बिहार : जाति आधारित गणना से सभी को होगा लाभ : नीतीश - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शनिवार, 4 जून 2022

बिहार : जाति आधारित गणना से सभी को होगा लाभ : नीतीश

everyone-benefited-from-caa-census-nitish
पटना : बिहार में जाति आधारित गणना को लेकर फैसला हो चुका है। दो दिन पहले नीतीश कैबिनेट द्वारा इस पर मुहर लगा दी गई है। इधर, ना चाहते हुए भी भाजपा को इस पर अपना समर्थन देना पड़ा। जहां भाजपा ने सर्वदलीय बैठक में नीतीश की हां में हां मिलाया और उसके बाद कैबिनेट के प्रस्ताव पर भी सहमति जताई, वहीं नीतीश कुमार इस जाति आधारित भाजपा को अधिक महत्व देते हुए नजर नहीं आ रहे हैं। दरअसल, जाति आधारित गणना को लेकर भाजपा की तरफ से यह आशंका जताई गई थी कि कहीं ऐसा ना हो कि इस गणना का बिहार में रोहिंग्या और बांग्लादेशी मुसलमान फायदा उठा लें। लेकिन, भाजपा के इस आशंका पर नीतीश कुमार कहीं भी ध्यान देते हुए नजर नहीं आ रहे हैं। बिहार में जाति आधारित गणना पर मुहर लगने के बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शनिवार को अपनी प्रतिक्रिया दी है। सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि बिहार में जाति आधारित गणना होने से सभी लोगों को फायदा होगा। यह सब के हित में है। इसके अलावा सीएम नीतीश कुमार ने इसके फायदे भी गिनाए लेकिन जब इसको लेकर सीएम नीतीश कुमार से सवाल किया गया तो भाजपा की तरफ से जताई जा रही आशंका को लेकर हुआ तो नीतीश कुमार से सवाल किया गया तो उन्होंने किनारा कर लिया उन्होंने सवाल को सुन कर भी अनसुना करने का इशारा कर पुराने सवालों पर अपनी प्रतिक्रिया देने लगे। बहरहाल, अब देखने वाली बात यह है कि जब बिहार में जाति आधारित गणना शुरू होती है तब क्या नीतीश कुमार द्वारा भाजपा की तरफ से की गई मांगों पर विचार किया जाता है या फिर नहीं। वहीं, यदि नीतीश कुमार भाजपा की मांग नहीं मांगते हैं तब कहीं ना कहीं वह भाजपा को एक नया संदेश भी देते हुए नजर आएंगे।

कोई टिप्पणी नहीं: