स्वीयाटेक बनी फ्रेंच ओपन की मल्लिका - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 5 जून 2022

स्वीयाटेक बनी फ्रेंच ओपन की मल्लिका

ega-won-french-open
पेरिस, 04 जून, विश्व की नंबर एक खिलाड़ी पोलैंड की इगा स्वीयाटेक ने फ़ाइनल में अमेरिका की युवा खिलाड़ी कोको गॉफ को निर्मम अंदाज में शनिवार को 6-1, 6-3 से हराकर दूसरी बार फ्रेंच ओपन का महिला खिताब जीत लिया। 2020 फ्रेंच ओपन विजेता स्वीयाटेक ने इस जीत के साथ इस सदी में लगातार सबसे ज्यादा मैच जीतने वाली अमेरिका की वीनस विलियम्स के रिकॉर्ड की बराबरी की और खिताब अपने नाम किया। स्वीयाटेक ने अपने पिछले छह टूर्नामेंट जीत लिए हैं और इस सत्र में अपना रिकॉर्ड 42-3 पहुंचा दिया है। दूसरी तरफ अपना पहला ग्रैंड स्लेम फ़ाइनल खेल रही गॉफ खिताबी मुकाबले में स्वीयाटेक के सामने कोई ख़ास चुनौती पेश नहीं कर सकीं और लगातार सेटों में हार गयीं। इगा स्वीयाटेक को इस मुकाबले को जीतने में सिर्फ 68 मिनट ही लगे। पहले सेट में हारने के बाद दूसरे सेट में गॉफ ने स्वीयाटेकक का सर्विस ब्रेक किया और 2-0 की बढ़त बना ली, लेकिन पोलैंड की खिलाड़ी ने जोरदार वापसी करके हुए सेट के साथ ही टाइटल अपने नाम कर लिया। वर्ल्ड नंबर-23 गॉफ के पास 2006 में मारिया शारापोवा के बाद ग्रैंड स्लैम जीतने वाली सबसे कम उम्र की महिला खिलाड़ी बनने का मौका था, लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली। मुकाबले में हार के बाद गॉफ की आखों से आंसू निकल आए। पूरे मुकाबले में एक बार भी नहीं लगा कि गॉफ वर्ल्ड कप एक महिला खिलाड़ी स्वीयाटेक को टक्कर दे पा रही हैं। 18 साल की कोको गॉफ का यह पहला ग्रैंड स्लैम फाइनल मुकाबला था। 21 साल की इगा स्वीयाटेक ने दूसरी बार फ्रेंच ओपन का खिताब जीता। उन्होंने इससे पहले 2020 में महिला सिंगल्स का फाइनल जीता था। इसके अलावा उन्होंने कोई ग्रैंड स्लैम का खिताब नहीं जीता है। यह उनकी लगातार 35वीं जीत भी है। उनका यह लगातार छठा खिताब है। उन्होंने लगातार 35 मैच जीतने के वीनस विलियम्स के रिकॉर्ड की बराबरी भी कर ली है। स्वीयाटेक को अभी तक अपने सिंगल्स करियर के फाइनल में हार नहीं मिली है। उनका यह 9वां फाइनल मुकाबला था और सभी में उन्होंने विपक्षी खिलाड़ी को पटखनी दी है। इस मैच को देखने के लिए पोलैंड के स्टार फुटबॉलर रॉबर्ट लेवानडोव्स्की भी स्टेडियम में पहुंचे थे। जीत के बाद ने उन्हें स्टैंड्स में जाकर गले लगा लिया। स्वीयाटेक पोलैंड के लिए फ्रेंच ओपन जीतने वाली इकलौती खिलाड़ी हैं। उनके अलावा अब तक पोलैंड के किसी पुरुष या महिला खिलाड़ी ने एकल वर्ग में खिताब नहीं जीता है। स्वीयाटेक दो फ्रेंच ओपन जीतने वाली 11वीं महिला खिलाड़ी बन गई हैं। इस मामले में उन्होंने रूस की मारिया शारापोवा और अमेरिका की मार्टिना नवरातिलोवा की बराबरी कर ली। सबसे ज्यादा फ्रेंच ओपन जीतने वाली महिला खिलाड़ी अमेरिका की क्रिस एवर्ट हैं। एवर्ट 1974, 1975, 1979, 1980, 1983, 1985 और 1986 में जीती थीं। कोको गॉफ पहली बार किसी ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंची थीं। लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा। स्वीयाटेक के जीतते ही गॉफ रोने लगीं। काफी देर तक रोने के बाद वो शांत हुईं। कोको ऑस्ट्रेलियन ओपन और विम्बलडन ओपन के चौथे राउंड तक पहुंच चुकी हैं। 2019 (विम्बलडन) में पहली बार वह किसी ग्रैंड स्लैम के चौथे राउंड में पहुंची थीं। उनका तीन साल का लंबा इंतजार फ्रेंच ओपन में खत्म हुआ। इस बार फाइनल में तो पहुंचीं, लेकिन जीत नहीं हासिल कर सकी। उन्हें अपने पहले ग्रैंड स्लैम खिताब के लिए इंतजार करना होगा।

कोई टिप्पणी नहीं: