प्रतापगढ़ : अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश ने किया जिला चिकित्सालय का औचक निरीक्षण - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

गुरुवार, 30 जून 2022

प्रतापगढ़ : अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश ने किया जिला चिकित्सालय का औचक निरीक्षण

legal-awareness-pratapgarh
प्रतापगढ़। आज दिनांक 30.06.2022 को माननीय राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, जयपुर द्वारा दिये गये निर्देर्शोंेेेेेेेेे की पालना में जिला चिकित्सालय, प्रतापगढ़ का जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव शिव प्रसाद तम्बोली द्वारा औचक निरीक्षण किया गया। जिला चिकित्सालय में न्यायाधीश द्वारा लेबर रूम (प्रसव कक्ष) का निरीक्षण किया गया, जहां मौजूद स्टॉफ से राज्य व केन्द्र सरकार की योजनओं के तहत् महिलाओं को दी जा रहे लाभ के बारे में जानकारी प्राप्त की। स्टॉफ द्वारा जानकारी दी कि महिलाओं को राजश्री योजना, बीपीएल परिवार की महिलाओं को घी कूपन योजना का लाभ दिया जा रहा है। लेबर रूम इंचार्ज श्री दिनेश निनामा मेल नर्स उपस्थित मिले, जिनसे अन्य जानकारी ली गई। निरीक्षण के दौरान लेबर रूम के गेट पर कोई सुरक्षाकर्मी या कार्मिक तैनात नहीं था, पुरूष भी लेबर रूम में प्रवेश् हो रहे थे। लेबर रूम के गेट पर सुरक्षाकर्मी/कार्मिक तैनात करने के लिए प्रमुख चिकित्सा अधिकारी को पत्र लिखा जावें। इंचार्ज श्री दिनेश निनामा ने बताया कि जननी शिशु सुरक्षा योजना (जेएसएसवाई) के तहत् बीपीएल परिवार की महिलाओं को घी का कूपन दिया जाता है उक्त घी वितरण हेतु महाकाल डेयरी, वुडलैण्ड पार्क के सामने को अधिकृत किया गया है। जिस पर सचिव ने निर्देश दिये कि घी वितरण केन्द्र जिला चिकित्सालय परिसर में ही स्थापित किया जाना सुनिश्चित करें। साथ ही महिला को वार्ड में ही घी उपलब्ध करवाया जावें साथ ही घी प्रदान करते समय महिला का फोटो भी रिकार्ड पर रखा जावें एवं इस संबंध में भी मासिक रिपोर्ट इस कार्यालय को भेजी जावें इस बाबत् प्रमुख चिकित्सा अधिकारी को लिखा जावें। सचिव द्वारा पोस्ट डिलीवरी वार्ड का भी निरीक्षण किया गया। जहां पर मौजूद महिलाओं से जानकारी ली गयी। भर्ती महिलाओं को राजश्री योजना, घी कूपन योजना एवं अन्य योजनाओं के बारे में जानकारी दी गयी।  दौराने निरीक्षण पोस्ट डिलीवरी वार्ड के दोनों बेसिन में पानी बंद था, एक बेसिन का नल, पाईप टूटा हुआ था। टॉयलेट में हाथ धोने का साबुन, तोलिया व पर्दा नहीं था। जिसे दुरूस्त कराने के संबंध में इंचार्ज को मौके पर ही निर्देश दिये गये। चिकित्सालय के निरीक्षण के दौरान महिलाओं को डिलीवरी के पश्चात् छोडने हेतु ठेकेदार वाहन सुविधा प्रदान करने वाले की सेवाओं में कमी की बात भी उभर कर सामने आयी जिसके लिए प्रमुख चिकित्सा अधिकारी को पत्र लिखा जावें। साथ ही प्रत्येक गर्भवती महिला को डिलवरी के पश्चात् घर पर छोडने के संबंध में रिकार्ड संधारण किया जाना सुनिश्चित करें यदि महिला को वाहन की आवश्यकता नहीं हो तो इस संबंध में भी रिकार्ड रखे और रिकार्ड की प्रति मासिक जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, प्रतापगढ़ को प्रेषित की जावें।

कोई टिप्पणी नहीं: