दरभंगा : अतिथि शिक्षकों की सेवा नवीनीकरण को लेकर हुई चयन समिति की बैठक। - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 30 जून 2022

दरभंगा : अतिथि शिक्षकों की सेवा नवीनीकरण को लेकर हुई चयन समिति की बैठक।

lnmu-teacher
लनामिवि दरभंगा, ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय, दरभंगा के कुलपति प्रो० सुरेंद्र प्रताप सिंह की अध्यक्षता में अतिथि शिक्षकों की सेवा नवीनीकरण को लेकर चयन समिति की बैठक विश्वविद्यालय के सभाकक्ष में आयोजित हुई, जिसमें सभी विभागों के विभागाध्यक्ष, संकायाध्यक्ष, विषय विशेषज्ञ एवं उप कुलसचिव द्वितीय डॉ० दिव्या रानी हंसदा उपस्थित थे। कुलपति प्रो० सुरेंद्र प्रताप सिंह ने संकायाध्यक्षों, विभागाध्यक्षों एवं विषय विशेषज्ञों को संबोधित करते हुए कहा कि अतिथि शिक्षकों में ऐसे शिक्षक जो गत वित्तीय वर्ष में सराहनीय शोध- कार्य किया है और अधिक से अधिक वर्ग लेकर छात्रों को लाभ पहुंचाया है, वैसे शिक्षकों की हौसलाअफजाई की जाएगी। उन्होंने विषय विशेषज्ञों से उनके शोध कार्य के संबंध में अपना मंतव्य देने की बात कही, ताकि भविष्य में उन शिक्षकों को शैक्षणिक दृष्टि से अच्छे महाविद्यालयों में पदस्थापित किया जा सके। इस मौके पर कुलसचिव प्रो० मुश्ताक अहमद ने बताया कि विश्वविद्यालय के 21 विषयों में पूर्व से नियोजित अतिथि शिक्षकों से संबंधित महाविद्यालयों के प्रधानाचार्यों और विश्वविद्यालय स्नातकोत्तर विभागाध्यक्षों द्वारा प्रस्तुत प्रतिवेदन के आधार पर समिति द्वारा अतिथि शिक्षकों की सेवा नवीनीकृत करने हेतु अनुशंसा की गई है। पूर्व में नियुक्त 356 अतिथि शिक्षकों की सेवा नवीनीकरण के विषय में संबंधित विभागाध्यक्षों एवं प्रधानाचार्यों की अनुशंसा के आलोक में चयन समिति ने उनके मामले में विचार करते हुए समुचित निर्णय लिया। उन्होंने बताया कि इस निर्णय के आलोक में सेवा नवीनीकृत अतिथि शिक्षकों के आगामी जुलाई माह के प्रथम सप्ताह में संबंधित महाविद्यालयों में योगदान देने की संभावना है। कुलसचिव ने उप कुलसचिव द्वितीय डॉ० दिव्या रानी हंसदा के कार्यों की सराहना करते हुए उनकी टीम के सदस्यों सुधांशु शेखर झा, विद्यानंद झा, गौरव विकास, विपुल कुमार सिंह, जितेन्द्र प्रसाद, सुशील झा और विद्यानंद पासवान को बधाई दी।

कोई टिप्पणी नहीं: