बिहार : तीन दिवसीय फोटो प्रदर्शनी का हुआ समापन - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 3 जून 2022

बिहार : तीन दिवसीय फोटो प्रदर्शनी का हुआ समापन

fhoo-show-amri-mahosav-bihar
पटना/गोपालगंज, 03 जून, ‌ बीते तीन दिनों से गोपालगंज जिले के अंबेडकर भवन में चल रहे तीन दिवसीय आजादी का अमृत महोत्सव फोटो प्रदर्शनी का 3 जून को रंगारंग और मनमोहक सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ समापन किया गया। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के रीजनल आउटरीच ब्यूरो, पटना द्वारा आयोजित समापन समारोह के मुख्य अतिथि के तौर पर जयप्रकाश नारायण विश्वविद्यालय, छपरा के कुलपति प्रोफेसर फारूक अली तथा विशिष्ट अतिथि के तौर पर गोपालगंज जिले के पुलिस अधीक्षक आनंद कुमार, जयप्रकाश नारायण विश्वविद्यालय, छपरा के कुलसचिव डॉ रवि प्रकाश बबलू, पूर्व विधायक मिथिलेश तिवारी, डॉ जाकिर हुसैन संस्थान के निदेशक राकेश कुमार दुबे शामिल हुए।  कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के पटना स्थित रीजनल आउटरीच ब्यूरो के कार्यक्रम प्रमुख सह क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी पवन कुमार सिन्हा ने कहा कि गोपालगंज में आयोजित यह अमृत महोत्सव फोटो प्रदर्शनी अपने उद्देश्यों को पूरा करने में सफल रहा है। इन तीन दिनों तक जिस प्रकार यहां के छात्र-छात्राओं, नवयुवकों ने बढ़-चढ़कर फोटो प्रदर्शनी, प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता, सांस्कृतिक कार्यक्रमों में हिस्सा लिया, वह सराहनीय रहा। उन्होंने कहा कि रीजनल आउटरीच ब्यूरो अपने क्षेत्रीय इकाइयों के माध्यम से इस वित्त वर्ष में पूरे बिहार भर के जिलों में केंद्र सरकार की विभिन्न योजनाओं, कार्यक्रमों एवं नीतियों के बारे में जन-जन को जागरूक करने का का कार्य करेगा।  कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल जयप्रकाश नारायण विश्वविद्यालय छपरा के कुलपति प्रोफेसर फारूक अली ने कहा कि चाहे वह आजादी का दौर रहा हो या फिर कोई भी अन्य क्षेत्र, बिहार हर दौर में आगे रहा है, आज भी है और आगे भी रहेगा। उन्होंने कहा कि शिक्षा के माध्यम से हम वास्तव में स्वच्छ और स्वस्थ समाज का निर्माण कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि हमें अपने स्वतंत्रता सेनानियों के मूल्यों, कार्यों से बहुत कुछ सीखने और अपनी आने वाली पीढ़ी को सिखाने की जरूरत है।  विशिष्ट अतिथि के तौर पर शामिल गोपालगंज जिले के पुलिस अधीक्षक आनंद कुमार ने कहा कि सारण, सिवान और गोपालगंज आजादी के दौर में महत्वपूर्ण स्थलों में से एक रहा है, जहां कई वीर क्रांतिकारी और सपूतों ने जन्म लिया है। उन्होंने जयप्रकाश नारायण विश्वविद्यालय के कुलपति से आग्रह करते हुए कहा कि इन जिलों के स्वतंत्रता सेनानियों की पृष्ठभूमि, उनके कार्यकलाप, वे किस प्रकार की विचारधारा से प्रेरित होते थे, वे किस तरीके का समाज चाहते थे, इन सब बातों पर शोध किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि बिहार के स्वतंत्रता सेनानियों का  जितना प्रचार-प्रसार किया जाना चाहिए था उतना नहीं हुआ है। इस दिशा में कार्य किया जाना चाहिए। जयप्रकाश नारायण विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ रवि प्रकाश बबलू ने कहा कि हमें अपने राष्ट्र के निर्माताओं, आजादी में अपनी महती भूमिका निभाने वाले स्वतंत्रता सेनानियों के जीवन से सीख लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमारा इतिहास समृद्ध शाली है जो हमें समृद्ध बनाता है।  उन्होंने कहा कि जिस तरह से इतिहास का लेखन किया गया है, उनमें कई हमारे स्वतंत्रता सेनानी खासकर बिहार के वे गुमनाम नायक जिन्होंने आजादी में अपनी महती भूमिका निभाई है, वे  छूट गए हैं। यह आजादी का अमृत महोत्सव फोटो प्रदर्शनी उन्हीं क्रांतिकारियों की याद हमें दिलाता है। वे चेहरे जो चर्चित नहीं रहे हैं, उन्हें इस फोटो प्रदर्शन में शामिल किया गया है और यही इस फोटो प्रदर्शनी की सबसे खास बात है। गोपालगंज के पूर्व विधायक मिथिलेश तिवारी ने सांस्कृतिक दल के कलाकारों के द्वारा प्रस्तुत की गई लघु नाटिका की सराहना करते हुए  कहा कि इस नाटक को देखते हुए ऐसा लग रहा था, जैसे हम इतिहास को देख रहे हों। उन्होंने कहा कि अगर हमारा सुनहरा इतिहास ना हुआ होता तो आज हम सुनहरे भविष्य में नहीं जी रहे होते। फोटो प्रदर्शनी के समापन के दिन भी सांस्कृतिक कलाकारों ने अपने रंगारंग कार्यक्रमों से सबका दिल जीत लिया। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के विभागीय कलाकारों ने 'बिहार बिहार' नृत्य के माध्यम से बिहार की संस्कृति, परंपरा, पर्व आदि का शानदार प्रस्तुति की। सभी लोगों ने खूब आनंद उठाया। आपसदारी कला मंच के कलाकारों ने गांधीजी की जीवनी पर लघु नाटिका का मंचन किया। सूचना प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के विभागीय कलाकारों में राकेश चंद्र आर्य, अंजना झा, आरती झा, दीपक शर्मा, मनीष खंडेलवाल, डॉ शिप्रा, अभय, उषा, संजीत राम, साधना श्रीवास्तव, विकास शामिल थे।  बच्चों के बीच प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें सफल प्रतिभागियों को अतिथियों के द्वारा पुरस्कृत किया गया। प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में स्मृति सिंह, प्रतिक्षा मिश्रा, कोमल राज, पंकज मिश्रा, अंजली कुमारी, विनीत कुमार, नदीम सहित अन्य सफल प्रतिभागियों को आजादी का अमृत महोत्सव कब देकर पुरस्कृत किया गया। बीते तीन दिनों तक फोटो प्रदर्शनी में स्वास्थ्य विभाग, आईसीडीएस गोपालगंज तथा जीविका की ओर से लगाए गए स्टॉल के प्रभारी एवं उनमें शामिल सभी लोगों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। गोपालगंज जिले के दूरदर्शन के संवादाता मधेश तिवारी को उनके उल्लेखनीय सहयोग हेतु प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। इसके साथ ही डॉ जाकिर हुसैन संस्थान के छात्र-छात्राओं को भी उनके सहभागिता हेतु प्रशस्ति पत्र दिया गया। समापन समारोह का धन्यवाद ज्ञापन जावेद अख्तर अंसारी, क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी, सीतामढ़ी ने किया। कार्यक्रम का संचालन सहायक क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी अमरेंद्र मोहन ने किया। मौके पर सहायक क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी सर्वजीत सिंह, ग्यास अख्तर अंसारी सहित विभाग के निशांत कुमार, अशोक कुमार, सुरेंद्र कुमार, राकेश कुमार, रोशन कुमार आदि मौजूद थे। 

कोई टिप्पणी नहीं: