लालबाग में एशिया प्रसिद्ध श्रीनिवासपुर आमों का मेला - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

सोमवार, 6 जून 2022

लालबाग में एशिया प्रसिद्ध श्रीनिवासपुर आमों का मेला

mango-fair
बेंगलुरु ,लाइव आर्यावर्त संवाददाता ,6  जून । गर्मी का मौसम और आम की चर्चा न हो ,ऐसा कैसे हो सकता है !  कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु से लगभग 90 किलोमीटर दूर कोलार जिलान्तर्गत श्रीनिवासपुर तालुक ,एशिया में सबसे अधिक आम उत्पादक जिला कहा जाता है। श्रीनिवासपुर आम की खेती के लिए जलवायु समर्थित सबसे उत्तम क्षेत्र  होने की वजह से  तोतापुरी ,मल्लिका ,सिंधूरा ,रसभरी ,सुगर बेबी ,बादामी ,अल्फांज़ो  आदि कई प्रजातियों के आम का यहाँ उत्पादन होता है। शेष  प्रजातियां तो आम तौर पर शहरी बाज़ारों में उपलब्ध हो जाते हैं पर सुगर बेबी बढ़ते मॉल संस्कृति में कम ही देखने को मिलते हैं। ऐसे में बेंगलुरु के प्रसिद्द 'लालबाग बॉटनिकल गार्डन' में  लगी आमों की प्रदर्शनी सह बिक्री मेले में सुगर बेबी आम भी आकर्षण का विषय है।खरीददारी में लोग अल्फांज़ो और मल्लिका के बाद तोतापुरी और बादामी को प्राथमिकता दे रहे हैं पर सुगर बेबी के प्रति उत्सुकता भी कम नहीं है। सुगर बेबी आम देखने में तो छोटे होते हैं पर मिठास बिलकुल नाम की तरह। कोरोना काल ( 2020 , 2021 ) के दो वर्षों के अंतराल के बाद लगी इस आमों की प्रदर्शनी सह बिक्री मेले में लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी है और फलों के राजा आम का लोग गर्मजोशी से ख़रीददारी कर स्वागत कर रहे हैं। कर्नाटक उद्यानकृषि विभाग (कर्नाटक हॉर्टिकल्चर डिपार्टमेंट ) के तत्वावधान में संचालित 27 मई से प्रारम्भ होकर 13 जून तक चलने वाले इस आम मेले में 30  प्रजातियों के आम और 10  प्रजातियों के कटहल बिक्री के लिए उपलब्ध हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं: