विदिशा (मध्य प्रदेश) की खबर 31 मई - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 31 मई 2022

विदिशा (मध्य प्रदेश) की खबर 31 मई

प्रधानमंत्री किसान सम्माननिधि की राशि किसानों के खातो में जमा हुई

  • प्रधानमंत्री श्री मोदी ने हितग्राहियों से वर्चुअल संवाद किया, मुख्यमंत्री श्री चौहान भोपाल से वर्चुअली शामिल हुए, जिला स्तरीय कार्यक्रम एसएटीआई के कैलाश सत्यार्थी सभागृह में सम्पन्न हुआ

vidisha-news
प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने आजादी के अमृत महोत्सव के दौरान आज मंगलवार को हिमाचल प्रदेश के शिमला से अपने आठ वर्षीय कार्यकाल पर कार्यक्रम को सम्बोधित किया वहीं केन्द्रीय विभिन्न योजनाओं से लाभांवित होने वाले हितग्राहियों से वर्चुअल संवाद किया है। इसके पूर्व कुशाभाऊ ठाकरे सभागार भोपाल में आयोजित राज्य स्तरीय कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के उद्बोधन का भी सीधा प्रसारण जिला स्तरीय कार्यक्रम स्थल पर एवं अन्य आयोजन स्थलों पर भी एक साथ सीधा प्रसारण दूरदर्शन, वेबकास्ट, इलेक्ट्रॉनिक चैनल और सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्म पर किया गया वहीं कार्यक्रम में सहभागिता के लिये नागरिकों के द्वारा प्री-रजिस्ट्रेशन भी कराया गया था। जिला स्तरीय कार्यक्रम एसएटीआई के कैलाश सत्यार्थी सभागृह में आयोजित किया गया था उक्त कार्यक्रम का शुभांरभ सांसद श्री रमाकांत भार्गव सहित अन्य के द्वारा दीप प्रज्जवलित करते हुए मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण से किया गया है। जिला स्तरीय कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए सांसद श्री रमाकांत भार्गव ने कहा कि गरीब कल्याण सम्मेलन के तहत मुख्यमंत्री जी के आठ वर्षो के कार्यकाल को चिरस्मरणीय बनाए रखने हेतु उपलब्धियों पर गहन प्रकाश डाला गया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी के इन आठ वर्षो के कार्यकाल का मुख्य उद्धेश्य सेवा और सुशासन से जन सामान्य को लाभ पहुंचाना है। इसी अनेक जनहितैषी योजनाओं का क्रियान्वयन किया गया है जिसका लाभ गरीब तबके वर्गो को मिलने से उनके साथ-साथ पारिवारिक जीवन में बदलाव आए है। इस दौरान उन्होंने केन्द्रीय अनेक योजनाओं पर प्रकाश डाला। जिला क्राइसेस मैनेजमेंट समिति के सदस्य श्री मुकेश टण्डन ने कहा कि मुख्यमंत्री जी ने अनेक क्रांतिकारी निर्णय लेकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर देश की ख्याति बढाई है। उन्होंने गरीबों के उत्थान हेतु संचालित केन्द्रीय व राज्य स्तरीय योजनाओं पर गहन प्रकाश डाला जिसमें मुख्य रूप से प्रधानमंत्री आवास योजना, प्रधानमंत्री उज्जवला योजना, निःशुल्क खाद्यान्न प्रदाय और हर घर में शौचालय हो को रेखांकित किया है। श्री टण्डन ने मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के द्वारा महिलाओं के सर्वागणी विकास के लिए जिन योजनाओं का सूत्रपात किया है। उनको रेखांकित करते हुए कहा कि अनेक योजनाओं का अनुसरण व क्रियान्वयन दूसरो राज्यों के द्वारा भी किया जा रहा है। जिला क्राइसेस मैनेजमेंट समिति के सदस्य डॉ राकेश जादौन के अलावा जिला पंचायत के अध्यक्ष श्री तोरण सिंह दांगी ने भी कार्यक्रम को सम्बोधित किया। उपरोक्त आयोजन स्थल पर बताया गया कि विदिशा जिले में प्रधानमंत्री किसान सम्माननिधि योजना के तहत जिले के दो लाख 15 हजार सात सौ हितग्राहियों के बैंक खातो में आज वन क्लिक के माध्यम से 43 करोड़ 14 लाख रूपए की राशि जमा हुई है।


सीधा प्रसारण

जिला स्तरीय कार्यक्रम आयोजन स्थल पर प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री जी के उद्बोधनों का सीधा प्रसारण देखने, सुनने के प्रबंध सुनिश्चित किए गए थे। एसएटीआई के कैलाश सत्यार्थी सभागृह में बडी साइज की एलईडी स्क्रीन पर सीधा प्रसारण जनप्रतिनिधियों, गणमान्य नागरिकों, हितग्राहियो के अलावा अधिकारियों, कर्मचारियों के साथ-साथ मीडियाबंधुओ ने भी देखा सुना है। कार्यक्रम का संचालन श्रीमती दीप्ति शुक्ला ने किया वहीं आगंतुकों के प्रति आभार मुख्य नगरपालिका अधिकारी श्री सुधीर सिंह ने अभिव्यक्त किया है। आयोजन स्थल पर श्री संदीप सिंह डोंगर, श्री मनोज कटारे, श्री सुरेन्द्र सिंह चौहान, श्री राकेश शर्मा, श्री छत्रपाल शर्मा समेत अन्य जनप्रतिनिधि, एसडीएम श्री गोपाल सिंह वर्मा, डिप्टी कलेक्टर एवं जिला शहरी विकास अभिकरण की नोडल अधिकारी श्रीमती अमृता गर्ग, तहसीलदार श्री केएन ओझा के अलावा विभिन्न विभागो के अधिकारी, कर्मचारी व लाभांवित होने वाले हितग्राही मौजूद रहें।


शिकायत निवारण प्रकोष्ठ गठित


त्रि-स्तरीय पंचायतों के आम निर्वाचन 2022 के अंतर्गत निर्वाचन संबंधी शिकायतो की प्राप्ति हेतु जिला पंचायत में एक शिकायत प्रकोष्ठ का गठन किया गया है कि जानकारी देते हुए जिला पंचायत के अतिरिक्त सीईओ श्री दयाशंकर सिंह ने बताया कि निर्वाचन संबंधी किसी भी प्रकार की शिकायतो की त्वरित प्राप्ति कर निराकरण की पहल नियमों के दायरे में कराया जाना सुनिश्चित हो, इन्ही उद्धेश्यों की प्राप्ति हेतु प्रकोष्ठ का गठन किया गया है। जिला पंचायत के अतिरिक्त सीईओ श्री दयाशंकर सिंह ने बताया कि आमजन शिकायत निवारण प्रकोष्ठ का दूरभाष क्रमांक 07592-233390 पर अविलम्ब अवगत करा सकते है शिकायत निवारण प्रकोष्ठ जिला पंचायत कार्यालय के कक्ष क्रमांक दो में संचालित हो रहा है। प्रकोष्ठ का प्रभारी श्री विशाल शर्मा को दायित्व सौंपा गया है। इनकी मदद के लिए अन्य सहायक कर्मचारी भी तैनात किए गए है। सहायक नोडल अधिकारी द्वारा समय-समय पर बतलाए गए कार्यो के साथ-साथ पंचायत निर्वाचन 2022 अंतर्गत प्राप्त शिकायतों की पंजियों को संधारित कर त्वरित निराकरण की पहल की जायगी। उपरोक्त प्रकोष्ठ मेंं ग्रामीण क्षेत्रों के शिकायतकर्ता निर्वाचन संबंधी जानकारियां अथवा शिकायतों से अवगत करा सकते है।


जिला पंचायत सदस्य पद हेतु नाम-निर्देशन पत्र के साथ इन दस्तावेजों को लगाना अनिवार्य


राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार त्रि-स्तरीय पंचायत आम निर्वाचन 2022 के लिये अधिसूचना जारी कर दी गई है। जिसमें नाम-निर्देशन पत्र जमा करने का सिलसिला जारी है। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री वृंदावन सिंह ने बताया कि नामांकन जमा करते समय शपथ पत्र निर्धारित प्रारूप में नोटरी से प्रमाणित किया हुआ 50 रूपये के स्टाम्प पर, शपथ पत्र की दो छायाप्रति जिस पर अभ्यर्थी के ओरिजनल हस्ताक्षर प्रत्येक पृष्ठ पर, आरक्षित वर्ग से होने के सबूत का सक्षम अधिकारी द्वारा जाती प्रमाणपत्र, प्रतिभूति की राशि की रसीद की मूल प्रति लगाना अनिवार्य रहेगी। प्रतिभूति के तौर पर सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों को 8 हजार रूपये की रसीद एवं सामान्य वर्ग  महिला, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग के उम्मीदवारों को 50 प्रतिशत के मान से 4 हजार रूपये की रसीद कटानी होगी। इसके साथ ही विद्युत कंपनी के बकाया न होने के संबंध में नोड्यूज प्रमाणपत्र, ग्राम पंचायत से बकाया न होने के संबंध में नोड्यूज प्रमाणपत्र और अभ्यर्थी के 6 फोटो आवेदन के साथ प्रस्तुत करने होंगे।   


पंच, सरपंच एवं जनपद सदस्य के लिये निक्षेप राशि

निर्वाचन कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार पंच पद के लिये 400 रूपये, सरपंच पद के लिये 2 हजार और जनपद सदस्य के 4 हजार रूपये निक्षेप राशि जमा करनी होगी। जबकि अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग महिला अभ्यर्थियों के लिये निक्षेप की राशि का आधा भाग जमा करना होगा।


घोषणा एवं शपथ पत्र

पंच पद के लिये अभ्यर्थी को घोषणा पत्र, सरपंच, जनपद सदस्य एवं जिला पंचायत सदस्य पद के लिये अभ्यर्थी को शपथ देना अनिवार्य रहेगा। प्रत्येक अभ्यर्थी लंबित विनिश्चत आपराधिक मामले, स्वयं की तथा उसके पति या पत्नि और आश्रितों की आस्तियों तथा दायित्वों, शैक्षणिक अर्हता की घोषणा, किसी लंबित आपराधिक मामले, जिसमें वह आरोपित है और किसी निपटाये गये आपराधिक मामले, जिसमें वह सिद्ध दोष ठहराया गया है। जंगम तथा स्थावर सम्पत्ति, जिसका जिसमें वह स्वयं उसका पति या पत्नि तथा आश्रित बालक संयुक्तः या प्रथकतः स्वामी या हिताधिकारी है। शपथ पत्र का प्रत्येक कॉलम भरा जाये, किसी कॉलम की जानकारी निरंक है, तो उस कॉलम में निरंक अंकित किया जाये। शपथ पत्र की दो हस्ताक्षरित अतिरिक्त प्रतियां भी प्रस्तुत की जाये, शपथ पत्र प्रस्तुत न करने की दशा में नाम-निर्देशन पत्र निरस्त कर दिया जायेगा। शपथ पत्र की एक प्रति का प्रदर्शन रिटर्निंग अधिकारी के नोटिस बोर्ड पर किया जायेगा। शपथ पत्र का प्रसार मीडिया के माध्यम से भी किया जायेगा। 


मतदाता जागरूकता अभियान में सहयोग के लिए बनेंगे केम्पस एम्बेसडर


राज्य निर्वाचन आयुक्त श्री बंसत प्रताप सिंह ने कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारियों को निर्देशित किया है कि नगरीय निकायों एवं त्रि-स्तरीय पंचायतों के आम निर्वाचन-2022 के लिये मतदाताओं को मतदान के प्रति जागरूक करने, मतदान की अपील तथा आयोग द्वारा किये गये नवाचारों की जानकारी देने के लिये “मतदाता जागरूकता अभियान“ प्रारंभ करें। मतदाताओं को प्रेरित, जागरूक करने के लिये स्थानीय महाविद्यालयों, विश्वविद्यालयों से कुछ विद्यार्थियों को, जो कि नेतृत्व प्रदान कर सकते हैं, को केम्पस एम्बेसडर नियुक्त किया जाये।


केम्पस एम्बेसडर का चयन

केम्पस एम्बेसडर का चयन जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा उनकी निष्पक्ष, स्वच्छ एवं गैर राजनैतिक छवि को चिन्हित कर किया जाये। केम्पस एम्बेसडर का चयन महाविद्यालयों, विश्वविद्यालयों के प्राचार्य, उप कुलपति द्वारा प्रदान की गई सूची के आधार पर किया जायेगा। जिला निर्वाचन अधिकारी अपने स्तर पर एन.सी.सी., एन.एस.एस. के सहयोग से भी नियुक्ति कर सकते हैं। केम्पस एम्बेसडर का चयन केवल एक शैक्षणिक सत्र के लिए किया जायेगा। सह-शिक्षा महाविद्यालयों में 2 केम्पस एम्बेसडर (एक छात्र एवं एक छात्रा) का चयन किया जायेगा। केम्पस एम्बेसडर की सम्बद्धता किसी भी राजनैतिक दल या उनकी संलग्नता किसी राजनैतिक गतिविधि में नहीं होनी चाहिए। केम्पस एम्बेसडर के परिवार का संबंध किसी भी राजनैतिक दल या राजनैतिक गतिविधि से नहीं होना चाहिए। केम्पस एम्बेसडर दायित्वपूर्ण व्यवहार करें एवं किसी भी तरह की अवांछनीय गतिविधियों में लिप्त न हों। इस संबंध में संस्था प्रमुख केम्पस एम्बेसडर से एक घोषणा-पत्र प्राप्त करेंगे। केम्पस एम्बेसडर के विरुद्ध आचरण एवं व्यवहार संबंधी किसी भी तरह की शिकायत प्राप्त होने की स्थिति में संस्था प्रमुख तत्काल जाँच कर उपयुक्त कार्यवाही करेंगे। प्रत्येक केम्पस एम्बेसडर का पुलिस सत्यापन जिला प्रशासन द्वारा किया जाना अनिवार्य होगा।


भूमिका एवं कर्तव्य

केम्पस एम्बेसडर मतदाताओं को मतदान की प्रक्रिया तिथियों तथा आयोग द्वारा किये गये विभिन्न नवाचारों आदि की जानकारी देंगे। स्कॉउट-गाईड, राष्ट्रीय सेवा योजना, राष्ट्रीय कैडेट कोरएवं अशासकीय संगठनों के साथ समन्वय कर मतदाता जागरूकता में उनका सहयोग प्राप्त करेंगे। मतदाता जागरूकता अभियान की गतिविधियों के संचालन के लिये सक्रिय सदस्यों का एक दल बनाकर मतदाताओं को जागरूक करेंगे।


केम्पस एम्बेसडर का जिला निर्वाचन अधिकारी एवं अन्य अधिकारियों के साथ समन्वय

जिला निर्वाचन अधिकारी केम्पस एम्बेसडर की नियुक्ति के पश्चात उन्हें उनकी भूमिका, दायित्वों, उनके द्वारा किये जाने वाले कार्यों, गतिविधियों, लक्ष्यों, संभावित उपलब्धियों तथा कार्य योजनाओं से अवगत कराएंगे तथा उन्हें संक्षिप्त प्रशिक्षण प्रदान करेंगे। जिला निर्वाचन अधिकारी केम्पस एम्बेसडर को मतदाता जागरूकता अभियान कार्य के लिये यथायोग्य सामग्री, मार्गदर्शन एवं सहयोग देंगे। जिला निर्वाचन अधिकारी समय-समय पर सम्पन्न की जाने वाली विभिन्न गतिविधियों का आंकलन करेंगे एवं प्रतिवेदन प्राप्त करेंगे। SENSe की गतिविधियों के लिए नियुक्त किये गये नोडल अधिकारी समय-समय पर प्रतिवेदन (फोटोग्राफ्स सहित) आयोग को भेजेंगे। जिला स्तर पर उत्कृष्ट कार्य करने वाले केम्पस एम्बेसडर को चिन्हित कर उनके नाम की अनुशंसा की जायेगी तथा राष्ट्रीय पर्व पर आयोजित समारोह में प्रशस्ति-पत्र प्रदान कर सम्मानित किया जायेगा।


नगरपालिका परिषद अपनी जिम्मेदारी निभाने में विफल रही - विधायक शशांक भार्गव 


vidisha news
विदिशाः- महिला कांग्रेस प्रदेश महामंत्री आशा सिंह राजपूत ने पेयजल संकट से जूझ रही जनता की मुश्किलों को हल करने के लिए निजी खर्च से टैंकर द्वारा जलप्रदाय सेवा का बीड़ा उठाया है।आज मोहनगिरी में विधायक शशांक भार्गव ने विधिवत पूजा-अर्चना के बाद टैंकर का लोकार्पण कर जलसेवा की शुरुआत की।विधायक भार्गव ने मोहनगिरी में टैंकर से जल वितरण भी किया। इस अवसर पर विधायक शशांक भार्गव ने कहा कि पिछले 17 सालों से नगरपालिका परिषद पर भाजपा का कब्जा रहा है करोडों रुपए की पेयजल योजना भी पूरी हो गई लेकिन अफसोस है कि आज भी शहर की जनता गंभीर पेयजल संकट से जूझ रही है।कांग्रेस पार्टी ने पेयजल आपूर्ति के लिए महिलाओं के साथ आंदोलन भी किया लेकिन फिर भी प्रशासन ने कोई गंभीर कदम नहीं उठाए। कांग्रेस पार्टी निजी प्रयासों से जनता की मदद करेगी। महिला कांग्रेस प्रदेश महामंत्री आशासिंह राजपूत ने कहा गरीबों की मदद करना ही कांग्रेस पार्टी की मूल विचारधारा है।सरकार की नाकामी को देखते हुए विधायक जी की प्रेरणा से जलसेवा की शुरुआत की है। इस अवसर पर मौजूद ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष अजय कटारे ने शहर की गरीब जनता के लिए निजी खर्च से जलसेवा जैसा पुनीत कार्य करने के लिए आशा सिंह राजपूत का अभिनंदन करते हुए आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर कांग्रेस नेता जवाहर कुशवाह,खिलान शाक्य,नीरज चंद्रवंशी,अनीता अनिल जैन,हरिओम किरार सहित बड़ी संख्या में मोहल्ले की महिलाएं मौजूद रहीं।


मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत सामूहिक विवाह सम्मेलन निरस्त होने से पंजीकृत कन्याओं को 51 हजार रूपये की सहायता राशि दी जाए - भार्गव


विदिशाः- विदिशा विधायक शशांक भार्गव ने महामहीम राज्यपाल महोदय एवं मुख्य निर्वाचन आयुक्त म.प्र. राज्य निर्वाचन आयोग को पत्र लिखकर मांग की है, कि म.प्र. में पंचायत चुनाव आचार संहिता लगभग 5 दिन पूर्व प्रभावशील की गई है, उक्त कारण से शासन के द्वारा मुख्यमंत्री कन्यादान योजनांतर्गत पात्र कन्याओं के विवाह हेतु पंजीयन की प्रक्रिया लगभग 15 से 20 दिन पूर्व प्रशासन एवं हितग्राही द्वारा पूर्ण कर ली गई थी एवं विवाह योग्य कन्याओं के माता-पिता द्वारा विवाह संबंधी तैयारियों के उपरांत पंचायत चुनाव आचार संहिता लागू होने के कारण उक्त योजना के लाभ से वंचित किया जा रहा है, जबकि हमारी संस्कृति में दिनांक 31.05.2022 एवं 05.06.2022 को होने वाले उक्त कन्यादान कार्यक्रम हेतु कन्या पक्ष द्वारा हल्दी, तेल एवं अन्य रश्मे पूर्ण कर ली गई है, लेकिन मुख्यमंत्री कन्यादान योजना का आयोजन निरस्त किए जाने से मध्य प्रदेश भर में हजारों वधू पक्ष एवं वर पक्ष को निराशा एवं हताशा का सामना करना पड रहा है।  उन्होंने कहा कि गरीब निर्धन मजदूर परिवार की कन्याओ ंके विवाह उक्त योजना में संम्पन्न कराए जाते है। शासन प्रशासन के द्वारा आयोजित कार्यक्रम की आाशा में उक्त लोगों द्वारा विवाह की सारी तैयारियॉ पूर्ण कर ली गईं थी, लेकिन पंचायत चुनाव आचार संहिता के कारण शासन प्रशासन द्वारा विवाह कार्यक्रम स्थगित किए जाने से आर्थिक एवं कमजोर वर्ग को काफी परेशानी एवं असमंजस की स्थिति का सामना करना पड रहा है, जबकि कन्या विवाह के पंजीयन की प्रक्रिया पंचायत चुनाव आचार संहिता लागू होने के काफी पूर्व तय की गई थी। उन्होने कहा कि आज की स्थिति में निर्धन मजदूर परिवार की कन्या के अभिभावक कर्ज लेकर कन्या विवाह करने को मजबूर है। उन्होंने मांग की कि म.प्र. में मुख्यमंत्री कन्यादान योजना की पंजीकृत कन्याओ के विवाह को पंचायत चुनाव आचार संहिता से मुक्त रखा जाकर ऐसे सभी पंजीकृत कन्याओं के अभिभावकों को घर से विवाह कार्यक्रम आयोजित किए जाने हेतु शासन योजना द्वारा निर्धारित राशि का नगद भुगतान किया जाये। इस बावत उन्हांेने महामहीम राज्यपाल महोदय से निर्देश दिए जाने की मांग की।


कलेक्टर श्री भार्गव ने फर्जी आईडी चलाने वालों से सतर्क रहने की अपील’


किसी के द्वारा फर्जी आईडी बनाकर कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव के फोटो का उपयोग कर एवं आईडी पर कलेक्शन ऐजेन्सी लिखकर मोबाइल नंबर 7795469589 से  आमजनों से सोशल मीडिया पर बातचीत की जा रही है। जो की पूरी तरह से असत्य है इस तरह की कोई आईडी कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव के द्वारा इस नम्बर का कभी उपयोग नहीं किया जा रहा है। कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव ने इस तरह की फर्जी आईडी चलाने वालों से सावधान और सतर्क रहने की अपील शहर के सभी गणमान्य नागरिकों से की है। 


मास्टर ट्रेनर्स प्रशिक्षित हुए आयोग के दिशा निर्देशों से बखूबी अवगत हो


विदिशा जिले में त्रि-स्तरीय पंचायत आम निर्वाचन 2022 के तहत मतदान प्रक्रिया राज्य निर्वाचन आयोग के द्वारा जारी दिशा निर्देशो के अनुरूप निर्विध्न रूप से सम्पन्न हो इसके लिए मतदान केन्द्रों पर नियुक्त होने वाले पीठासीन एवं मतदान दल अधिकारी क्रमांक एक को प्रशिक्षित करने वाले मास्टर ट्रेनर्सो के लिए एक दिवसीय प्रशिक्षण मंगलवार को आयोजित किया गया था। प्रभारी कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री वृदांवन सिंह ने जिला स्तरीय मास्टर ट्रेनर्सो के प्रशिक्षण को सम्बोधित करते हुए कहा कि आयोग के दिशा निर्देशो से बखूबी अवगत हो ताकि अन्य को प्रशिक्षित करने के दौरान उनकी जिज्ञासाओ का समाधान अविलम्ब किया जा सकें। मास्टर ट्रेनर्सो को त्रि-स्तरीय पंचायत निर्वाचन प्रक्र्रिया की नवीनतम दिशा बिन्दुओं पर गहन प्रकाश डालते हुए बताया गया कि इस बार पंच, सरपंच तथा जनपद एवं जिला पंचायत सदस्य का निर्वाचन मतपत्रों के माध्यम से होगा। मतगणना का कार्य मतदान केन्द्र पर ही सम्पन्न कराया जाना है। अतः सभी मास्टर ट्रेनर्सो को मतदान सामग्री के वितरण के पूर्व, मतदान सामग्री प्राप्ति व उसका मिलान करना, मतदान केन्द्रो पर मतदान दल पहुंचकर मतदान के पूर्व क्या तैयारी करेंगे। मतदान दिवस को मतदान शुरू होने से पहले किए जाने वाले प्रबंध व मतदान समाप्ति के पश्चात मतगणना का कार्य कैसे करेंगे, मतदान के दौरान पोलिंग एजेन्ट किस क्रम से बैठेगे इसी प्रकार मतगणना एजेन्ट के लिए पृथक से नियुक्ति पत्र अभ्यर्थी के द्वारा किया जाना चाहिए, एक ही व्यक्ति दो जगह बैठ सकता है किन्तु दो नियुक्ति पत्र पृथक-पृथक जारी किए जाएंगे। मास्टर ट्रेनर्सो को प्रशिक्षण के दौरान मतपेटी को खोलने व बंद करने के अभ्यास के साथ-साथ सील्ड के दौरान किन पर्चियों का उपयोग किया जाएगा वहीं मतदान केन्द्रों पर मतपत्रों का प्रमाणीकरण, मतपेटी में डाले जाने से पहले पीठासीन के द्वारा मतपत्र जारी किए जाने होने वाले चाहिए। मतलेखा, पहचान के लिए चिन्हित प्रति, साथी से मतदान, चैलेज बोर्ड, टेण्डर बोर्ड, सूची साथी का डिक्लेरेशन, मतपत्रों के रंगो के संबंध में, मतपत्रों की छंटाई के दौरान बरती जाने वाली सावधानियां, शंकाप्रद मतो की गणना पहले करना, मतदान का समय इत्यादि बिन्दुओं पर गहन प्रकाश डाला गया है। प्रशिक्षण के दौरान मास्टर ट्रेनर्सो की जिज्ञासाओं का समाधान किया गया है। नवीन कलेक्ट्रेट के बेतवा सभागार कक्ष में सम्पन्न हुए उक्त प्रशिक्षण को उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्रीमती अमृता गर्ग, जिला स्तरीय प्रशिक्षण प्रकोष्ठ के नोडल अधिकारी व जिला शिक्षा अधिकारी श्री अतुल मुदग्ल के अलावा अन्य निर्वाचन संबंधी महत्वपूर्ण जानकारियों को सांझा किया गया है इस अवसर पर सातो जनपद पंचायतों के लिए नियुक्त मास्टर ट्रेनर्स तथा डिप्टी कलेक्टर श्रीमती अनुभा जैन के अलावा विभिन्न विभागों के जिलाधिकारी मौजूद रहें। 


त्रिस्तरीय पंचायतों के चुनाव के संबंध में बैठकों का आयोजन


त्रिस्तरीय पंचायतों के चुनाव वर्ष 2022 में आचार संहिता प्रभावशील है। मतदान केंद्रों पर आवश्यक व्यवस्था बनाने, मतदान केंद्रों के लेखन कार्य स्वीप की गतिविधि तथा आचार संहिता के क्रियान्वयन के संबंध में जनपद पंचायतों में बैठक आयोजित की जाती हैं। जिला पंचायत के अतिरिक्त सीईओ श्री दयाशंकर सिंह ने समस्त जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि समस्त ग्राम पंचायतें डौंडी पिटवाकर निर्वाचन से संबंधित समय सारणी एवं अन्य गतिविधियों की जानकारी ग्रामीणों को उपलब्ध कराएं। इस हेतु ग्राम पंचायत सचिवों को पृथक से निर्देशित करें। स्वीप की गतिविधियों की जानकारी हेतु शिक्षा विभाग, महिला बाल विकास विभाग से समन्वय स्थापित कर प्रचार-प्रसार कराया जाए तथा की गई कार्यवाही की गतिविधियों की फोटो परियोजना अधिकारी जिला पंचायत श्रीमती ऋचा जैन को उपलब्ध कराई जाए। त्रिस्तरीय पंचायतों के चुनाव के संबंध में जिन जनपद पंचायतों में बैठकों का आयोजन किया जाना है। उनकी जनपदवार जानकारी अनुसार जनपद पंचायत ग्यारसपुर में 31 मई 2022 की सांय चार बजे, जनपद पंचायत बासौदा में एक जून 2022 की दोपहर 12 बजे, जनपद पंचायत विदिशा में दो जून 2022 की सांय चार बजे, जनपद पंचायत नटेरन में 3 जून 2022 की दोपहर दो बजे, जनपद पंचायत कुरवाई में 4 जून 2022 की दोपहर दो बजे तथा जनपद पंचायत लटेरी में 5 जून 2022 की दोपहर दो बजे और जनपद पंचायत सिरोंज में 6 जून 2022 की दोपहर दो बजे बैठक आयोजित करने हेतु दिनांक व समय निर्धारित किए गए हैं।



कोई टिप्पणी नहीं: