।  


12 मई गुरुवार शाम को चडूरा गांव में स्थित तहसील ऑफिस में घुसकर जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादियों ने 36 साल के राहुल भट्ट पर गोलियां बरसा दी थीं। राहुल को हमले के तुरंत बाद अस्पताल पहुंचाया गया था, लेकिन इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। राहुल भट्ट की हत्या के बाद से विरोध कर रहे कश्मीरी पंडितों का कहना है कि उन्हें जान-बूझकर निशाना बनाया जा रहा है। इस घटना से पहले एक मेडिकल स्टोर के मालिक की हत्या की गयी थी, फिर स्कूल में घुसकर एक पंडित टीचर और प्रिंसिपल पर फायरिंग की वारदात हई थी। खबर है कि बीते शुक्रवार को राहुल भट्ट के जम्मू में हुए अंतिम संस्कार के दौरान लोगों ने 'बीजेपी हाय-हाय' और 'पाकिस्तान मुर्दाबाद' के नारे भी लगाए। भट्ट के परिवार ने मामले की उच्चस्तरीय  जांच की मांग की है। राहुल भट्ट की पत्नी ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर में कश्मीरी पंडित सुरक्षित नहीं हैं और सरकार को कश्मीरी पंडितों की बिल्कुल भी फिक्र नहीं है। उन्हें तो बलि का बकरा बनाया जा रहा है। गौरतलब है कि मरहूम राहुल भट्ट प्रधानमंत्री राहत पैकेज के अंर्तगत कश्मीर में सरकारी मुलाज़िम नियुक्त हुए थे। कश्मीरी पंडित नेता मांग कर रहे हैं कि कश्मीर में प्रधानमंत्री पैकेज के तहत कार्यरत सभी मुलाज़िमों को तुरंत प्रभाव से जम्मू या अन्यत्र तैनात किया जाय।




शिबन कृष्ण रैणा

अलवर

कोई टिप्पणी नहीं: