भारत बंगलादेश के बीच तीसरी यात्री ट्रेन सेवा शुरू - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 1 जून 2022

भारत बंगलादेश के बीच तीसरी यात्री ट्रेन सेवा शुरू

third-train-for-india-bangladesh
नयी दिल्ली 01 जून, भारतीय रेलवे ने बंगलादेश के लिए तीसरी यात्री रेल सेवा के रूप में उत्तरी पश्चिम बंगाल के न्यू जलपाईगुड़ी स्टेशन से ढाका कैंट के लिए मिताली एक्सप्रेस का आज शुभारंभ किया गया। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव और भारत की यात्रा पर आये बंगलादेश के रेल मंत्री मोहम्मद नूरुल इस्लाम सुजान ने यहां रेल मंत्रालय में आयोजित एक वर्चुअल कार्यक्रम में वीडियो लिंक के माध्यम से हरी झंडी दिखा कर न्यू जलपाईगुड़ी से मिताली एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखा कर रवाना किया। रेलसेवाओं के माध्यम से भारत और बंगलादेश के लोगों के बीच संपर्क को और मजबूत करने के लिए दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों की वर्चुअल बैठक में इस रेल सेवा के परिचालन का फैसला 27 मार्च, 2021 को लिया गया था। लेकिन कोविड महामारी प्रतिबंधों के कारण यह रेलगाड़ी शुरू नहीं की जा सकी थी। यह रेल सेवा हाल ही में बहाल की गई हल्दीबाड़ी-चिलाहाटी रेल लिंक के माध्यम से परिचालित की जाएगी। इस अवसर पर अपने संबोधन में श्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि मिताली एक्सप्रेस भारत एवं बंगलादेश की दोस्ती को बढ़ाने, इस बंधन को मजबूत करने, इस रिश्ते को बेहतर बनाने में एक और महत्वपूर्ण उपलब्धि सिद्ध होगी। दोनों देशों के बीच सभी स्तरों पर मधुर मित्रता से विकास में बहुत तेजी आई है। दोनों देशों की रेलवे के बीच काफी सहयोगात्मक प्रयास किए गए हैं। यह एक बहुत ही उपयुक्त एवं एक ऐसा क्षण जब हमें दोनों देशों के बीच अपने संबंधों को मजबूत करने के लिए बड़े कदम उठाने चाहिए। मिताली एक्सप्रेस रेलगाड़ी सप्ताह में दो दिन चलेगी। न्यू जलपाईगुड़ी से रविवार और बुधवार को 11:45 बजे और रवाना होकर 22:30 बजे ढाका कैंट पहुंचेगी तथा वापसी में सोमवार और गुरुवार को 21:50 बजे ढाका कैंट से चलेगी और 07:15 बजे न्यू जलपाईगुड़ी पहुंचेगी। न्यू जलपाईगुड़ी से ढाका कैंट तक 595 किलोमीटर की दूरी तय करेगी जिसमें से 61 किलोमीटर भारतीय हिस्सा और 534 किलोमीटर बंगलादेश का हिस्सा है। भारतीय रेलवे के एलएचबी कोच का उपयोग किया गया है जिसमें 4 डिब्बे प्रथम वातानुकूलित श्रेणी, 4 डिब्बे वातानुकूलित चेयर कार और 2 इंजन शामिल हैं। रेलगाड़ी में तीन श्रेणिया होंगी जिनमें - वातानुकूलित प्रथम श्रेणी (केबिन) शयनयान, वातानुकूलित प्रथम श्रेणी (केबिन) सीट और वातानुकूलित चेयर कार शामिल होंगी। इस रेलगाड़ी का किराया क्रमशः 44 अमेरिकी डॉलर, 33 अमेरिकी डॉलर और 22 अमेरिकी डॉलर होगा। गाड़ी को रास्ते में हल्दीबाड़ी एवं चिलाहाटी रेलवे स्टेशनों पर तकनीकी हाॅल्ट दिया गया है। अतिरिक्त नई यात्री सेवा, मिताली एक्सप्रेस, दोनों देशों के बीच पर्यटन को बढ़ावा देगी क्योंकि यह बंगलादेश को उत्तर बंगाल के साथ-साथ भारत के पूर्वोत्तर क्षेत्र से जोड़ती है। इस रेलगाड़ी द्वारा भारत के माध्यम से बंगलादेशी नागरिकों को नेपाल जाने का साधन भी प्रदान करेगा। भारत और बंगलादेश के बीच इस समय दो मौजूदा यात्री रेल सेवाएं -कोलकाता-ढाका-कोलकाता मैत्री एक्सप्रेस (सप्ताह में पांच दिन) और कोलकाता-खुलना-कोलकाता बंधन एक्सप्रेस (सप्ताह में दो दिन) परिचालित हो रही है। ये दोनों रेलसेवाएं, जिन्हें कोविड महामारी संबंधी प्रतिबंधों के कारण निलंबित कर दिया गया था, गत 29 मई से फिर से शुरू कर दी गई हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: