सड़क दुर्घटनाओं के मापदंड ने 2020 में गिरावट दर्ज की - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 26 मई 2022

सड़क दुर्घटनाओं के मापदंड ने 2020 में गिरावट दर्ज की

  • सड़क दुर्घटनाओं के मापदंड ने 2020 में उल्लेखनीय गिरावट दर्ज की, कुल दुर्घटनाओं में औसतन 18.46 प्रतिशत और दुर्घटना में मृतकों की संख्या में 12.84 प्रतिशत की कमी आई

road-accident-data-reduce
नई दिल्ली,  सड़क दुर्घटनाओं के पैमाने में वर्ष 2019 की तुलना में वर्ष 2020 में उल्लेखनीय गिरावट दर्ज की गई है। पिछले वर्ष के औसत को देखते हुये कुल दुर्घटनाओं में औसतन 18.46 प्रतिशत और दुर्घटनाओं में मारे जाने वाले लोगों की संख्या में 12.84 प्रतिशत की कमी देखी गई है। इसी तरह घायलों की संख्या में भी 22.84 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। वर्ष 2020 के दौरान राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने कुल 3,66,138 सड़क दुर्घटनाओं की रिपोर्ट दी। इन दुर्घटनाओं में 1,31,714 जानें गईं और 3,48,279 लोग घायल हुये। सड़क यातायात और राजमार्ग मंत्रालय के ट्रांसपोर्ट रीसर्च विंग द्वारा तैयार रिपोर्ट ‘रोड एक्सीडेन्ट्स इन इंडिया-2020’ के अनुसार 2016 के बाद से सड़क दुर्घटनाओं में गिरावट देखी जा रही है, सिर्फ 2018 में 0.46 प्रतिशत की मामूली बढ़ोतरी हुई थी। लगातार दूसरे वर्ष 2020 में सड़क दुर्घटना में होने वाली मृत्यु में भी कमी आई है। इसी तरह 2015 के बाद से घायलों की संख्या में गिरावट देखी जा रही है। लगातार तीसरे वर्ष 2020 में, जानलेवा सड़क दुर्घटनाओं के पीड़ितों में ज्यादातर युवा लोग रहे हैं, जो कामकाजी आयुवर्ग के थे। अठारह से 45 आयुवर्ग के वयस्कों के हवाले से 2020 के दौरान पीड़ितों की संख्या 69 प्रतिशत रही है। इसी तरह सड़क दुर्घटनाओं में जान गंवाने वाले 87.4 प्रतिशत लोग कामकाजी समूह के 18 से 60 वर्ष आयुवर्ग के रहे हैं।  ‘रोड एक्सीडेन्ट्स इन इंडिया-2020’ के मौजूदा खंड में वर्ष 2020 के दौरान देश में होने वाली सड़क दुर्घटनाओं के विभिन्न पहलुओं की जानकारी दी गई है। इसमें दस वर्ग हैं और सड़क की लंबाई तथा वाहनों की संख्या के हवाले से सड़क दुर्घटनाओं के बारे में बताया गया है। इस रिपोर्ट में जो आंकड़े/सूचना उपलब्ध हैं, उन्हें राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के पुलिस विभागों से लिया गया है। इन्हें वर्ष-विशेष के आधार पर मानक प्रारूप के अनुसार तैयार किया गया है। इस मानक प्रारूप को एशिया पैसेफिक रोड एक्सीडेंट डाटा (एपीआरएडी) बुनियादी परियोजना के तहत यूनाइटेड नेशंस इकोनॉमिक एंड सोशल कमीशन फॉर एशिया एंड दी पैसेफिक (यूएन-इस्केप) ने उपलब्ध कराया है। रिपोर्ट के अनुसार, जानलेवा दुर्घटनाओं, यानी ऐसी दुर्घटना जिसमें कम से कम एक व्यक्ति की जान गई हो, की संख्या में गिरावट आई है। वर्ष 2020 में कुल 1,20,806 जानलेवा दुर्घटनाओं की रिपोर्ट की गई थी, जो 2019 के 1,37,806 के आंकड़े से 12.23 प्रतिशत कम है। उल्लेखनीय है कि पिछले वर्ष की तुलना में वर्ष 2020 में राष्ट्रीय राजमार्गों, राज्य राजमार्गों और अन्य सड़कों पर होने वाली दुर्घटनाओं, मृत्यु और घायल होने की घटनाओं में कमी दर्ज की गई है। वर्ष 2020 में जिन प्रमुख राज्यों में सड़क दुर्घटनाओं में उल्लेखनीय कमी आई है, उन राज्यों में केरल, तमिल नाडु, उत्तरप्रदेश, महाराष्ट्र और कर्नाटक शामिल हैं। और, जिन प्रमुख राज्यों में वर्ष 2020 में सड़क दुर्घटनाओं में मारे जाने वाले लोगों की संख्या में कमी आई है, उनमें तमिल नाडु, गुजरात, उत्तरप्रदेश, राजस्थान और आंध्रप्रदेश आते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: