गया : “एक जिला एक उत्पाद- विषय पर परिचर्चा का आयोजन - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 30 मई 2022

गया : “एक जिला एक उत्पाद- विषय पर परिचर्चा का आयोजन

one-disric-one-produc-seminar
पटना/ गया :30 मई, केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी 'एक जिला एक उत्पाद' योजना के प्रचार-प्रसार के लिए तथा मशरूम की खेती के लिए जागरूक करने और उसकी उत्पादकता बढ़ाने के उद्देश्य से भारत सरकार के  सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, फील्ड आउटरीच ब्यूरो (एफओबी), गया इकाई द्वारा आज 30 मई, 2022 को गया के संयुक्त कृषि भवन, बाजार समिति  कैंपस गया में  "एक जिला एक उत्पाद" विषय पर एक विशेष परिचर्चा का आयोजन किया गया। परिचर्चा का उद्घाटन  रविंद्र कुमार, प्रोजेक्ट डायरेक्टर आत्मा, गया, शशंक कुमार, सहायक निदेशक (उद्यान ), गया ज़िला उद्योग, गया  के राकेश कुमार तथा मिथलेश कुमार एवं अमरेंद्र कुमार सिंह द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया ।  परिचर्चा में गया जिले के  गुरारू, टेकारी, पैराया ,वज़ीरगंज सहित अनेक प्रखंडों  के लगभग सौ से अधिक किसान शामिल हुए। इस अवसर पर प्रमुख वक्ता के रूप में  शशंक कुमार, सहायक निदेशक (उद्यान ), गया ने कहा कि मशरूम गया जिले का विशेष उत्पाद है, इसलिए भारत सरकार द्वारा 'एक जिला एक उत्पाद' के रूप में इसका चयन किया गया है। उन्होंने कहा कि जिले मे मशरूम की खेती का उत्पादन अधिक से अधिक हो, चूंकि अब सरकार द्वारा मान्यता मिलने के बाद उत्पादन व निर्यात तेजी से बढ़ रहा है जो आत्मनिर्भरता की ओर ले जाएगा । उन्होंने कहा किमशरूम के किसानों द्वारा अपना ऑनलाइन पंजीयन कराया गया है जिसके बाद से पूरे देश में कहीं से भी इंटरनेट के माध्यम से इनके बारे में जानकारी प्राप्त की जा सकती है।  


कार्यक्रम को संबोधित करते हुए रविंद्र कुमार, प्रोजेक्ट डायरेक्टर, आत्मा, गया ने   किसानों से गुणवत्तापूर्ण उत्पादन करने का आह्वान किया ताकि देश- दुनिया तक यह उत्पाद पहुंचकर अपनी अलग पहचान बना सके। वहीं राकेश कुमार, ज़िला उद्योग प्रसार अधिकारी ने उत्पादन और निर्यात के बारे में विस्तार पूर्वक बताया। जबकि डॉ देवेंद्र मण्डल, क़ृषि वैज्ञानिक, क़ृषि विद्यालय, मानपुर ने किसानों को किस प्रकार तकनिक खेती की जाती है, विस्तार से बताया । परिचर्चा में मौजूद तकनिकी विशेषज्ञ  सुजीत कुमार, वज़ीरगंज जो,बिहार के 75 प्रतिशत को मशरूम पहुंचते है ने  किसानों को मशरूम उत्पादन की बारीकियों और सावधानियों के बारे में समझाया। संध्या कुमारी ने मशरूम की खेती में अपने अनुभव को शेयर  किये फील्ड आउटरीच ब्यूरो, गया के सहायक क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी बलन्द इकबाल ने एक जिला एक उत्पाद योजना की चर्चा करते हुए बताया कि इस परिचर्चा कार्यक्रम के आयोजन का मुख्य उद्देश्य मशरूम की खेती करने वाले किसानों को जागरूक करना है ताकि भारत सरकार द्वारा दिये जा रहे प्रोत्साहन एवं सुविधाओं का वे लाभ उठा सके, साथ ही एक ज़िला एक उत्पाद योजना से हमारे ज़िला से बेरोजगार को रोजगार मिलेगा, पलायन की समस्या से निजात मिलेगी । इस योजना को ज़िला उद्योग कार्यालय को दिया गया है, ताकि मशरूम अब हमारे ज़िला में उद्योग बने और हम इसका निर्यात करें  । इस परिचर्चा में जिले के अनेक प्रमुख मशरूम उत्पादक किसान सम्मिलित हुए जिनमें कोंच के कप्तान देवनन्दन, खीजरसराय के बिलास प्रसाद , मिंटू कुमार सिंह सोनू कुमार शामिल थे। परिचर्चा में कृषि विभाग के अमरेंद्र कुमार, मिथलेश  कुमार, ज़िला उद्योग प्रसार अधिकारी, गया एवं अन्य पदाधिकारी-कर्मचारी भी उपस्थित थे। परिचर्चा के दौरान किसानों के बीच 'एक जिला एक उत्पाद' से संबंधित प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया। प्रश्नों के सही उत्तर देने वाले किसानों को पुरस्कृत भी किया गया। मंच का संचलन एवं धन्यवाद ज्ञापन बलन्द इकबाल, एफ ओ बी, गया ने किया ।

कोई टिप्पणी नहीं: