बेतिया : चनपटिया स्टार्टअप जोन की सफलता की चहुं ओर तारीफ़ - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 28 जून 2022

बेतिया : चनपटिया स्टार्टअप जोन की सफलता की चहुं ओर तारीफ़

  • निवेशक अनुकूल वातावरण तैयार करने के लिए डी०आर०सी०सी० में फंक्शनल हुआ सिंगल विंडो सिस्टम
  • सिंगल विंडो सिस्टम में उद्यमियों की समस्याओं को सिर्फ सुना ही नहीं जाएगा बल्कि सभी प्रकार के आवश्यक अनुज्ञप्ति एक समय सीमा के अंतर्गत दिलाने का प्रयास भी किया जाएगा

bettiah-news
बेतिया. राज्य सरकार औद्योगिक विकास के माध्यम से राज्य के चारों ओर औद्योगिक विकास को बढ़ावा देने के लिए औद्योगिक उपक्रमों की स्थापना के लिए आवश्यक मंजूरी को बढ़ावा देने और सुविधा प्रदान करने के लिए “प्रभावी“ और “कार्यात्मक“ सिंगल विंडो सिस्टम के लिए प्रतिबद्ध है और एक निवेशक अनुकूल वातावरण प्रदान करने के लिए भी प्रतिबद्ध है. पश्चिम चंपारण जिले में कोरोना की महामारी के दौरान स्थापित चनपटिया स्टार्टअप जोन की सफलता की चहुं ओर तारीफ़ की जा रही है. इसकी सफलता से अभिभूत होकर जिले के अन्य क्षेत्रों में भी स्टार्टअप के स्थापना के लिए अनुकूल इको सिस्टम तैयार हो गया है. प्रतिदिन कई लोग स्टार्टअप की स्थापना के लिए जिला प्रशासन से मिलते हैं और अपने-अपने आइडिया को शेयर करते हैं. जिलाधिकारी के निर्देश के आलोक में उनकी समस्याओं को सुनने और निराकरण के लिए पश्चिम चंपारण जिले में डी०आर०सी०सी० में उप विकास आयुक्त की अध्यक्षता में सिंगल विंडो सिस्टम स्थापित कर दिया गया है. सिंगल विंडो सिस्टम में उद्यमियों की समस्याओं को सुना जाएगा, ना केवल उन्हें सुना जायेगा बल्कि सभी प्रकार के आवश्यक अनुज्ञप्ति एक समय सीमा के अंतर्गत दिलाने का प्रयास किया जाएगा, जिससे उद्योग के स्थापना में सहयोग मिलेगा और कम से कम समय में अपना उत्पादन प्रारम्भ किया जाएगा. साथ ही उन्हें हरेक आवश्यक सहयोग प्रदान किया जाता है. इस सिस्टम के तहत फायर, श्रम, फैक्ट्री लाइसेंस, प्रदूषण नियंत्रण, बिजली विभाग, जी०एस०टी, माप एवं तौल विभाग एवं बैंकों के अधिकारी रहेंगे. पश्चिम चंपारण में औद्योगिक और अन्य परियोजनाओं के त्वरित कार्यान्वयन के लिए, प्रमोटरों को एकल बिंदु मंजूरी प्रदान करके और ऐसी परियोजनाओं के प्रारंभिक वाणिज्यिक उत्पादन को सुनिश्चित कराया जाएगा.

कोई टिप्पणी नहीं: