वेटिकन में गूंजा तमिलनाडु का राजकीय गीत - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 16 मई 2022

वेटिकन में गूंजा तमिलनाडु का राजकीय गीत

tamil-nadu-song-in-vatican-city
चेन्नई, 15 मई, वेटिकन में देवसहायम पिल्लई को संत की उपाधि प्रदान करने के दौरान वहां तमिलनाडु के राजकीय गीत की गूंज सुनाई दी। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम. के. स्टालिन ने एक ट्वीट में संबंधित व गीत से एक छंद लिया, जिसमें कहा गया है कि तमिल को सभी जगह सम्मान और प्रशंसा मिलती है। पोप फ्रांसिस ने रविवार को वेटिकन में देवसहायम पिल्लई को संत की उपाधि प्रदान की। पिल्लई ने 18वीं सदी में ईसाई धर्म अपनाया था। देवसहायम, पहले भारतीय आमजन हैं जिन्हें पोप ने संत घोषित किया है। समारोह में राज्य सरकार का प्रतिनिधित्व करने वाले तमिलनाडु के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री जिंजी केएस मस्तान ने ट्वीट किया कि वेटिकन में आयोजित कार्यक्रम में तमिल वंदन गीत से तमिल भाषा को सम्मानित किया गया। इस गीत को तमिलनाडु की छह नन ने गाया।

कोई टिप्पणी नहीं: