हिमंत बिस्व सरमा ने नगालैंड के मुख्यमंत्री के साथ बैठक की - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 3 जून 2022

हिमंत बिस्व सरमा ने नगालैंड के मुख्यमंत्री के साथ बैठक की

hemant-vishwa-sharma-meeting-with-naga-cm
दीमापुर, तीन जून, असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने नगा राजनीतिक मुद्दे पर नगालैंड सरकार की कोर समिति के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक की। सूत्रों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। पूर्वोत्तर लोकतांत्रिक गठबंधन (नेडा) के समन्वयक सरमा बृहस्पतिवार शाम दीमापुर पहुंचे और चुमूकेदिमा स्थित नियाथु रिजॉर्ट में देर रात तक चली बैठक में शामिल हुए। सूत्रों के मुताबिक, बंद कमरे में हुई इस बैठक में नगालैंड के मुख्यमंत्री निफियू रियो, राज्यसभा सदस्य फांगोन कोन्याक और यूडीए अध्यक्ष टीआर जेलियांग समेत समिति के 16 सदस्य मौजूद थे। असम सरकार में मंत्री पीजूष हजारिका भी सरमा के साथ बैठक में उपस्थित थे। सूत्रों के अनुसार, बैठक देर रात तक चली। यह दूसरी बार है, जब नगा राजनीतिक मुद्दे पर चर्चा के लिए सरमा नगालैंड पहुंचे हैं। इससे पहले, उन्होंने सितंबर 2021 में राज्य का दौरा किया था और नगालैंड के मुख्यमंत्री की उपस्थिति में एनएससीएन (आईएम) से बातचीत की थी। कोर समिति ने केंद्र से बातचीत कर मुद्दे के समाधान के लिए नेडा के समन्वयक के तौर पर सरमा की मदद मांगी है। सरमा ने बुधवार को कहा था कि यह एक जटिल मुद्दा है और केंद्र तथा एनएससीएन (आईएम) को मिलकर इसका समाधान निकालना चाहिए। केंद्र सरकार 1997 से एनएससीएन (आईएम) और 2017 से नगा राष्ट्रीय राजनीतिक समूह (एनएनपीजी) के साथ अलग-अलग बातचीत कर रही है। केंद्र ने तीन अगस्त 2015 को एनएससीएन (आईएम) के साथ एक समझौते पर और 17 नवंबर 2017 को एनएनपीजी के साथ एक ‘सहमति स्थिति’ पर हस्ताक्षर किए थे। हालांकि, अभी तक इस मुद्दे का कोई समाधान नहीं निकल पाया है, क्योंकि एनएससीएन (आईएम) नगा समुदाय के लिए अलग झंडे और अलग संविधान की मांग पर अड़ा हुआ है।

कोई टिप्पणी नहीं: